मना करती रही फिर भी दामाद जी ने मुझे चोद दिया कम्बल में

दामाद जी सेक्स कहानी

वासना की आग जब शरीर में लग जाये तो रिश्ते भी नहीं दिखाई देते हैं। कई बार तो ऐसा हो जाता है की ना करते हुए भी चुदाई हो जाती है। जब बैठ कर सोचती हूँ क्या ये सही हुआ था या गलत हुआ था तो निष्कर्ष नहीं निकाल पाती हूँ की मेरे साथ सही हुआ था या गलत हुआ था। पर जब कुछ ऐसे रिश्ते बन जाते हैं जो दोनों के लिए भी सही होगा है या यूँ कहिये की बाहर मुँह मारने से अच्छा है घर में ही सेक्स की भूख मिटा लें। इसलिए मैं आज नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर अपनी कहानी आपलोगों को सुनाने जा रही हूँ। ताकि मैं आपको अपनी मन की बात सूना सकूँ और अपने दिल को हल्का कर सकूँ।

पहले मैं आपको अपने बारे में बता दूँ। मेरे पति फ़ौज में थे पर अब नहीं हैं। मेरी एक बेटी है जो 20 साल की है। और मेरी उम्र मात्र 38 साल है। मैं अभी जवान हूँ सुन्दर हूँ अपने बॉडी को मैंटेन करके रखी हूँ। किसी भी अठारह साल की लड़की को मात दे सकती हूँ। इसी सब की वजह से कल रात चुद गई अपने दामाद से जो मेरे से ज्यादा छोटा नहीं है उसकी उम्र अठाइस है और मेरी अड़तीस। अब मैं सीधे कहानी पर आती हूँ। आपको तो पता होगा दोस्तों देहरादून में कड़ाके की ठंढ पड़ रही है।

मेरी बेटी को जॉब लगा है इसलिए वो ट्रेनिंग में गई है। कल रात दामाद जी आ गए वो मुंबई के रहने वाले हैं। मुंबई में ज्यादा ठंढ नहीं पड़ती इसलिए वो देहरादून की सर्दी में परेशां हो गए। उन्होंने रात में दो कंबल लिए फिर भी ठंढ नहीं जा रही थी। हम दोनों एक ही कमरे में सोये थे पर अलग अलग बेड पर मैं रोजाना की भांति नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम की सेक्स कहानी को पढ़ रही थी। कल की हॉट कहानी ठंड का बहाना कर रजाई में आया और चोद दिया मेरा भाई ये कहानी पढ़कर मैं पागल हो गई थी। इतनी जबरदस्त सेक्सी कहानी थी इस वेबसाइट पर रहा नहीं गया और मैं अपने कपडे उतार कर अपनी चूचियाँ सहलाने लगी और चूत में ऊँगली करने लगी। पर पता ही नहीं चला कब आह आह आह की आवाज निकाल रही थी।

मेरी मोअन सुनकर दामाद जी मेरे बेड पर आ गए वो समझ गए थे मैं क्या रही थी। उन्होंने झटके से कम्बल को हटा दिया मैं तो अंदर नंगी थी बड़ी बड़ी चूचियों छोटे छोटे निप्पल, मोटी जाँघे पतली कमर गोरा बदन खुले बाल थे। लिपस्टिक भी लगा राखी थी काजल मेरे आँखों को और भी कातिलाना बना रहा था। उन्होंने कहा मैं जब आपके पास हूँ तो अपने आप से क्या काम चलाना। ये कहकर उन्होंने अपना हाथ मेरी चूचियों पर फेरना शुरू कर दिया। पर मैं मना करने लगी। मुझे एकदम से लगा ये ठीक नहीं है। मैं नहीं चाहती थी की दामाद से मेरा सेक्स रिश्ता बने क्यों की आखिर वो मेरी बेटी के पति है और अपने बेटी के पति के साथ कैसे सेक्स कर सकती हूँ।

पर उन्होंने नहीं माना और कंबल के अंदर आ गए और अपना लिप मेरे लिप से लॉक कर दिए। वो पागलों की तरह ऊपर से निचे जा रहे थे कभी मेरे होठ को चूसते कभी मेरे गर्दन को कभी बूब्स को दबाते कभी निप्पल रगड़गे कभी नाभि में ऊँगली करते कभी चूत सहलाते। दोस्तों पांच मिनट के अंदर मैं भूखी शेरनी की तरह हो गई। पहले तो मना किया पर अब चुदने के लिए राजी हो गई। और शायद इस कदर हो गई की अगर वो मुझे नहीं चोदता तो मैं नहीं छोड़ती।

मैंने अपने बाहों में भर लिया और चूमने लगी फिर उसको निचे जाने को बोली अपना दोनों पैर फैला दी। और अपना चूत चटवाने लगी। मैं बार बार गरम पानी चूत से निकाल रही थी चूत मेरी गीली हो रही थी। पर वो चाट चाट कर साफ़ कर रहा था। फिर मैं ऊपर बुलाई और चूमने लगी। मैं अपना जीभ उसके मुँह में घुसा दी वो मेरी जीभ को चूसने लगा मैं और भी ज्यादा पागल हो गई और बोली अब नहीं अब देर मत करो मुझे चोद दो।

अब क्या बताऊँ दोस्तों मोटा लंबा लौड़ा जैसे ही मेरी चूत में गया मैं कामुक हो गई तुरंत ही सिसकारियां निकलने लगी आह आह आह की आवाज कमरे में गूंजने लगी। बेड की आवाज भी मच मच कर रहा था। और फच फच करके मेरी छूट में लौड़ा जा रहा था।

दोस्तों सच बताऊँ तो आज तक मेरी ऐसी चुदाई नहीं हुई थी। मेरा दिल बाग़ बाग़ हो गया था। मेरी चूत गीली हो गई थी चिपचिपा पानी जांघों पर भी लग गया था। फिर मैं खुद ऊपर गई और निचे दामाद जी अब उनका लौड़ा पकड़ कर खुद भी चूत में ली और बैठ गई। पूरा लौड़ा चूत में समा गया। अब जोर जोर से ऊपर से धक्के देने लगी। बड़ी बड़ी चूचियां हिल रही थी गांड चाप चाप कर रहा था। मेरी चूत में सट सट लौड़ा जा रहा था। पुरे शरीर में बिजली दौड़ रही थी। करीब ऐसे ही उन्होंने ऐसे ही मुझे एक घंटे तक चोदा फिर दोनों झड गए और एक दूसरे कोई पकड़ कर एक ही कंबल के अंदर सो गए।

दोस्तों पूरी रात में करीब उन्होंने आठ बार चोदा आज मेरा कमर और चूत दर्द कर रहा है। होठ मेरे लाल हुए पड़े है दो तीन जगह बूब्स पर भी कटे निशान है उन्होंने वह पर दांत से काट लिया था। पर ये सभी दर्द अब मेरे लिए अच्छे है। मैं खूब एन्जॉय की अपने दामाद के साथ सेक्स। आज दोपहर में ही वो चले गए पर उन्होंने कहा अगले सप्ताह फिर आएंगे। मैं बेसर्बी से इंतज़ार कर रही हूँ। मैं जल्द ही दूसरी कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर लेकर आने वाली हूँ। धन्यवाद।

