नए साल में चार औरतों ने मुझे बंधक बना कर चुदवाया

नए साल का जश्न में मुझे चार औरतों ने बंधक बना कर मुझसे चुदवाया और मारा भी जब मैं चोद नहीं पाया। आखिर एक लड़का तीन तीन सेक्सी और हवस की दीवानी औरतों को कैसे चोद कर खुश कर सकता है। यही हाल मेरे साथ भी हुआ शुरू शुरू में तो ठीक लगा जब एक को चोदा और फिर दूसरी को चोदा पर उसके बाद तो मुझे सिर्फ मार ही लगा। आज मैं आपको पूरी कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर सुनाने जा रहा हूँ।

ज़िंदगी में अच्छी चीजें जल्दी नहीं होती है कभी कभी ये मौक़ा मिलता है। मेरे साथ भी मौक़ा मिला था चूत का का पर मैं चोद नहीं पाया। मेरा नाम संजय है। मैं एक कंपनी में काम करता हूँ। जिस डिपार्टमेंट में मैं हूँ उसमे सिर्फ मैं ही लड़का हूँ और सब औरत ही है। और मेरे से सब बड़ी है। तो 30 दिसंबर को ही प्लान बन गया था की इकतीस की रात को पार्टी करेंगे और जश्न मनाएंगे। उसमे मुझे भी शामिल कर लिया गया। मैं और चार महिलाएं उस पार्टी के लिए तैयार हो गए।

और हम लोग को पार्टी राखी मैडम के घर पर करना था क्यों की राखी मैडम अकेली रहती है। उनका उनके पति से तलाक हो गया है। बाकी तीन और औरत जो है वो काफी मॉडर्न है एक का पति दुबई में रहता है। दूसरी का पति अपने मासूका को आजतक नहीं छोड़ पाया तो उसके साथ वो पार्टी के लिए प्लान किया। तीसरी औरत जो है उसका पति तो डरा हुआ इंसान है। बीवी की चलती है तो वो मना भी नहीं कर सकता की तुम कहा जा रही हो इसलिए वो कुछ नहीं बोला. और एक राखी मैडम की सहेली जो मेरे ऑफिस में नहीं है पर वो राखी मैडम की दोस्त है वो भी थी अब हमलोग पांच हो गए थे।

अब पांचो करीब आठ बजे शाम को ही आ गए। चारों महिलाएं एक पर एक लग रही थी हॉट और सेक्सी। सारे मॉडर्न ड्रेस पहनी हुई थी ,और जब सब साथ थी तो और भी खुल चुकी थी। मैं लड़का था पर वो लोग खुल पर आपस में बात कर रही थी । बिंदास थे सब लोग। मेरा लंड तो तब से ही खड़ा होना शुरू हो गया था। जब मैं सबकी चूचियां देख रहा था। किसी की गांड किसी का पेट ओह्ह्ह्हह्ह मैं तो पहले से भी पागल होने लगा था। मैं तो भगवान् से मना रहा था की काश मुझे आज इन चारों में से किसी को चोदने का मौक़ा मिल जाये तो भगवान् का शुक्रगुजार हो जाऊंगा.

इसके बाद जरूर पढ़ें  पति के घर में रहते मुझे चोदा मेरा आशिक कैसे जानिए

उसके बाद वो चारों और मैं ड्राइंग रूम में बैठकर पेग बनाने लगे. दो दो पेग लिए और पनीर गरमा गरमा ग्रिल किया हुआ। मजा आ गया था। मुझे हल्का हल्का नशा आने लगा। और वो चारो भी बिंदास होकर बात कर रहे थे। सब लोगों को हलकी हलकी नशा हो गया था। तभी मुझे पेशाब लगा और मैं पेशाब करने चला गया। जैसे ही मैं पेशाब कर के बाहर आने के लिए दरवाजा खोला तभी एक महिला जिसका नाम था रुपाली आई और मुझे धक्के देकर बाथरूम के अंदर कर दी। और मुझे चूमने लगी। मुझे दिवार में चिपका दिया और मेरे ऊपर टूट पड़ी।

मैं करता भी क्या मेरे होश उड़ गए इतनी खूबसूरत महिला और आपको किस करने लगे तो क्या होगा आप खुद सोचो। मैं भी चूमने लगा। और मैं अपना हाथ उसके चूचियों पर रख दिया मस्त गोल गोल टाइट चूची से मेरा दिमाग खराब हो गया. ओह्ह्ह दोनों ने करीब तीन मिनट तक ही चूमा वैसे ही रुपाली मुझे छोड़ दी और बाहर चली गयी. मैं अपने मुँह से लिपस्टिक साफ़ करने लगा क्यों की रुपाली की लिपस्टिक लग गयी थी।

