सरदार जी ने मेरी माँ को चोदा मेरे सामने


Sardar Sex Story, मेरा घर पानीपत में है। आजकल किसान आंदोलन चल रहा है। तो सारे किसान गरम है रोड बंद कर रखा है। कल रात को मेरी माँ चुद गयी अपने पुराने यार से यानी सरदार जी से। जो की दिल्ली जा रहे थे अमृतसर से आ रहे थे। आज मैं आपको अपनी माँ और सरदार जी की पूरी कहानी बताने जा रही हूँ।


हमलोग पहले अमृतसर में ही रहते थे। इसी सरदार जी के चक्कर में मेरे पापा ने माँ को छोड़ दिया उसके बाद हमलोग पानीपत आ गए। क्यों की माँ और सरदार जी के बिच सेक्स सम्बन्ध था और पापा को ये अच्छा नहीं लगा उन्होंने पहले माँ को कई बारे मना किया पर जब वो नहीं मानी तो माँ को छोड़ दिए।

मेरी माँ घर की एकलौती बेटी थी तो नानी के यहाँ पानीपत ही आ गए। मैं उस समय नौ साल की थी इसलिए ज्यादा पता नहीं था। बस इतना पता था की रोज लड़ाई होती थी और पापा मम्मी को डांट लगाते और मम्मी लड़ाई करती। मैं और मेरी माँ दोनों पानीपत आ गए और आज से चार साल पहले ही मेरी नानी का देहांत हो गया तो मैं और मम्मी अब यही बस गए।


मम्मी बिच में सरदार जी से बात करना बंद कर दी थी। पर इधर एक साल से फिर से वो सरदार जी से बात करने लगी। वो रात को बाथरूम में मोबाइल लेकर जाती और दरवाजा बंद कर के बात करती।

एक दिन मैं कान लगा कर सुनी की वो क्या क्या बात करती है तो पता चला वो व्हाट्सप्प पर वीडियो कॉल कर के अपने जिस्म को दिखाती है और उधर सरदार जी मूठ मारते है माँ को देख देख कर ,क्यों की एक बार आ के मोबाइल का स्पीकर ऑन रहा गया तो सरदार जी कह रहे थे की बाद अब गिर जाएगा थोड़ा और अपनी चूत दिखा और और अपनी चूचियां दबाती रह। मैं समझ गयी क्या हो रहा है अंदर।

इसे भी पढ़ें  गर्भवस्था में सेक्स करने के तरीके

मैं कुछ नहीं बोली मुझे लगा की माँ की अपनी ज़िंदगी है जैसे जिए मुझे क्या मुझे छूट मिला हुआ है जो करो अपनी मर्जी तो मैं खुद ही एक अंकल के प्रेम में हु और रोजाना नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर कहानिया पढ़कर अपनी चूत की गर्मी शांति करती हु।

दोस्तों अब मैं सीधे कहानी कर आती हूँ।


मेरी माँ का नाम प्रभजोत है। मेरा नाम मीनू है। मैं 18 की हो गयी हु और मेरी माँ अभी 36 साल की है। मेरी माँ हॉट और सेक्सी है। मेरे पापा ज्यादा दमदार इंसान नहीं था वो कद में काफी छोटे और कमजोर थे वो माँ को ना तो सेक्स में खुश कर पाते थे ना कमाई में। इसलिए माँ को सरदार जी पर दिल आ गया था क्यों की वो मेरी माँ को पेल कर रखते थे। माँ खुश हो जाती थी जब सरदार जी चुदाई करते थे।


तो कल की बात है सरदार जी दिल्ली आ रहे थे। तो मेरा घर पानीपत में ही है। तो माँ से बात हो गयी। और ये बात मेरी माँ ने मुझे नहीं बताई की बलबिंदर अंकल आने वाले है। वो जल्दी जल्दी खाना खा कर मुझे भी बोली आज सो जा जल्दी और वो खुद भी सो गयी जल्दी।

पर मैं जल्दी कहा सोने वाली। मैं रजाई में मुँह धक् कर अपने मोबाइल पर हॉट सेक्सी कहानियां पढ़ने लगी। नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम को ओपन कर के। मम्मी को लगा को सो गयी।