जब मेरी चूचियां छोटी थी तभी हुई थी पहली चुदाई

Muslim Sex Story

Urdu Sex Kahani, Sex Story in Hindi Font, Indian Muslim Sex Story

Muslim Sex Story : दोस्तों मेरा नाम हर्षिदा है। मेरी उम्र उस समय 18 साल की थी। मैं उत्तर प्रदेश की रहने वाली हूँ। मैं आपको अपनी पहली चुदाई की कहानी बताने जा रही हूँ। ये मेरी सच्ची कहानी है। जब मैं दिल्ली में रहती थी ये कहानी उस समय की है। कैसे मुझे एक भैया ने चोदा थे पहली बार और मुझे कैसा लगा था उससे समय वही बताने जा रही हूँ।

दोस्तों मैं अपने भाई के साथ रहती थी दिल्ली में। घर में मैं भैया, भाभी और एक भैया की छोटी बेटी रहते थे। भैया को अपना काम था भाभी भी एक बड़े ब्यूटी पार्लर में काम करती थी। घर में मैं और मेरी दो साल की भतीजी दोनों कहते थे। भैया और भाभी दोनों आठ बजे सुबह ही चले जाते थे और फिर रात को भाभी सात बजे आती थी और भैया दस बजे।

मैं जिस किराये के मकान में रहती थी उसके ऊपर वाले फ्लोर पर एक कमरा बना था वह पर एक कपल रहते थे। मैं भैया और भाभी कहती थी। दोनों का उम्र भी ज्यादा नहीं था। भाभी जब प्रेग्नेंट हो गई थी तो वो गाँव चली गई थी। भैया यहाँ अकेले रहते थे यहाँ मैं ऊपर फ्लोर बाले भैया के बारे में बात कर रही हूँ।

दोस्तों भैया मुझे बहुत पसंद थे। मैं मुस्लिम थी तो ऐसे भी मुझे ज्यादा इधर घूमने फिरने को नहीं मिलता था ना किसी से बात करने करने मिलता था। तो और दिल्ली में मैं अकेली थी और जिस मकान में रहती थी उस मकान में भी कोई नहीं था। तो आप खुद सोचिये मुझे तो बहुत बड़ा छूट मिल गया था और आज़ादी थी अपनी जवानी को लुटाने के लिए।

दोस्तों एक दिन की बात है। ऊपर वाले भैया ऑफिस नहीं गए थे। दोपहर का समय थे मेरी भतीजी सो गई थी और मेरे भैया और भाभी दोनों ही काम पर गए थे। तो मैं अपना मुख्य दरवाजा बंद करके मैं ऊपर वाले भैया के पास चली गई ऊपर बस एक ही कमरा था और वो भी चारों और मकान से घिरा हुआ था कोई भी इंसान देख नहीं सकता था क्यों की चारों और जो मकान थे उसका किसी का पीछे का दीवाल लगता था को किसी का साइड का।

मैं जब उनके कमरे पर गई तो वो गाने सुन रहे थे उस समय म्यूजिक सिस्टम का बहुत क्रेज थे। दरवाजा नोक किया वो दरवाजा खोले और मैं अंदर आ गई मैं बहुत ही हंसमुख लड़की उस समय थी। दोस्तों मैं उनके यहाँ कुर्सी पर बैठ गई उनका कमरा छोटा था एक कुर्सी और एक बेड ही था उनके कमरे के। दोस्तों मैं काफी दिन से सोच रही थी मैं सेक्स करूँ। क्यों की पहली बार सेक्स करने से पहले एक्साइटमेंट होता है। और मेरे पास मौक़ा भी थे चुदवाने को।

आपको तो पता होगा दोस्तों लड़कियां या औरत किसी को भी फंसा सकती है। जैसे अगर मैं कभी भी चाहूँ तो किसी से भी चुदवा सकती हूँ। पर औरत या लड़की फंसे या नहीं ये उनपर निर्भर करता है पर औरत किसी को भी फंसा सकती हैं। जैसे आप खुद अपने बारे में सोचिये अगर कोई औरत या लड़की आपको चोदने को दे तो आप क्या करेंगे। क्या आप कहेंगे नहीं नहीं मैं ये नहीं करूंगा मैं सिर्फ अपनी पत्नी या गिर्ल्फ्रेंड्स के लिए बना हूँ। नहीं दोस्तों ऐसा बिलकुल भी नहीं हो सकता है।

दोस्तों उसके बाद मैं वही बैठे रही। उनको कातिल निगाहों से देखते रही। मचलती रही। पर मौक़ा नहीं मिल रहा था की क्या कहूं या कहा से बात शुरू करूँ। उनके कमरे का दरवाजा हल्का खुला था। ऐसे भी मैं निचे मुख्य गेट बंद कर के आई थी। दोस्तों मैं उनको कुछ भी नहीं बोल सकी. मैं उठी और उनके गोद में बैठ गई। और उनको पकड़ ली। उसके बाद तुरंत उतर गई और फिर वापस कुर्सी पर बैठ गई। इतना करते ही वो तुरंत ही मेरे पास आप गए। दोस्तों आप ये कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं। दोस्तों मेरे पास आकर वो बोले हर्षिदा ये क्या था ? वो मुझे छेड़ने लगे। वो मेरी चूचियों को छूने लगे। दोस्तों उस समय मेरी चूचियां बिलकुल छोटी सी थी। वो छू रहे थे मेरी चूचियां मैं हँस रही थी और बचने की कोशिश कर रही थी। जैसा की हरेक औरत या लड़की करती है। चुदने का भी मन होगा तो वो ऐसे करेगी की उनको चुदना नहीं है। मैं भी वैसे ही कर रही थी।

पर आग और मोम कितने देर तक एक दूसरे के सामने रह सकता है। दोनों पिघल गए. वो मेरे समीज के ऊपर से भी मेरी चूचियों को दबाने लगे। फिर गले के पास ऊपर से मेरी चूचियों को टटोलने लगे। फिर पकड़ आया फिर वो मसलने लगे। मुझे तो ऐसा लग रहा था की मैं जन्नत में हूँ। दोस्तों फिर मैं खुद ही उनके बेड पर लेट गई। पैर झूला कर यानी मेरा पैर जमीं से सट रहा था और बेड पे लेटी हुई थी। वो मेरे ऊपर चढ़ गए और मुझे चूमने लगे।

मैं लजा रही थी। सरमा रही थी। अपने चूचियों को दबाने से बचा भी रही थी एक दूसरे पैरों को सटा रही थी ताकि वो आराम से मेरी चूत को छुए नहीं। ऐसा भी नहीं था चुदना नहीं चाह रही थी पर एक अलग ही एहसास था उस समय आसानी से कुछ देना भी नहीं चाह रही थी। दोस्तों फिर क्या था उन्होंने मेरा नाडा खोल दिया और फिर से मेरे ऊपर लेट गए।

