मेरे पीठ पीछे मेरे दोस्त ने मेरी बीबी को कसकर चोद लिया

हेल्लो दोस्तों, मैं नॉन वेज स्टोरी का बहुत बड़ा प्रशंशक हूँ। मेरा नाम आयूष सक्सेना है। कुछ सालों पहले मेरे एक दोस्त ने मुझे इस वेबसाइट के बारे में बताया था, तब से मैं रोज यहाँ की मस्त मस्त कहानियां पढता हूँ और मजे लेता हूँ। मैं अपने दूसरे दोस्तों को भी इसे पढने को कहता हूँ। पर दोस्तों, आज मैं नॉन वेज स्टोरी पर स्टोरी पढ़ने नही, स्टोरी सुनाने हाजिर हुआ हूँ। आशा करता हूँ की यह कहानी सभी पाठकों को जरुर पसंद आएगी। ये मेरी सच्ची कहानी है।

मेरी नई नई शादी हुई थी। मेरी बीबी का नाम सोनम था। वो बहुत ही खूबसूरत औरत थी। अपनी सुहागरात पर मैंने सोनम को पूरी तरह नंगा कर किया और  उसके कसे हुए ३६” के दूध पीने लगा और फिर उसकी चूत मैंने एक घंटे तक चाटी और पी। उसके बाद मैंने उसको सारी रात चोदा। मुझे खूब मजा आया दोस्तों। पर धीरे धीरे मुझे अपनी बीबी के चाल चलन पर शक होने लगा। क्यूंकि वो हमेशा फोन पर चिपकी रहती और बाथरूम में भी वो फोन लेकर जाती थी। मैंने उसे कुछ नही कहा। पर मेरे सीधेपन का मेरी औरत से फायदा उठाया। पिछले महीने मैं ३ दिन के लिए मुंबई अपनी कम्पनी के काम से गया था।

मेरी बीबी ने मेरे दोस्त पप्पू को बुला लिया। असल में मेरी खूबसूरत औरत सोनम मेरे दोस्त पप्पू से सेट हो गयी थी और उससे चुदवाने का मौक़ा ढूढ़ रही थी। मेरे मुंबई जाते ही उसका रास्ता साफ़ हो गया और उसने घर का जाला साफ़ करने के बहाने मेरे दोस्त पप्पू को बुला लिया। मेरी चुदक्कड़ औरत सोनम घर पर हमेशा एक हल्की ही स्लीवलेस टी शर्ट और लोंग स्कर्ट पहन कर रहती थी। पप्पू सोनम को देखकर ही मस्त हो गया था।

“कहो भाभी ..कैसे इस नाचीज को याद किया???” पप्पू ने मेरी बीबी से पूछा

वो अच्छे से जानता था की मेरी औरत सोनम आज उससे कसकर चुदवाना चाहती है।

“देखो ना पप्पू भैया!! मैं बेडरूम का जाला साफ़ कर रही हूँ। मकड़ियों ने कितना जाला लगा दिया है। आप प्लीस मुझे अपनी गोद में उठा लो तो मैंने आराम से छत के कोने तक पहुच जाउंगी और बेडरूम का जाला साफ़ हो जाएगा!!” मेरी चुदक्कड़ बीबी सोनम बोली। मेरा दोस्त पप्पू हसने लगा। उसके तो दिल में जैसे लड्डू ही फूट रहे थे। मेरी बीबी सोनम ने एक बड़ी हस्की सी बनियान की तरह दिखने वाली टी शर्ट पहन रखी थी और नीचे लाल रंग का लोंग स्कर्ट पहन रखा था। मेरी बीबी सोनम बहुत मॉडर्न जमाने की थी। शादी से पहले ही उसने मुझे बता दिया था की वो कभी साड़ी नही पहनेगी और हमेशा टी शर्ट जींस पहनकर रहेगी। मेरे दोस्त पप्पू ने मेरी बीबी सोनम को कमर पर दोनों हाथ लगाकर पकड़ा और गोद में उठा लिया और सोनम डंडे से जाला साफ़ करने लगी।