तभी मम्मी के मोबाइल पर एक ही बेल्ल बजा की मम्मी उठा ली। मम्मी पूछिए कित्थे पहुंचे। तो उधर से बोले थल्ले सी। मैं समझ गयी कोई है।

इसे भी पढ़ें  जुड़वाँ भाई बहन : भैया ने आज मुझे चोदा बाथरूम में

मम्मी बोली तुस्सी चुपचाप ऊपर आ जाओ. मेरी धड़कन तेज हो गयी की आखिर रात को बारह बजे कौन आया। मम्मी धीरे से दरवाजा खोली मैं आधी बंद आँखों से देखो तो हैरान हो गयी। सरदार जी थे। तो मम्मी को चुदाई करते थे।

मम्मी अंदर बुलाई दरवाजा लगाई और अंदर वाले कमरे में ले गयी। दरवाजा अंदर से बंद नहीं की। उन्होंने बस दरवाजे को भेड़ दी। मैं चुपचाप रही। करीब आधे घंटे के बाद मेरी मम्मी आह आह आह उह उह उह उह ऑफ ओफ्फो उफ़ आह आह आह करने लगी। मैं भाग कर दरवाजे के पास गयी। तो हैरान हो गयी।

मेरी माँ के सारे कपडे जमीं पर थे सरदारजी भी नंगे थे। और माँ पलंग पर थी सरदार जी नीचे थे और दोनों माँ का पैर अपने कंधे पर रखे थे और जोर जोर से पेल रहे थे।

मैं भी मम्मी के जिस्म को पहली बार देखि। गोल गोल चौड़ी गांड। गोल गोल बड़ी बड़ी टाइट चूचियां। गोल गोल जांग। ओह्ह्ह क्या बताऊँ दोस्तों मैं खुद ही हैरान थी इतनी अच्छी बॉडी है माँ को।

और सरदार जो मोटा करीब 9 इंच का लंड से माँ के चुत में अंदर बाहर कर रहे थे। कभी जो माँ की चूचियों को दबोचते तो कभी वो मेरी माँ के गांड में ऊँगली करते।

मेरी माँ भी पागल हो रही थी। गांड घुमा घुमा कर लंड को अपने चुत में ले रही थी। और कह रही थी। आपके बिना मर जाउंगी। मुझे ये लंड हमेशा चाहिए अपने पति को भी छोड़ दिया इस लंड के चलते। मुझे छोड़ कर मत जाना चाहे जमाना कुछ भी खरे आई लव यु।

और सरदार जो फिर मम्मी को घोड़ी बना दिए और फिर गांड में थूक लगा कर गांड में लंड डालने लगे। माँ को दर्द होने लगा। तो सरदार जो बोले की दर्द क्यों हो रहा है पहले तो आराम से जाता था। तो माँ बोली इतने दिन में टाइट हो गया है। दो चार बार गांड में लंड डालोगे तो फिर से आराम से जाएगा.

इसे भी पढ़ें  महिला या लड़की ऐसे होती है संतुष्ट चुदाई में

और फिर माँ के गांड में उन्होंने पूरा लंड डाल दिया और फिर जोर जोर से गांड चोदने लगे।

दोस्तों मेरी चूत गीली हो गयी थी। मैं खुद भी देख देख कर कामुक हो गयी थी। मैं खुद ही अपनी चूचियों को दबाने लगी थी। उधर मेरी माँ आह आह आह कर रही रही थी। और सरदार जो जोर जोर से उलट कर पलट कर चोद रहे थे। फिर करीब एक घंटे बाद दोनों शांत हो गए और मैं तुरंत भाग कर अपने रजाई में आ गई।

दोनों करीब दो घंटे तक बात करते रहा। फिर सरदार जो करीब दो बजे रात को निकल गए घर से। दोस्तों माँ को आज मैं बहुत खुश देखि। पर उन्होंने मुझे चुदाई दिखा कर अच्छा नहीं किया अब मुझे भी चुदने का मन कर रहा है। मैं खुद ही अब किसी से जरूर चुत मरवाउंगी।

Sardar Sex Story: Sardar Ji fucked my mother in front of me at night during Kisan Andolan Sex Story