उन्होंने बोला चोद दूँ। तो मैं बोली धीरे से करना दर्द नहीं होने चाहिए। वो बोले ठीक है दर्द नहीं होगा और वो मेरी सलवार को निचे कर दिए। दोस्तों मैं उस समय ना तो पेंटी पहनी थी ना तो ब्रा। उन्होंने मेरी चूत को देखा तो बोले हर्षिदा क्या तुम बर्दाश्त कर पाओगी। मैं बोली जल्दी करो। यानी मैं सीधी जवाव नहीं देना चाहती थी। उसके बाद उन्होंने मेरा पेअर फैला दिया। और अपना पेंट खोल दिये। उनका लौड़ा बहुत मोटा और लंबा था पर मेरी चूत बहुत ही संकरी थी। शायद उनका लौड़ा आराम से नहीं जाता मुझे डर भी लग रहा था और चुदने का भी मन कर रहा था।

उन्होंने मेरे पैरों को फैला दिये और लौड़ा चूत पर रखा और जोर जोर से देने लगा पर हरेक बार उनका लौड़ा इधर उधर हो जाता सीधा चूत में नहीं जा रहा था और जब जाने को होता भी था तो मैं दर्द के मारे अपने कमर को इधर उधर कर लेती तो लौड़ा अंदर नहीं जाता। फिर मैं आराम से हो गई और बोली ठीक से घुसाओ। और मैं भी इस बार मदद करने लगी चूत में घुसवाने को। दोस्तों अब उन्होंने फिर से लौड़ा मेरी चूत पर सेट किया और घुसाने लगे। पहली बार में थोड़ा गया। दूसरी बार में मेरी झिल्ली तक गया। तीसरी बार में मेरी झिल्ली टूट गई और खून निकलने लगा।

मैं डर गई पर वो मुझे समझते हुए बोले पहली बार चुदवाने पर खून निकलता है। तो मैं नार्मल हुई. अभी भी लौड़ा पूरा चूत के अंदर नहीं गया था। उन्होंने जब तीन चार बार धक्का दिया तो अंदर तक गया। अब मुझे दर्द नहीं हो रहा था। और वो फिर चोदने लगे पर लौड़ा आराम से जा भी नहीं रहा था उनको मसक्कत करनी पड़ रही थी। दोस्तों फिर वो मेरी समीज को उतार दिए और मेरी चूचियां जो नीबू के तरह ही था और निप्पल बहुत ही छोटा। वो चूसने लगे। मुझे गुदगुदी होती थी पर मजा आ रहा था। खट्टा मीठा एहसास इसी को बोलते हैं।

वो मुझे अब जोर जोर से चोदने लगे। चूचिया दबाने लगे। मैं आह आह कर रही थी। और कह रही थी जालिम हो तुम। पता नहीं क्यों कह रही थी। और गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी। दोस्तों वो मुझे किश कर रहे था कभी गाल पर कभी होठ पर कभी गर्दन पर। और चोदे जा रहे थे। मैं सिमट गई थी उनके आगोश में। वो मुझे बांधे हुए थे अपने हाथों और पैरों से। मैं अंदर फंसी हुई थी और सटासट मेरी चूत में उनका लौड़ा जा रहा था। हम दोनों एक हो गए थे। ऐसा लग रहा था किसी मशीन का पिस्टन चल रहा हो।

उन्होंने मुझे खूब चोदा। पर उस दिन मुझे बहुत दर्द हुआ था और दर्द तीन दिन तक रहा था। तीन दिन तक चुदवा नहीं पाई थी पर तीन दिन के बाद जैसे ही दर्द ख़तम हुआ था मैं एक नंबर की चुड़क्कड़ हो गई थी। और दोस्तों तीन महीने के अंदर ही मेरे शरीर में बदलाव आ गया था। गांड चौड़ी हो गई थी। चूचियां बड़ी हो गई थी। गाल गोर हो गए थे होठ मेरे पिंक हो गए थे। मदमस्त थी उस समय। आज तक मेरी ज़िंदगी का खूबसूरत पल था वो। मैं कभी भी नहीं भूलूंगी उस पल को। आशा करती हूँ आपको मेरी ये कहानी अच्छी लगी होगी। ये मेरी सच्ची कहानी है.

चुपके चुपके भाई से चुदवाने का मजा ही कुछ और था

बाप बेटी सेक्स

आज मैं आपको अपनी ज़िंदगी के हसीन पल के बारे में बताने जा रही हूँ। जब मैं अठारह साल की हुई और जब मेरी चूचियां दबाने लायक हो गई थी तो मुझे सेक्स के बारे में पता चला था क्यों की मैं थोड़ी भोली और नादान थी। गाँव में रहती थी इतना पता था की सेक्स होता है पर ज्यादा नहीं पता था और कभी सेक्स के बारे में सोचती या सुनती थी तो सिर्फ इतना ही समझ आता था की सेक्स मम्मी और पापा के बिच ही होता है। उसके बाद एक मेरी सहेली जो की कई बार चुदी थी अपने बॉयफ्रेंड्स से और अपने चचेरे भाई से वो मुझे बताई। फिर उसने मुझे नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम के बारे में बताई की मैं रोजाना हॉट कहानियां पढ़ती हूँ .तो मैं भी रोजाना रात को नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर हॉट कहानियां पढ़ने लगी। क्यों की यही एक वेबसाइट है जहा पर नई और सेक्सी कहानियां मिलती है पढ़ने को।
दोस्तों अब मैं धीरे धीरे रात को अपनी चूचियां सहलाने लगी फिर धीरे धीरे अपने चूत को सहलाने लगी। पहली बार में जब सबसे ज्यादा कामुक हो गई थी तब मेरी चूचियां खड़ी हो गई थी और मेरी चूत से पानी निकलने लगा था। उस दिन मुझे अच्छे से सेक्स का एहसास हुआ था। उस दिन के बाद से ही मैं सोचने लगी थी जब चूचियां सहलाने से और चूत छूने से ऐसा लग सकता है तो अगर कोई सच में चोदे तो कैसा लगेगा। ये सोच कर मैं कामुक हो जाया करती थी। मुझे चुदने का मन करने लगता था पर आपको भी पता है लड़कियां के लिए ये कितना मुश्किल होता है। फ्रीडम नहीं है।

मेरा भाई रवि जो मेरे से एक साल बड़ा है। मैं उसकी और आकर्षित होने लगी। मैं उसे काफी पसंद करने लगी थी। दिन रात उसके बारे में सोचती रहती थी की उसका लौड़ा कैसा होगा। क्या मैं अपने भाई से समबन्ध बना सकती हूँ या नहीं? ऐसे कई प्रश्न मन में उठते रहते थे। कभी सोचती थी की ये ठीक नहीं है। फिर लगता था अगर मेरा भाई मान जाये मुझे चोदने के लिए तो इससे बढ़िया और कुछ नहीं हो सकता है घर का माल घर में रह जाये इससे बढ़िया क्या हो सकता है यही सब सोचते रहती थी। पर जब भी सोचती थी डर लगता था कही उसे बुरा नहीं लग जाये।