सोनम जैसी गदराई जवानी वाली मस्त लौंडिया को गोद में उठाकर तो आज मेरे दोस्त पप्पू की किस्मत ही चमक गयी थी। सोनल ने परफ्यूम लगा रखा था, पप्पू को मेरी खूबसूरत बीबी के जिस्म की महकती खुशबू मिल रही थी। पप्पू मेरी बीबी को कमर पर हाथ लगाकर उपर उठाये हुए था और जब जाला साफ़ हो गया और जब पप्पू मेरी खूबसूरत औरत को नीचे उतारने लगा तो अचानक उसने सोनम को पकड़ लिया और बाहों में कसकर भर लिया। सोनम भी चुदना चाहती थी इसलिए वो भी मेरे दोस्त पप्पू को किस करने लगी। उसके बाद तो दोनों एक दूसरे को बेतहाशा किस करने लगे और मजा मारने लगे। पप्पू मेरी बेवफा, अल्टर और चुदक्कड़ बीबी को चोदना चाहता था। सोनम भी आज पप्पू का मोटा लंड खाना चाहती थी।

इस वक़्त मैं वहां नही था इसलिए दोनों खुलकर चुदाई का मजा उठा सकते थे। धीरे धीरे पप्पू ने सोनम को बेड पर लिटा दिया और उसके उपर लेट गया और उसके सुर्ख गुलाबी होठो को किस करने लगा। सोनम भी पप्पू के होठो को मुंह लगाकर पीने लगी और कुछ ही देर में दोनों गर्म हो गये और चुदाई की तरह बढ़ने लगे।

““….हाईईईईई, उउउहह, आआअहह..पप्पू मेरी जान….आज घर पर तुम्हारे दोस्त और मेरे पति नही है। आज हम लोगो को मौके का फायदा उठा लेना चाहिए और जी भरकर चुदाई कर लेनी चाहिए!!” मेरी छिनाल बीबी सोनम बोली

“हाँ भाभी ….मैं भी यही सोच रहा हूँ!!” पप्पू बोला और उसने सोनम की बहुत ही हल्की बनियान पर उसके ३६” के दूध पर अपना हाथ रख दिया और दबाने लगा। सोनम मस्त हो गयी। मेरा दोस्त पप्पू आज मेरी गैर हाजिरी में मेरी बीबी को रगड़कर चोदने जा रहा था। वो तेज तेज सोनम के मम्मे दबाने लगा। सोनम के दूध बहुत ही खूबसूरत थे। बड़े बड़े, गोल गोल और कसे हुए दूध थे उसके। पप्पू की उँगलियाँ तेज तेज उसकी चुचियों को दबा रही थी और सोनम के गुलाबी होठो को चूस रही थी। आज तो पप्पू की चांदी हो गयी थी। आज वो मेरी बीबी की रसीली चूत को मजे लेकर पीने, चाटने और चोदने वाला था।

सोनम“….आआअह्हह्हह….ईईईईईईई…ओह्ह्ह्हह्ह…अई..अई..अई….अई..मम्मी…” करके चिल्ला रही थी।

“पप्पू भैया आज मुझे आप कसकर चोद खा लो। मेरे पति ३ दिन के लिए मुंबई गये है। आप मुझे कसकर चोद खा लो!!” सोनम बोली

पप्पू इतना ठरकी हो गया की उसने मेरी बीबी सोनम की वो हल्की ही स्लीवलेस बनियन उतार दी। फिर उसकी काली ब्रा भी निकाल दी। सोनम की जवानी जैसी उसके सामने खुलकर आ गयी। सोनम के गदराये अमरुद जैसे दिखने वाले २ बहुत ही खूबसूरत मम्मे मेरे दोस्त पप्पू के सामने थे। उसने सोनम की चूचियों पर हाथ रख दिया और तेज तेज दबाने लगा और मम्मो का नाप पता करने लगा। सोनम मस्त हो गयी। और सीधा बेड पर चुदवाने के लिए लेट गयी। मेरा दोस्त पप्पू मेरी जवान और चुदासी बीबी के दूध को हाथ से जोर जोर से दबाने लगा और मजे लेने लगा, फिर मुंह में लेकर पीने लगा। सोनम जैसी खूबसूरत लड़की कहाँ जल्दी पप्पू को चोदने को मिलती थी। उसे तो काली कलूटी लड़कियाँ ही चोदने को मिलती थी, पर आज तो पप्पू की किस्मत चमक गयी थी। वो एक हाथ से सोनम के दूध को दबा रहा तो तो मुंह से दुसरे दूध को पी रहा था।

