बहन की बेटी की चुदाई की सच्ची कहानी

loading...

Bahan ki beti ki chudai, mama bhanji sex story in Hindi : कभीकभी कुछ ऐसा हो जाता है जो पूरी ज़िंदगी के लिए यादगार हो जाता है। ऐसा ही हुआ मेरे साथ दिल्ली में। मैं कल रात अपनी भांजी की चुदाई कर दी। और वो भी उसी के मन से यानी की उसने मुझे ऑफर किया चुदने के लिए। आज मैं नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर अपनी ये कहानी पोस्ट कर रहा हूँ।


दोस्तों मेरा नाम रवि है और मैं 30 साल का हूँ। दिल्ली में रहता हूँ। मेरी बीवी अभी मायके गयी है लखनऊ पंद्रह दिन के लिए तो अकेले था इसलिए मुझे ये मौक़ा मिल गया। क्या हुआ कैसे हुआ और कैसे मुझे मेरी भांजी चुदाई के लिए तैयार हो गयी। अब जानते हैं।

मैं भाई बहनो में सबसे छोटा हु। मेरी बड़ी बहन की बेटी जो की कनाडा में एम बी ए की पढाई कर रही है। अभी लखनऊ आई हुई थी और कोरोना के चलते रुक गयी थी। उसको कनाडा के लिए निकलना था तो उसकी फ्लाइट दिल्ली से थी। तो वो लखनऊ से दो दिन पहले ही दिल्ली आ गयी थी।

क्यों की किसान आंदोलन के चलते कई सारे रस्ते बंद थे इसलिए वो पहले आई ताकि कोई दिक्कत नहीं हो। मैं दिल्ली में अकेले ही था। तो वो मेरे फ्लैट में ही आकर रुकी। ऐसे भी कोई बात नहीं था। मामा भांजी का रिश्ता तो बहुत ही खास होता है। पर हालत जब ऐसे बन जाते हैं की शारीरिक सम्बन्ध तक बन जाते है।


दिल्ली वो करीब चार बजे पहुंची थी। फ्लाइट परसों थी। यानी वो मेरे यहाँ दो रात रूकती। शाम को हम दोनों बाहर घूमने गए। खाये पीये। वो मेरे से ज्यादा नहीं सिर्फ दस साल की छोटी है। वो फ्रेंडली व्यवहार कर रही थी बाहर। ऐसा लग ही नहीं रहा था की मैं उसका मामा हूँ वो मुझे बॉयफ्रेंड के तरह ट्रीट कर यही थी।


मैं भी बहती गंगा में हाथ धो लिया। जब एक खूबसूरत हॉट लड़की साथ हो तो रिश्ते मायने नहीं रखते। बस आकर्षण हो जाता है। रात को हम दोनों करीब दस बजे घर आये। दोनों खाना खा ही चुके थे। मैं हीटर चला दिया था रूम में तो वो अपना गरम कपडे उतार दी और बेड पर बैठ गयी। मैं उसको देख कर हॉट होने लगा था क्यों की वो बहुत हॉट दिख रही थी। बड़ी बड़ी चूचियां गोल गोल जांघ। पतली कमर ऊह्ह्ह्ह क्या बताऊँ दोस्तों।

मेरा मन डोलने लगा। पर कुछ नहीं कर सकता था ना कुछ बोल सकता था। बस एक बात बोल पाया की क्या एक पेग लेगी। वो तुरंत भी हां कर दी। मैं भी पेग बनाया व्हिस्की का वो भी पि और मैं भी। पहले एक फिर दो। दो दो पेग पिने के बाद तो वो और भी हॉट और सेक्सी लगने लगी।


वो अपनी सेक्सी नजरों से जब मेरे को देख रही थी तो मैं उसकी समुद्र सी आँखों में डूब गया। मन ही मन सोचने लगा की काश वो मुझे चोदने दे दे तो जन्नत मिल जाये मुझे। तभी वो बोली क्या कुछ और विचार है क्या ? तो मैं बोला बोलो बोलो क्या खाने हैं पीने है। तुरंत भी हाजिर होगा। तो वो बोली पेट भर गया, व्हिस्की पी कर मूड भी बन गया पर जिस्म की आग जल रही थी। आप चाहो तो मेरे साथ। ………..