एक दिन मैंने की बात है। खाना रात का खाकर मैं सोने आ गई माँ और पापा दोनों निचे फ्लोर पर सोने चले गए और हम दोनों भाई बहन जो की हमेशा ही फर्स्ट फ्लोर पर सोते थे आ गए। मैं लैपटॉप पर काम करने लगी और वो शायद कुछ पढ़ रहा था मोबाइल पर हम दोनों का बेड के ही कमरे में था, हम दोनों अलग अलग सोते थे। रात को वो मोबाइल चलते चलाते सो गया मैं अभी तक ही लॅपटॉप पर कभी अमेज़न खोलती फ्लिपकार्ट खोलती फिर ड्रेस देखती यही सब कर रही थी मेरे मन में कुछ और चल रहा था। आज मैं सोच ली थी की बात कर ही लेंगे। जो होगा देखा जाएगा।

दोस्तों रात के करीब 12 बज गए थे। मैं नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर कहानियां पढ़ने लगी। उसके बाद तो मैं इतनी कामुक हो गई थी क्यों की कहानी बहुत ही ज्यादा सेक्सी था। मैं अपनी चूचियां मसलने लगी चूत सहलाने लगी। मेरा होठ सूखने लगा था कौन की गरम गरम साँसे चलने लगी थी। मैं अपने आप को संभाल नहीं पाई। और लाइट बंद कर मैं सोने चली गई। पर मेरी धड़कन तेज चल रही थी। मैं अपने भाई एक बेड के तरफ देखि तो वो ओढ़कर सो रहा था। मैं उठकर बैठ गई पानी पि और फिर अपने भाई के बेड पर जा बैठी अब मेरी धड़कन और बढ़ गई थी।

मैं सोची जो होगा देखा जाएगा अगर उसे बुरा लगेगा तो मैं कह दूंगी सपने में तुम्हारे बेड पर आ गई थी। और मैं अपने भाई के बेड पर सो गई और फिर वो एक बड़ा बेडशीट ओढ़कर सो रहा था मैं भी उसी में चली गई और सो गई। अब मेरी साँसे और तेज चलने लगी वो सीधा सोया था। मैं उसके तरफ मुँह कर के सो गई और अपना हाथ पहले उसके पेट पर रखी, फिर सहलाई। फिर थोड़ा और करीब हो गई। उसके बाद मैं अपना हाथ उसे फेस पर ले गई। होठ को छुई, फिर गालों को सहलाई। मैं और भी ज्यादा कामुक होने लगी थी। फिर मैंने अपना एक पैर धीरे से उसपर चढ़ा दी। फिर हाथ पेट पर ले सहलाई। ऐसा लगा की वो जाग गया था क्यों की वो बार बार साँसे गहरी ले रहा था और बार बार थूक घोटने यानी अंदर करने की आवाज साफ़ आ रही थी। मैं उसके होठ पर ऊँगली रखी तो उसकी साँसे काफी गरम गरम चल रही थी। मुझे १०० परसेंट लगा की वो जाग गया था और कुछ भी नहीं बोला था। मुझे अच्छा लगा चलो काम बन रहा था।

फिर मैं अपना हाथ उसके लौड़े पर रखी दोस्तों क्या बताऊँ बात मेरी सही निकली उसका लौड़ा खड़ा था मोटा लौड़ा काफी टाइट हो गया था यानी की मेरा भाई जगा हुआ था। मैं धीरे से उसके पाजामे को सरकाई और फिर जांघिया खोली और उसका लौड़ा अपने हाथों में ले ली काफी गरम था उस समय उसका लौड़ा। दोस्तों फिर मैं अपना टीशर्ट उतार दी पहले से भी ब्रा नहीं पहनी थी मेरी बड़ी बड़ी चूचियां मचल रही थी। मेरा भाई पहले से भी बनियान नहीं पहना था और निचे जो था सो मैं घुटने के निचे कर दी थी पर जब मैं अपना टी शर्ट उतार रही थी तभी वो अपना कपड़ा अपने पैरों से बहार कर चुका था। दोस्तों फिर क्या था मैं अपना पजामा उतारी पेंटी खोली और फिर उसके बदन में अपना बदन सटा दी और फिर उसका लौड़ा पकड़ कर हिलाने लगी। वो फिर मेरे तरफ घूम गया और फिर मेरे होठ को चूसने लगा।

छह महीने से जिस का इंतज़ार कर रही थी वो आसानी से मिलने लगा था। उसने मेरी बूब्स को दबाना और फिर पीने लगा मेरा निप्पल अब उसके मुँह में था और वो चूस रहा था। मैं पागल हो रही थी। मेरी चूत गर्म होकर गीली होने लगी थी और पानी छोड़ रहा था। मैं सह नहीं पाई और मैं उसपर चढ़ गई। फिर मैं उसके होठ को चूसने लगी मेरी दोनों चूचियां उसके छाती पर रगड़ खा रही थी और वो मेरे दोनों स्तनों को सहला रहा था। मेरी चौड़ी गांड इतरा रही थी बलखा रही थी। उसका लौड़ा मेरी दोनों जांघो के बिच में था और चूत से रगड़ खा रहा था। मैं थोड़ा जगह बनाई तभी वो अपना लौड़ा पकड़ पर सेट कर लिया मैं चूत की छेद पर उसका लौड़ा लगाई और दबाब दी। धीरे धीरे करीब चार पांच झटके में पूरा का पूरा लौड़ा मेरी चूत में चला गया था।

अब शुरू हुआ असल खेल, वो निचे से धक्के देता मैं ऊपर से धक्के देती सट सट फच फच की आवाज गूंज रही थी कमरे में। मेरे मुँह से आह आह की आवाज निकल रही थी। अब दोनों वाइल्ड होकर चुदाई करने लगी। मेरा भाई उठकर बैठ गया खिड़की सही से लगाया दरवाजा अंदर से अच्छे से लॉक किया और फिर लाइट जलाई। वो मेरे बदन को निहारता हुया मुस्कुराता हुआ पास आया और फिर वो मेरी चूत को चाटने लगा। ओह्ह्ह दोस्तों गजब लगने लगा था मुझे। फिर वो मेरी चूचियों से खेलता हुया मेरे होठ को चूसने लगा अपना जीभ मेरे मुँह में डालने लगा और फिर मेरे दोनों पैरों को अलग अलग किया और अपना लौड़ा चूत पर लगा कर फिर से दे दना दन, दोस्तों अब तस्वीर बदल गई थी गई थी चुपके से चुदने के लिए पर अब तो बात ही कुछ और था।

दोनों ने करीब ३० मिनटतक एक दूसरे को खुश किया अब दोनों झड़ गए वो फिर आपस में बात करने लगे। की ये बात हम दोनों के बिच में रहेगा और मजे लेंगे रोज रोज। दोनों राजी हो गए। फिर क्या था दोस्तों पूरी रात हम दोनों ने चुदाई की। बहुत मजा आया था। फिर क्या बताऊँ छह महीने बाद मेरी शादी हो गई और फिर अपने ससुराल चली गई। पर अब जब भी मायके आती हु जरूर चुदती हूँ। मैं आपको जल्द ही दूसरी कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर लेकर आने वाली हूँ तब तक के लिए आपका धन्यवाद.