सोनम तो उससे फंसी हुई पहले से थी इसलिए वो भी पप्पू को खुलकर प्यार कर रही थी और उसके बालों में अपनी पतली पतली उँगलियाँ सहला रही थी। पप्पू की आँखों में वासना और काम के शोले धधक रहे थे। आज वो मेरी बीबी को कसकर चोदना चाहता था की दुबारा सोनम उससे चुदवाने से पहले १० बार सोचे। मेरी बीबी की नर्म चूत में मेरा दोस्त पप्पू आज अपना १२ इंच का मोटा लंड डालने वाला था। सोनमके दूध पप्पू के मुंह में थे, वो अपनी नर्म छातियों को मजे लेकर चुसवा रही थी और “……मम्मी…मम्मी….सी सी सी सी.. हा हा हा …..ऊऊऊ ….ऊँ..ऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ..” की आवाज बार बार निकाल रही थी। इस बात में कोई शक नही था की सोनम को भी खूब मजा मिल रहा था। पप्पू किसी वासना के पुजारी की तरह मेरी जवान और खूबसूरत बीबी के दूध चूस रहा था और हाथ से निपल्स को मसल मसल कर भरपूर मजा ले रहा था।

कम से कम ५० मिनट तक उसने मेरी बीबी सोनम के होठ और रसीले दूध जी भरकर चूस लिए। फिर उसके सोनम की लोंग स्कर्ट को दोनों हाथ से पकड़कर नीचे खींच कर निकाल दिया। फिर सोनम की काली पेंटी भी निकाल दी। अब मेरी चुदक्कड़ बीबी एक गैर मर्द के सामने पूरी तरह से नंगी हो गयी थी। पप्पू सोनम के चिकने और उजले रंग के पेट को चूमने और चाटने लगा। सोनम को भरपूर मजा मिल रहा था। मैं घर के बाहर पैसा कमाने के लिए गली लगी भटक रहा था, धूप में धक्के खा रहा था और मेरी बीबी ac की ठंडी ठंडी हवा में मेरे दोस्त का मोटा लंड खाने वाली थी। पप्पू बड़ी देर तक सोनम के सेक्सी पेट को चूमता और चाटता रहा और उसकी सेक्सी नाभि में जीभ डालता रहा। फिर वो सोनम की चूत पर पहुच गया। सोनम की चूत बड़ी ही सुंदर और साफ़ दिख रही थी। आज चुदवाने के लिए उसने सुबह की अपनी चूत को क्लीन शेव कर लिया था। पप्पू ने जब मेरी औरत सोनम की चूत के दर्शन किये तो वो मस्त हो गया। उसपर एक नशा सा चढ़ गया था।

“सोनम भाभी……आपनी चूत तो बहुत गुलाबी और खूबसूरत है। मेरी बीबी की चूत भी आपके जितनी सुंदर नही है!!” पप्पू बोला

“पप्पू भैया….आप आज मेरी चूत को जीभरकर पी लो और मजे मार लो!!” सोनम बोली

पप्पू तो ये बात सुनकर बहुत खुश हो गया और मुंह लगाकर मेरी मस्त बीबी का भोसडा पीने लगा। सोनम तड़पने लगी। पप्पू ने सोनम की चूत की फांकों को खोल दिया। उसने अपने ओंठ चूत पर रख दिए और लपर लपर करके पीने लगा। क्या मस्त लाल लाल गुझिया जैसी चूत थी सोनम की। पप्पू सोनम के चूत के दाने को अपने अंगूठे से घिसने लगा। इससे सोनम को बड़ी जोर की चुदास चढ़ने लगी। उसके पुरे बदन में मीठी मीठी तरंगे दौड़ने लगी। वो जोर जोर से सोनम के चूत के दाने को घिसने लगा।