मैं सन्न रहा गया मेरी सगी भांजी मुझे ऑफर दे रही थी। समझ आ गया था ये कनाडा का हवा लग गया जहा रुके जिसके घर में रुके। रात में उसी से चुदाई। तो मुझे क्या एतराज मैं भी बोला कोई बात नहीं मैं हूँ ऐसे ही मेरी बीवी नहीं है और कई दिनों से नसीब नहीं हुआ चुत का।

मैं तुरंत भी उसके बेड पर पहुंच गया। वो पहले मुझे अपने बाहों में भर ली। नशीली आँखों से देखि। और फिर वो अपना होठ मेरे होठ पर रख दी। और आँखे बंद कर मेरे होठ को चूसने लगी। ओह्ह्ह्हह मजा आ गया नरम नरम गुलाबी होठ को जब मैं चूसने लगा तो मेरे तन बदन में आग लग गयी और मेरा लौड़ा खड़ा होने लगा.

उसने तुरंत ही मेरा लंड पकड़ ली। और मसलने लगी। मैं भी उसमे बूब्स को दबाने लगा। अब वो मेरा लंड पकड़ कर दबा रही थी और मैं उसके बूब्स को दबा रहा था। दोनों लिप लॉक किये हुए थे। मैं तुरंत अपना कपड़ा उतार दिया। और वो भी अपना कपड़ा उतार दी। बस मैं ब्रा का हुक खोला क्यों की वो खुल नहीं रहा था उससे।


फिर क्या था दोस्तों मैं उसके चूत को चाटना चाहता था और वो मेरे लंड को चूसना चाहती थी। दोनों 69 पोजीशन में आ गया। वो मेरा लंड चूसने लगी और मैं उसके चूत को चाटने लगा। वो बार बार पानी छोड़ रही थी। चूत की नमकीन पानी पीने का मजा ही कुछ और होता है।

ओह्ह्ह हम दोनों बड़ी ही सिद्दत से एक दूसरे को खुश कर रहे थे। फिर मैं घूम गया और उसके चूचियां दबाते हुए उसके निप्पल को दांत से काटने लगा। वो आह आह आ ओह्ह्ह ओह्ह्ह करने लगी मैं चूस चूस कर लाल कर दिया था उसके निप्पल को, वो अब और भी ज्यादा कामुक हो गयी थी।

मैं अब जल्द से जल्द उसके चूत में अपना लंड डालने की सोचने लगा। वो थोड़ा और टाइम लेना चाहती थी। वो पक्की खिलाडी थी चुदाई की। पहले वो गरम हो गयी। जब चूत से सफ़ेद सफ़ेद क्रीम आने लगा। उसकी चूचियां तन गयी। होठ लाल लाल हो गए। आँखे भी लाल हो गयी तब वो बोली मेरे जिस्म की गर्मी को अब शांत कर दो।

मैं तुरंत ही उसके दोनों पैरों को अलग अलग किया और अपना मोटा लौड़ा उसके चुत में मुँह पर रखा और पेल दिया। वो अअअअअअअ करने लगी। अब मैं चूचियां दबाते हुए होठ चूसते हुए अपने दोनों हाथों को उसके चूतड़ के निचे रखकर। जोर जोर से अपना लंड चुत में पेलने। लगा आह आह आह की आवाज पुरे कमरे में गुजने लगाए. मैं जोर जोर से धक्के देने लगा।

वो अपना गांड घुमा घुमा कर निचे से धक्के देने लगी। जोर से मुझे पकड़ ली। मुझे छोड़ नहीं रही थी। अपना नाख़ून मेरे पीठ में गड़ा रही थी। मैं जोर जोर से पेलते हुए बूब्स को दबाने लगा मसलने लगा. कभी दो उंगलियों से उसके निप्पल को दबाते तो कभी मसलने लगता।

ऐसा करने पर वो और भी ज्यादा कामुक हो जाती और फिर जोर जोर से निचे से धक्के देने लगती। फिर क्या था दोस्तों वो मेरे से पूरी रात चुदाई करवाई। मैं भी खुश करते रहा। दूसरे दिन हम दोनों ही दिन के बारह बजे सोकर उठे। खाना बाहर से मंगवाया और फिर से चुदाई।

दो दिन मेरे से खूब चुदी मैं भी खूब मजे लिए जवान चुत का वो भी रिश्ते की चुदाई का मजा ही कुछ और होता है। मुझे खुश कर के कनाडा चली गयी। मैं जल्द ही अपनी दूसरी कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर लेके आने वाला हूँ।