रानी की चुदाई का दीवाना

sexy

हेलो दोस्तो मेरा नाम हर्ष है में इंदौर शहर का रहने वाला हूं। इस साइट पर मैने बहुत अच्छी कहानी परी तो सोचा क्यों ना ही ऐसा ही दिलजस्प वाकया आप दोस्तो को सुनाऊं। दोस्तो आप शुरू से कहानी समझोगे तो मजा आएगा। ऐसी कहानी का क्या मजा की जल्दी से लड़की के कपड़े खोले और चुदाई चालू कर दी। सबसे पहले दोस्ती होती है जो दिल पर लगती है। फिर प्यार होता है। जो सिर में झा जाता और फिर सेक्स होता है जो दो आत्माओं का मिलन कराता है। इसे कहते चुदाई की कहानी।

मेरे ऑफिस में रानी नाम कि लड़की काम करती थी। रानी की खूबसूरती हमारे ऑफिस में चर्चा का विषय बन चुकी थी। उसका रूप केशर घुले दुध जैसा रंग हिरणी की तरह चंचल आंखे ऊपर से सोने जैसा चमकीला बदन चूचे 34 के मोटे जेसे उसने दुध की टंकी पूरी भरी हो। 28 की लजकती कमर 30 मोटे चुदर। विधाता ने उसे काफी फुरसत से बनाया था। रानी क रूप की चर्चा बहुत सुनी थी। मगर कभी देखा नहीं था क्यो की हमारा डिपार्टमेंट अलग अलग था। मगर मैने मन सोच लिया था कि एक दिन रानी को अपना बनाकर ही दम लुगा। संयोग से हुआ भी कुछ ऐसा कि लगभग एक प्रोजेक्ट हमें साथ मिलकर काम करना था। उस वर्क में मैने रानी को पहली बार देखा था। रानी को देखकर में पागल सा हो गया।

मैने सपने में भी नहीं सोचा था। जिस लड़की को मैने पाने की कसम खाकर बेठा हूं। वह इतनी खूबसूरत होगी उस दिन के बाद में रानी से ज्यादा से ज्यादा बातचीत करने लगा। उसे ऑफिस से घर और घर से ऑफिस छोड़ने व लेने भी जाता था। जिससे हमारी दोस्ती में खुलापन आगया था। मुझे बाद में रानी ने बताया कि वो भी मुझे पहली ही नजर में दिल दे बैठी थी। हमारे प्यार के खेल को आजकल मोबाईल फोन ने बहुत आसान बना दिया है। हमने एक दूसरे के नंबर लेने के बाद हम हर टॉपिक पर बात करते थे।

फोन में वीडियो कॉल कर एक दूसरे की प्यास भी बुझाते थे। मगर हमारा मिलन नहीं हो पा रहा था। हमें एकांत में जगह नहीं मिल पा रही थी एक दिन हमें मोका मिला जब मेरे घर पर कोई नहीं था मैने रानी को मिलने बुलाया। वो आज किसी दुल्हन कि तरह सज धज कर आई थी। उसके रूप को देख कर आज मानो सर्वग से कोई परी आई है। मैने उसे कहा आज तो बहुत सुन्दर लग रही हो। तो उसने कहा कि क्या में तुम्हे रोज बदसूरत नज़र आती हूं।मैने कहा ऐसी बात नहीं है। मगर तुम्हारी झील जैसी आंखो में डूबने का मन हो रहा है। उसने कहा कि किसने रोका तुम्हे इस झील को हमेशा तुम्हारा इंतजार है। फिर मैंने उसे दबोच लिया और उसके पूरे शरीर पर किस करने लग गया. वो भी सेक्स के लिए तड़प रही थी, कुछ बोलने वाली थी तो मैंने उसे रोका और बोला- अब कुछ मत बोलो! मैं उसे एक भूखे शेर की तरह चाट रहा था और उसके मुँह से सिर्फ़ सिसकारियाँ निकल रही थी.

मैंने उसके पूरे कपड़े उतार दिए और खुद भी नंगा हो गया, मैं उसको नंगी देख कर ही पागल होता जा रहा था और मेरा शेर अपने ओरिजिनल शेप में आ गया था. उसकी कोमल मम्मे देखकर मैंने मेरे होंठ उसके मम्मों पर रख दिए और मैं उसके निप्पल को मुंह में लेकर चूसने लगा और दूसरा मम्मा हाथ में लेकर मसलने लगा. उसके हाथ मेरे शरीर पर ऐसे घूम रहे थे कि मानो किसी को बहुत दिनों के बाद खाना नसीब हुआ हो. हम दोनों भी बहुत दिनों से प्यासे थे और एक दूसरे पर टूट पड़े थे. मैंने उसे बेड पर लिटाया और उसकी चिकनी चूत को हाथों से सहलाने लगा, वो बहुत ही गर्म हो गयी थी और उसके मुँह से सिर्फ़ सिसकारियाँ निकल रहीं थी ‘उउउ आआ आआअईईई ईईई…’ करके वो मेरे जोश को और बढ़ा रही थी. मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में घुसा दी और फिंगर फक करने लगा. वो भी पाने चूतड़ धीरे धीरे हिला कर इस उंगली चुदाई का मजा ले रही थी. कुछ देर बाद मैंने बिना सोचे उसकी चूत पर अपने जीभ से धावा बोल दिया और खुशी और आनन्द के मारे रानी उछलने और चिल्लाने लगी. उसकी चूत चाट चाट के मैंने उसका नमकीन पानी निकाल दिया. जब मैंने उसको ओरल सेक्स के लिए 69 में आने को कहा और मेरा लंड उसके हाथ में दिया तो वो एकदम सिहर सी गयी और मेरा लंड अपने मुँह में लेकर मज़े से चूसने लगी.

ऐसा लग रहा था कि साली पूरा का पूरा खा जाएगी, वो पूरा लंड अपने गले तक ले जा रही थी और फिर पूरा बाहर निकाल कर जीभ से टोपा चाट कर फिर से अंदर ले रही थी. उसके इस स्टाइल से मुझे लगा कि साली ये तो पूरी खाई खेली है.मैं भी मजे से उसकी चूत चाट रहा था, उसकी कामुकता भारी सिसकारियाँ सुन कर मेरी कामवासना और भी ज्यादा भड़क रही थी. करीब 15 मिनट की चूसा चुसाई के बाद अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था तो मैंने उसे सीधा बेड पे लिटाया और उसके होठों पे होंठ रख दिए. उसे पता था क्या करना है, उसने एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ के अपने चूत के मुँह पर रख दिया और आँखों से इशारा किया.