“आह आह राजा……आआआआअह्हह्हह… अई…अई…….मेरी चूत को आज अच्छे से पी लो…. लो लो पप्पू!!” सोनम बोली। उसकी बात सुनकर मेरा ठरकी दोस्त पप्पू और जादा आनंदित हो गया था। पप्पू ने सोनम की जांघो को और कायदे से खोल दिया और उसका भोसड़ा दिल लगाकर पीने लगा। फटी हुई चूत की फांको को देखकर उसे एक ख़ुशी हो रही थी। वो मेरी बीबी की चूत के होठो को मजे लेकर पी रहा था और किसी कुत्ते की तरह चाट रहा था। सोनम को बड़ा अच्छा लग रहा था, वो सिसकारी ले रही थी। पप्पू की खुदरी जीभ सोनम की मुलायम और संवेदनशील बुर को तड़पा रही थी और उसमे धमाल मचा रही थी। मेरे ऐसी काम क्रीडाये करने से मेरी बीबी को अजीब सा जुनून और नशा चढ़ रहा था। मेरा बेवफा दोस्त मेरी बेवफा बीबी के साथ जबरदस्त मुख मैथुन का आनंद उठा रहा था। वो सोनम की रसीली योनी को आज खा जाने वाला था। पप्पू की नुकीली जीभ उसकी चूत में अंदर तक घुस रही थी। ऐसा करने से मेरी बीबी सोनम कापने लगी और उसने पप्पू को दोनों से कसकर पकड़ लिया।

“….आआआआअह्हह्हह… अई…अई…….ईईईईईईई  मर गयी….मर गयी…. मर गयी……मैं तो आजजजजज!!” सोनम किसी रंडी की तरह चिल्लाई और सेक्स और वासना के नशे में अपनी आँखे बंद करके ही बोली।

पप्पू की नजर सोनम के नंगे जिस्म पर पड़ी। १ जोड़ी सुंदर पाँव और उनकी गोल मटोल फूली फूली १० उँगलियाँ, पप्पू का तो माथा ही घूम गया। पप्पू ने सब कुछ छोड़ के उसके खूबसूरत पावों को चूम लिया। सोनम की टाँगे बड़ी की चिकनी, चमकदार और गोरी थी। पप्पू ने उसकी दोनों टांगों को बारी बारी कई बार चूमा। सोनम उसे रोकने लगी, पर पप्पू चूत का भूखा कहाँ रुकने वाला था। वो मेरी दोनों बिस्तर पर गुत्थम गुत्था होने लगे। पप्पू अब मेरी खूबसूरत बीबी की चूत कई बार पी चुका था। अब उसने अपनी २ बीच वाली लम्बी उँगलियाँ सोनम के भोसड़े में डाल थी और चूत में ऊँगली करने लगा। मेरी चुदक्कड़ बीबी सोनम मचल गयी और“….उ उ उ उ ऊऊऊ ….ऊँ..ऊँ…ऊँ अहह्ह्ह्हह सी सी सी सी.. हा हा हा.. ओ हो हो….मम्मी…मम्मी!!” बोलकर चिल्लाने लगी। पप्पू को सोनम की गर्म गर्म आवाजे बहुत अच्छी लग रही थी। सोनम ने अपने दोनों हाथो से बेड की चादर को पकड़कर भींच लिया था और कसकर मरोड़ रही थी। पप्पू पर पूरी तरह से कामदेव सवार हो चुके थे। आज मेरी गैर हाजिरी में वो मेरी बीबी के भोसड़े को फाड़कर रख देना चाहता था। पप्पू के बीच की २ लम्बी और मोटी उँगलियाँ सोनम के रसीले गुलाबी भोसड़े में फंसी हुई थी और जल्दी जल्दी चूत को चोद रही थी। सोनम तो जैसे पागल हुई जा रही थी। उसका चेहरा बता रहा था की उसे खूब मजा मिल रहा है। जैसे वो आम का खट्टा आचार खा रही हो।“……उई..उई..उई…. माँ….माँ….ओह्ह्ह्ह माँ…. .अहह्ह्ह्हह..” सोनम चीख रही थी।