तभी वह रेखा आ गई और उसने मुझे जोर से पकड़ा और अपना जीभ मेरे मुँह में डाल दी और मेरे बाल पकड़ पर ओह्ह्ह्हह लिप लॉक कर ली। मेरा लंड तो पहले से ही खड़ा था। अब मैं कामुक हो गया था मैंने तुरंत ही उसके बाल पकड़े और होठ को चूसने लगा. उसके बाद मैं उसकी चुकियाँ दबाने लगा। वो तभी पीछे घूम गयी और अपना गांड मेरे लंड से सटाने लगी और रगड़ने लगी।

इसके बाद जरूर पढ़ें  पापा ने अकेली देख मुझे चोदकर अपनी हवस शांत की

ओह्ह्ह्हह मजा आ रहा था। फिर वो भी थोड़े देर में बाहर चली गयी.

अब फिर दीपिका आई और आते ही उसने मेरे लंड पकड़ कर चूसने लगी बैठकर। हाय क्या बताऊँ दोस्तों मैं पागल हो गया था आखिर मेरे साथ क्या हो रहा था क्या उन चारों ने कोई प्लान बनाया था। पर मुझे क्या मुझे तो हॉट किश और चूचियां मिल रही थी।

वो चूसने लगी मैं उसको किस करना चाह रहा था तो वो भी मना नहीं की और मुझे जी भर कर और मैं भी जी भर कर चूमा एक दूसरे को। फिर वो भी चली गयी और फिर चौथी जिसका नाम अंजू था वो आई वो आते ही मेरे ऊपर टूट पड़ी। मेरा हाथ अपनी चूत पर रखी और मेरे होठ को चूसने लगी. मैं भी उसको खुश करने लगा. वो बहुत ही ज्यादा सुन्दर ही।

फिर बाहर से आवाज आई आओ बाहर। मैं भी गया और अंजू भी गयी. अब सबको पता था क्या हो रहा था। क्यों की चारों मुझे चुम रही थी थी। वो लोग शायद पहले ही प्लान बना चुके थे पर मुझे नहीं पता था इसके बारे में। फिर बाहर जाकर। खाना खाया और फिर पेग लिया तब तक बारह बज गए पटाखे फुट रहे थे। सबने एक दूसरे को गले लग कर बधाई दिया नए साल का.

फिर क्या था दोस्तों। दो औरत मुझे अंदर ले गयी और दो बहार ही पी रही थी। अंदर जाकर अपने दोनों ने अपने कपडे उतारे और मेरे ही उतारे और दोनों मिलकर मुझसे चुदवाने लगी। ओह्ह्ह्ह क्या बताऊँ क्या सेक्सी रात मेरे लिए थी। दोनों को मैं एक एक कर के चोदने लगा। वो दोनों भी आपस पर अपनी चूत कभी बूब चटवा रही थी और मैं एक एक करके चोद रहा था जैसा की फिल्मो में होता है।

इसके बाद जरूर पढ़ें  जवानी की प्यास सेक्स कहानी ठंड में गरमा गरम

दोनों को बड़ी मुश्किल से संतुष्ट किया। और वो दोनों निढाल हो गयी. तभी दूसरे कमरे में मुझे दूसरी बुलाई। अब मैं क्या करता वो दोनों काफी नशे में थी। मेरे ऊपर चढ़ गयी सारे कपडे खोल दी कोई मेरे मुँह में चूचियां देती कोई अपनी चूत चटवाती को मेरे गांड में अपनी चूचियां रगड़ती।

दोस्तों ये सब तो ठीक था पर मेरा लंड खड़ा नहीं हो रहा था। झड़ चुका था पहले ही। उसके बाद दोनों ने मुझे ऐसी हालत कर दी मैं कह नहीं सकता वो दोनों मुझे कह रही थी मुझे चोदो पर मैं क्या करता मैं चोद नहीं सकता था। मैं तक गया था।

फिर दोनों ने मिलकर मेरी पिटाई कर दी। मैंने कहा की मुझे और भी कुछ करवा लो. मैं गांड चाट लूंगा चूत चाट लूंगा पर वो दोनों कह रही थी नहीं मुझे तो लंड ही चाहिए।

दोस्तों आधी रात तक तो सब कुछ अच्छा रहा था पर उसके बाद मेरी हालात ख़राब हो गयी थी। किसी तरह दोनों के चुत में लंड घुसाया और थोड़े देर तक चोदा। तब जाकर वो सब मुझे छोड़ी और घर आने दी.