मैंने उसे कस के पकड़ा और ज़ोर से धक्का लगाया, आधा लंड चूत के अंदर गया और उसकी आँख से पानी बाहर आ गया. मैंने पहले ही उसका मुँह बंद करके रखा था तो वो चिल्ला नहीं पाई. थोड़ी देर रुक कर मैंने उसको पूछा- दर्द हुआ क्या?“बहुत दिनों से तड़प रही थी… जाने कितने महीनों बाद मेरी चूत में लंड घुसा हैं, मत रूको… फाड़ दो मेरी चूत को, भोसड़ा बना दो इसका!” मैं कहाँ रुकने वाला था, मैंने भी मेरी मशीन को स्टार्ट किया और ज़ोर ज़ोर से आगे पीछे करने लगा, उसने आँखें बंद कर ली और उसके मुँह से सिर्फ़ सिसकारियाँ निकल रहीं थी, वो बड़बड़ा रही थी- और ज़ोर से, आआ आआऐ ययईईई उम्म्ह… अहह… हय… याह… ईईईई उउ उफ़ मार दे ज़ोर से ठोक दे रे और ज़ोर से! उसके बड़बड़ाने से मैं और भी जोश में आ रहा था.बीस मिनट हमारी पेलमपेली चली और वो एक बड़ी चीख के साथ खाली हो गयी. मैं अभी भी धक्के मारता जा रहा था, जब मैं भी अपनी चरम सीमा के पास आने लगा तो मैंने उसको पूछा- मेरा आने वाला है, कहाँ निकालूं? “अंदर ही छोड़ दे… पूरी तरह से चुदना चाहती हूँ मैं!”


मैंने मेरी स्पीड और बढ़ाई, 15-20 ज़ोर के धक्के लगाने के बाद मैंने मेरा सुपर शॉट लगाया और उसकी आँखों में फिर से आँसू आ गये. अब उसके चेहरे पे खुशी झलक रही थी. मैं उसकी चूत में ही खलास हो गया था. मैं उसने नंगे बदन के ऊपर गिर पड़ा. अब तक मैं थक चुका था. अगले कुछ मिनट हम वैसे ही पड़े रहे तब वो बोली- बहुत दिनों बाद चुदी हूँ आज मैं… मुझे मजा आया, तुम्हें मज़ा तो आया ना? मैं उसे एक प्यारा सा किस करते हुए बोला- बहुत मज़ा आया, अब तो यह मजा रोज मिलेगा, जब चाहें मिलेगा! उसने हाँ में सर हिला दिया और बोली- हाँ, बहुत अच्छा लगा. काफी महीने बाद सेक्स किया तो शुरू में थोड़ा दर्द हुआ लेकिन इस दर्द में भी मजा भरा हुआ था. कुछ देर बाद मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाला तो मेरा रस उसकी चूत से बाहर को बहने लगा. मैंने उसे एक तौलिया दिया तो उसने अपनी गीली चूत को पौंछ कर साफ़ कर लिया, फिर उसने मेरा लंड भी उसी तौलिये से पौंछ दिया और बोली- देखो इस शेर को, कैसे चूहा बन कर निकला है मेरी गुफा से! वो उससे खलेने लगी, उसको ऐसे हिलाने लगी जैसे घंटी बजाते हैं और जोर जोर से हंसने लगी.फिर हम उठे, कपड़े पहन कर तैयार हुए और मूवी देखने चले गये.इसी तरह से हम दोनों ने बहुत दिन तक एंजाय किया पर किसी बंधन में न बंधने की कसम खा ली, हम सिर्फ़ चुदाई का मजा लूटने के लिए एक दूसरे का साथ देने लगे.
कहानी का मजा केसा था। 
[email protected]

सेक्स के दौरान महिला को सबसे ज्यादा मज़ा कब आता है

सेक्स के दौरान महिला को सबसे ज्यादा मज़ा कब आता है, महिला की पसंदीदा सेक्स पोजीशन, कब करती है महिलाएं सेक्स को सबसे ज्यादा एन्जॉय, महिला सेक्स में अपने पार्टनर से क्या चाहती है, महिला को सेक्स के दौरान चरम सुख तक पहुंचाने के टिप्स

सेक्स महिलाओं के लिए एक ऐसा विषय है जिसके बारे में न तो वो खुलकर अपनी इच्छा को व्यक्त करती है, न ही उसके बारे में बात करती है। लेकिन क्या आप जानते हैं की महिलाएं सेक्स के लिए पागल रहती है क्योंकि इस दौरान वो अपने पार्टनर को अपने सबसे ज्यादा करीब महसूस करती है। और खुलकर सेक्स को एन्जॉय करना चाहती है। और ऐसा भी नहीं है सेक्स के लिए महिला की इच्छाएं नहीं होती है, बल्कि महिला की भी पसंदीदा सेक्स पोजीशन होती है, कुछ अंग होते हैं जहां महिला चाहती है की उनका पार्टनर उन्हें छुएं और उस पर अपने प्यार का अहसास दे। तो आइये आज हम ऐसे ही कुछ राज़ बताने जा रहें हैं जिससे आपको पता चलेगा की सेक्स के दौरान महिला को सबसे ज्यादा मज़ा कब आता है।

डर्टी टॉक करने पर

महिला चाहे अपने मुँह से कुछ न बोलें लेकिन सेक्स के दौरान की जाने वाली डर्टी टॉक महिला को बहुत पसंद होती है। खासकर जब आप बात करते हुए महिला के अंगो से छेड़छाड़ करते है बेहतर सेक्स की शुरुआत करने और महिला को सेक्स दौरान उत्तेजित करने का यह सबसे आसान तरीका होता है। इसीलिए आप चाहे तो सेक्स की बेहतरीन शुरुआत के लिए इसे ट्राई कर सकते हैं क्योंकि महिलाएं इसे खूब एन्जॉय करती हैं।

लिप किस करते समय

Sex
सेक्स करने के टिप्स

लव बाईट हो या लिप किस यदि आप महिला को कसकर पकड़कर उन्हें बेहतर तरीके से किस करते हैं या उनके किसी अंग पर लव बाईट देते हैं। तो महिला को ऐसा करना सेक्स के दौरान और ज्यादा उत्तेजित करता है, और जितनी देर आप किस करते हैं उतना ही जयादा महिला इस पल को सेक्स के दौरान एन्जॉय भी करती है।

फोरप्ले के दौरान

महिला के सेक्सी अंगो से जब उनका पार्टनर छेड़छाड़ करता है तो महिलाएं इस पल को सेक्स के दौरान सबसे ज्यादा एन्जॉय करती है। ब्रैस्ट, पेट, पीठ, सिर, जाँघे, पैर के तलवे, आदि पर महिला को जब पुरुष अपने होंठों से छूता है या उन पर किस करता है। तो महिला खूब एन्जॉय करती है। और इस बात का पता आप महिला की वजाइना के गीलेपन से लगा सकते हैं। यह गीलापन सेक्स के दौरान आपके लिए लुब्रीकेंट का काम करता है। खासकर महिला के जी स्पॉट पर हलचल होने पर महिला सबसे ज्यादा एन्जॉय करती है।

वजाइना में हलचल

सेक्स के दौरान यदि महिला का पार्टनर उनकी वजाइना को छूता है, उस पर अपनी उंगलिया फेरता हैं, किस करता है तो महिला इसे सबसे ज्यादा एन्जॉय करती हैं। सेक्स के दौरान वजाइना में हल्की सी हलचल महिला के सेक्स के उत्साह को दुगुना कर देती है और उसे जल्दी चरम सुख तक पहुंचाने में मदद करती है।