पप्पू तेज तेज उसकी रसीली चूत में ऊँगली अंदर और बाहर करता रहा और किनारे से जीभ लगाकर चूत पीने लगा। मेरी छिनाल बीबी अपनी गांड और चुतड उठाने लगी। ये देखकर पप्पू को मजा आ गया।

“ले रंडी…..आज मेरी ऊँगली से ही पहले चुदवा ले। बाद में मेरा लंड खा लेना!!” पप्पू बोला और उसने यौन तेज्जना में सोनम के गाल पर २ ४ चांटे कस कसे मार दिए। सोनम को आज मार खा खाकर चुदने में खूब मजा आ रहा था। पप्पू तेज तेज ऊँगली सोनम की चूत में करने लगा और किनारे जीभ लगाकर चूत से निकलता माल चाटने लगा। कम से कम १ घंटे तक तो यही खेल चला। पप्पू ने अपने लंड से चोदने से पहली मेरी बीबी को अपनी २ लम्बी उँगलियों से ही चोद लिया। चुदते वक़्त सोनम के दूध बिलकुल तन गये और नारियल जैसे नुकीले नुकीले हो गये। पप्पू उसे घप घप पेलने लगा। सोनम की एक एक पसली उसे साफ साफ दिख रही थी। पप्पू उसको दोनों पलती पलती सफ़ेद चिकनी जांघ को पकड़ कर उसे चोद रहा था। सोनम की पसलियाँ और कमर उपर नीचे जा रही थी। उसकी कमर की एक एक हड्डी पप्पू को साफ़ साफ दिख रही थी। सोनम को डर लगा रहा था की कही उसका १२ इंच का लंड उसके पेट के अंदर ना घुस जाए। जैसे जैसे पप्पू उसे चोद रहा था, उसकी पलती सधी हुई कमर नाचने लगी। पप्पू उसे घप घप पेलता चला गया। फिर उसने अपने सर को नीचे किया और सीधा सोनम की बुर में थूक दिया। इससे उसकी चूत और चिकनी हो गयी और पप्पू का लौड़ा सट सट मेरी बीबी सोनम की बुर में फिसलने लगा। पप्पू जोर जोर से चूत में तेज धक्के मार रहा था। सोनम के ४० साइज़ के चुतड उसके धक्के से थर थरा रहे थे। पप्पू ने मेरी बीबी को लेट कर जी भरकर चोदा और मजा मारा।

उसका लंड सोनम की चूत में ऐसा लगा था जैसे बिजली वाले सॉकेट में कोई प्लग लगा होता है। पप्पू शानदार तरह से सोनम की ठुकाई कर पा रहा था। दोस्तों सोनम को बिस्तर से बाहर नीचे की तरफ झुलाते हुए पप्पू ने काफी देर उसे चोदा। खूब मजा आया चुदाई में। कई बार उसका लौड़ा सोनम की चूत से किसी मछली की तरह फिसल पर बाहर निकल जाता था। तो हाथ से पप्पू लौड़े को अंदर डाल देता था। सोनम के नर्म व लचीले बदन की एक एक हरकत, उसकी एक एक हड्डी और पसली पप्पू देख सकता था। बड़ी मस्त माल थी वो। चुदास की आग में झुलसते झुलसते सोनम का पूरा बदन कांपने लगा। उसने एक तकिया उठाकर नीचे फेक दी। पप्पू उसे फिर बिस्तर पर उपर खीच लिया और सिरहाने ले गया। सोनम के सर के नीचे पप्पू ने २ मोती तकिया रख दिये। उसके हाथ पैर खोल कर पप्पू उसे पेलने लगा। पप्पू की  कमर नाच नाचकर मेरी बीबी सोनम की चूत को मजे से और कायदे से चोद रही थी। उसकी फुद्दी बड़ी शानदार थी। पप्पू उसको इतना जादा पेलना चाहता था की वो सारी जिन्दगी इस ठुकाई को ना भूल पाए। उसके बाद पप्पू मेरी बीबी सोनम की चूत में झड़ गया। मैं ३ दिन तक घर में नही था और हर दोपहर पप्पू मेरे घर में आकर मेरी जवान और चुदक्कड़ बीबी सोनम की चूत मारता था। आज भी दोनों छुप छुप कर मिलते है और मजे लेते है। ये कहानी आप नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।