कमरे में हो अँधेरा

एक रिसर्च के अनुसार सेक्स के समय महिला कमरे में अँधेरा होने पर सेक्स का भरपूर मज़ा लेती है और रात का समय उनका पसंदीदा सेक्स करने का समय होता है। इसका कारण होता है की अँधेरे में हो अपने पार्टनर को और ज्यादा अपने करीब खींच सकती है, और अपनी इच्छाओं को खुलकर व्यक्त भी करती है। ऐसे में सेक्स के समय यदि कमरे में अँधेरा हो तो महिला सेक्स को भरपूर एन्जॉय करती है।

पसंदीदा सेक्स पोजीशन

यदि आप महिला को सेक्स के दौरान खुश करना चाहते हैं या यह सोच रहें हैं की महिला को सेक्स के दौरान आप कैसे खुश कर सकते हैं। तो इसका सबसे आसान तरीका होता है की महिला की पसंदीदा सेक्स पोजीशन आप ट्राई करें, महिला सेक्स के दौरान इस पल में खूब एन्जॉय करती है। और सेक्स के लिए महिला की सबसे पसंदीदा सेक्स पोजीशन वूमेन ऑन टॉप और डॉगी स्टाइल होती है।

संतुष्ट हो जाने पर

Women Satisfacction during sex
सेक्स टिप्स

सेक्स का असली आनंद तभी आता है जब महिला सेक्स के दौरान महिला संतुष्ट हो जाती है। और एक बार संतुष्ट होने पर भी यदि पुरुष अभी फ्री नहीं होता है तो महिला संतुष्ट होने के बाद सेक्स के लिए और ज्यादा उत्साहित हो जाती है और एक बार सेक्स के दौरान वो लगातार दो बार चरम सुख तक पहुँच सकती है। जबकि पुरुष को एक बार चरम सुख तक पहुँचने के बाद दस से पंद्रह मिनट का आराम चाहिए होता है।

सेक्स खत्म होने पर भी पार्टनर की बाहों में आराम से लेटने पर

जैसे ही महिला और पुरुष सेक्स से फ्री हो जाते हैं तो थकावट होने पर भी यदि पुरुष और महिला एक दूसरे की बाहों में आराम करते हैं, ऐसा करना महिलाओं को बहुत ज्यादा पसंद होता है। और सेक्स के बाद का यह एक ऐसा पल होता है जिसमे महिला और पुरुष दोनों खूब एन्जॉय करते हैं।

तो यह हैं वो कुछ खास पल जहां महिलाएं सेक्स को सबसे ज्यादा एन्जॉय करती है। और महिला हमेशा चाहती है की उनका पार्टनर सेक्स के दौरान इनकी इच्छाओं का भी ध्यान रखें, और यदि आप ऐसा करते हैं तो न केवल आप सेक्स का भरपूर मज़ा लेते हैं। बल्कि आपकी सेक्स लाइफ को हमेशा जवान और रोमांस से भरपूर रहने माँ मदद मिलती है, और महिला भी आपकी बाहों में आने के लिए हमेशा आतुर रहती है।

गे और लेस्बियन क्या होते हैं? और कैसे सेक्स करते हैं

गे क्या होते हैं, लेस्बियन क्या होते हैं, गे सेक्स कैसे करते हैं, लेस्बियन सेक्स कैसे करते हैं, गे और लेस्बियन क्या होते हैं और कैसे सेक्स करते हैं, What are Gay, What are Lesbian

गे और लेस्बियन भी हमारी तरह इंसान होते है यह किसी दूसरे लोक से नहीं आते हैं बस इनकी यौन इच्छा हमसे अलग होती है। गे का मतलब होता है जब दो पुरूष आपस में सम्बन्ध बनाते हैं यानी समलैंगिक पुरूष। लेस्बियन का मतलब होता है जब दो महिला आपस में एक दूसरे की यह को पूरी करते हैं यानि समलैंगिक महिलाएं। यह कोई बिमारी भी नहीं होती है, बस इसमें एक पुरूष महिला की और आकर्षित होने की बजाय दूसरे पुरूष की तरफ ही आकर्षित होता है। और एक महिला पुरूष की तरफ आकर्षित होने की जगह एक महिला की और ही आकर्षित होती है। दुनिया भर में बहुत सी जगह ऐसा होता है और अब इसे मान्यता भी दे दी गई है। तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की गे और लेस्बियन से जुडी हुई कुछ खास बातें।

गे क्या होते हैं?

गे का मतलब होता है समलैंगिक पुरूष जब एक पुरूष अपनी जरुरत और अपनी इच्छा अनुसार महिला की तरफ नहीं बल्कि पुरूष की तरफ आकर्षित होता है, तो इसे गे कहते हैं।

लेस्बियन क्या होते हैं?

लेस्बियन का मतलब होता है समलैंगिक महिलाएं जब एक महिला एक पुरूष को छोड़ एक महिला के साथ रहना चाहती है और उसकी और आकर्षित होती है तो इसे लेस्बियन कहते हैं।

गे और लेस्बियन सेक्स कैसे करते है?

अब आप यह सोच रहें होंगे की यह लोग आपस में सेक्स सम्बन्ध कैसे बनाते होंगे सेक्स सम्बन्ध बनाने के लिए केवल लिंग का योनि में डालना ही जरुरी नहीं है। बल्कि शरीर के कामुक अंग भी आपको उत्तेजित करने और आपकीस एक्स इच्छा को पूरा करने में मदद करते हैं। ऐसे ही हो सकता है की सेक्स सम्बन्ध का आनंद लेने के लिए यह एक दूसरे के अंगो पर छुअन करके उससे सेक्स को एन्जॉय करते हो। इसके अलावा हस्तमैथुन मुखमैथुन भी सेक्स को एन्जॉय करने का एक अच्छा और बेटर तरीका है जिससे सेक्स के दौरान आपको संतुष्ट होने में मदद मिलती है।

तो यह है गे और लेस्बियन से जुडी कुछ बातें और अलग अलग सेक्स के प्रति अट्रैक्ट होना आम बात होती है लेकिन यदि कोई अपने ही सेक्स की तरफ अट्रैक्ट होता है तो यह भी एक मानसिक प्रवृति है इसके बारे में अभी कुछ बातें सामने आई हैं और कुछ नहीं।

वीर्य जल्दी न निकले क्या करें?

वीर्य जल्दी होने के कारण, वीर्य जल्दी न निकले क्या करें, जल्दी डिस्चार्ज होने के कारण, सेक्स के दौरान जल्दी डिस्चार्ज क्यों हो जाता है, Early Discharge during Sex, viry jaldi hone ke karan 

शारीरिक सम्बन्ध का असली मज़ा तभी आता है जब महिला और पुरूष सेक्स करते हुए चरम सुख तक पहुँच जाते हैं। लेकिन इसका मज़ा खराब भी हो जाता है जब सेक्स करते हुए डिस्चार्ज बहुत जल्दी हो जाता है, इसके कारण सेक्स को आप बेहतर तरीके से एन्जॉय नहीं कर पाते हैं और ऐसा केवल महिला को ही परेशान नहीं करता है बल्कि पुरूष भी इसके कारण शर्म महसूस करता है। क्योंकि सेक्स का भरपूर आनंद तो तभी आता है जब महिला और पुरूष बेड पर एक दूसरे के साथ लम्बा समय बिता सकते हैं। ऐसे में महिलाएं जहां दूसरे ऑर्गज्म के लिए भी तैयार रहती है वहीँ पहले ही वीर्य निकाल जानें के कारण सेक्स का आनंद नहीं आता है।

लेकिन क्या अपने सोचा है की ऐसा होता क्यों हैं? क्यों सेक्स का मज़ा अधूरा रह जाता है? इसके कारण भी बहुत से हो सकते है जैसे की सेक्स से पहले यदि आप पोर्न देख लेते है तो ऐसे में कई बार शारीरिक सम्बन्ध बनाने का भी दिल नहीं करता है, क्योंकि आप पोर्न देखकर ही संतुष्ट हो जाते हैं। और पोर्न की अधिक लत आपकी सेक्स लाइफ पर बुरा प्रभाव भी डालती है। इसके और भी कई कारण हो सकते है, तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की वीर्य जल्दी होने के क्या कारण होते है और आप किस तरह इस परेशानी से निजात पा सकते हैं।

वीर्य जल्दी निकलने के कारण

  • जो व्यक्ति सेक्स करने से पहले बहुत अधिक उत्तेजित हो जाते हैं उन्हें यह समस्या होती है।
  • लिंग के आगे के हिस्से पर अधिक संवेदना होना भी इसका एक कारण है।
  • शुगर की बिमारी होने के कारण।
  • हस्तमैथुन अधिक करने की वजह से।
  • जो लोग पोर्न फिल्मे अधिक देखते हैं उन्हें भी ऐसा हो सकता है।
  • अधिक नशा करना भी इसका एक कारण हो सकता है।
  • प्रोस्टेट में इन्फेक्शन होने के कारण।

वीर्य जल्दी न निकले इसके लिए टिप्स

वीर्य जल्दी न निकले और आप सेक्स का भरपूर मज़ा ले सके यह मुमकिन होता है बस इसके लिए आपको कुछ बातों का सेक्स के दौरान ध्यान देना चाहिए। और यदि किसी तरह की समस्या है तो जल्द से जल्द उसका समाधान करने की कोशिश करनी चाहिए। तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की वीर्य जल्दी न निकले इसके लिए क्या करना चाहिए।

पोर्न ज्यादा न देखें

अधिक पोर्न देखने के कारण आपको सेक्स के दौरान जल्दी वीर्य होने की परेशानी हो सकती है, ऐसे में सेक्स को एन्जॉय करने के लिए आप कभी कभी अपने पार्टनर के साथ पोर्न देख सकते हैं। लेकिन इसे ज्यादा देखना आपकी सेक्स लाइफ को बुरी तरह से प्रभावित कर सकता है। इसीलिए पोर्न का मज़ा नहीं बल्कि अपने पार्टनर के साथ सेक्स का मज़ा ले ताकि आपकी इस परेशानी का समाधान हो सके।

हस्तमैथुन अधिक न करें

जिन लोगो को अधिक हस्तमैथुन की लत पड़ जाती है वो भी अपनी सेक्स लाइफ को पूरी तरह से एन्जॉय नहीं कर पाते हैं ऐसे में आपको इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए। और सेक्स के लिए हस्तमैथुन करना चाहिए लेकिन अधिक करना आपकी सेक्स लाइफ को बर्बाद कर सकता है। और सेक्स का यदि आप बेहतर मज़ा उठाना चाहते हैं तो अलग अलग सेक्स पोजीशन को ट्राई करके भी उठा सकते हैं।

ज्यादा जोश में न आए थोड़ा रुकें

सेक्स के दौरान अधिक उत्तेजित होना सेक्स के मज़े को खराब कर सकता है। ऐसे में सेक्स के दौरान आपको इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए की आप अधिक उत्तेजित न हो। जिससे आपको बेहतर सेक्स लाइफ का मज़ा लेने में मदद मिल सके। क्योंकि यदि आप जोश में ही अपनी ऊर्जा को बाहर निकाल देंगे तो इससे सेक्स का मज़ा नहीं आएगा। ऐसे में सेक्स करते हुए भी आपको जोश से नहीं बल्कि होश से काम लेना चाहिए ताकि आप खुलकर अपनी सेक्स लाइफ को एन्जॉय कर सकें।

नशा है हानिकारक

अधिक नशा करने से भी आप सेक्स पावर पर बुरा असर पड़ता है। और साथ ही ऐसा करने के कारण आप सेक्स को खुलकर एन्जॉय भी नहीं कर पाते है क्योंकि इसकी वजह से आपको वीर्य जल्दी आने की समस्या से परेशान होना पड़ सकता है। ऐसे में इस समस्या से बचने के लिए आपको जितना हो सके अधिक नशे से परहेज कारण चाहिए। इससे आपको फिट रहने में मदद मिलती है और शारीरिक रूप से फिटनेस बेहतर सेक्स लाइफ में मदद करती है।

डॉक्टर से ले राय

इस समस्या का कारण आपकी प्रोस्टेट से जुडी समस्या या कोई शारीरिक समस्या भी हो सकती है, और यदि ऐसा कुछ है तो इस बारे में एक बार आपको अपने डॉक्टर से जरूर राय लेनी चाहिए। ताकि यदि कोई परेशानी है तो उसका जल्द से जल्द समाधान मिल सके। और आप खुलकर अपनी सेक्स लाइफ को एन्जॉय कर सकें।

तेजी न करें

सेक्स के दौरान यदि आप बहुत तेजी करते हैं और आप केवल लिंग को ही मूव करने पर अपना ध्यान रखते हैं तो ऐसा करने से आपको जल्दी वीर्य आने की समस्या हो सकती है। ऐसे में यदि आप चाहते हैं की सेक्स को आप खुलकर एन्जॉय कर सकें, और आपको जल्दी वीर्य न आए तो आपको सेक्स करते समय तेजी न करते हुए बल्कि इसे मज़ेदार बनाते हुए आराम से करना चाहिए।

तो यह हैं कुछ खास टिप्स जिनकी मदद से आप सेक्स का भरपूर आनंद भी ले सकते हैं और सेक्स के दौरान जल्दी डिस्चार्ज होने वाली समस्या से भी आपको निजात पाने में मदद मिलती है। इसके अलावा यदि आपको कोई गलत लत भी है तो सेक्स का भरपूर मज़ा लेने के लिए आपको इन सबसे परहेज करना चाहिए ताकि आप अपनी सेक्स लाइफ का भरपूर मज़ा उठा सके और आपकी पार्टनर को भी इससे कोई परेशानी न हो।

Daily Updated Hindi Sex Kahani Website Must Read Sexy Hot Sex Story at Nonveg Story Hindi Sex Kahaniyan