पहले मेरी माँ चुदी फिर मैं चुदी कैसे जानिए

पापा के दोस्त से चुदाई, पापा के दोस्त ने मम्मी को चोदा, Papa ke Dost Sex, Mummy ko Chudai, Ma Ki chudai, Meri Chudai,

दोस्तों मेरा नाम कविता है। मैं अठारह साल की हूँ। पापा के दोस्त जो की पापा के उम्र से काफी काम था और मम्मी से शायद 7 साल छोटा होगा। और मेरे से 10 साल बड़ा, वो बड़े ही हेल्पफुल इंसान हैं। धीरे धीरे मेरी माँ का दिल उनपर आ गया। ये बात पापा को नहीं पता था पर मुझे पता था। जब पापा घर पर नहीं होते तो वो उनसे बातें करती। अपनी सारी बातें बताती। वो दोनों एक दूसरे का केयर करते थे पर शायद दोनों के बिच सेक्स सम्बन्ध कभी नहीं रहा था। पर वो दोनों एक दूसरे को चाहते थे। पर उनका व्यवहार ऐसा था की कोई भी औरत या लड़की उनपर मेहरवान हो सकती थी। और मैं भी उनको पसंद करने लगी.

उनका मेरे घर से काफी अच्छा सम्बन्ध हो गया था। वो हमेशा नहीं आते थे घर पर जब पापा बुलाते तभी आते तो पापा को भी कभी शक नहीं होता था। और होना भी नहीं चाहिए क्यों की ऐसा कभी उन्होंने कुछ किया ही नहीं बस एक परिवार की तरह रहते थे अब कोई किसी को चाहे तो इसका क्या हो सकता है।

मेरे पापा १ महीने के लिए कंपनी के तरफ से दुबई जाने वाले थे। हमलोगों को लग रहा था कैसे हमलोग एक महीने अलग रहेंगे आपको तो पता है किसी शहर में एक माँ बेटी को अकेले रहना कितना खतरनाक हो सकता है। तो पापा के दोस्त बोले मैं हूँ कोई दिक्कत नहीं होगी। पापा को लगा चलो कोई तो है जो मेरे एब्सेंट में मेरे परिवार का देखभाल करेगा। तो मम्मी बोली कोई बात नहीं मैं सही से रह लुंगी जब उनकी जरुरत होगी ऐसा नहीं लगता है की उनकी जरुरत पड़ेगी। इस बात से पापा को लगा की मेरी पत्नी कितनी अच्छी है पराये मर्द को घर नहीं बुलाना चाहती है।

जिस दिन पापा की फ्लाइट थी। उसके एक दिन पहले सारा सामान पैक हो गया। हमलोग को समझा दिए की कैसे क्या करना है और कैसे रहना है। फिर रात को खाना खाकर उन्हों मुझे जल्दी सोने भेज दिया। मुझे नींद नहीं आ रही थी लग रहा था पापा अब एक महिने के लिए हमलोगों से दूर हो जायेंगे। तभी मम्मी पापा के कमरे से आह आह की आवाज आई मैं अपने कमरे से बाहर निकलकर देखा तो खिड़की खुली थी दरवाजा बंद था और लाइट जल रही थी। पापा मम्मी को चोद रहे थे पर मम्मी बार बार यही कह रही थी इसीलिए नहीं देती हूँ।

आप खुश कर ही नहीं पाते हो। पता नहीं इतना छोटा कैसे हो गया है तुम्हारा लौड़ा और अब तो टाइट भी नहीं होता है। पर पापा कोशिश कर रहे थे पर माँ गुस्से में थी। पापा चोद रहे थे चूचियां दबा रहे थे पर मेरी माँ ऐसी लग रही थी जैसे जान ही नहीं है उनमे वो सिर्फ लेटी हुई थीं नंग धडंग। आखिर कार पापा निढाल हो गए और वो तुरंत ही मम्मी के ऊपर से निचे होकर सो गए मम्मी उठकर कपडे पहनी पानी पि और लाइट जला कर सो गई। मुझे उस दिन पता चला था की दोनों की सेक्स लाइफ ठीक नहीं चल रही है।

दूसरे दिन पापा की फ्लाइट 12 बजे रात को थी। मैं घर पर थी उनको छोड़ने पापा के दोस्त और मेरी माँ गई थी। वापस वो लोग करीब १ बजे रात को आये। में दरवाजा का चाभी माँ के पास था तो वो मुझे नहीं उठाई और अंदर आ गई। मेरी नींद खुल गई थी पर उठी नहीं पापा के दोस्त भी माँ के साथ ही था। मुझे लगा की ये इस समय क्यों आया है पापा तो चले गए पर पापा के दोस्त आ गए और मैं देखि की वो सीधे मम्मी के बैडरूम में चले गए। मम्मी जल्दी जल्दी अपने कपडे खोली और एक नाइटी पहन ली और दरवाजा बंद कर दी। मैं तुरंत ही कमरे से बाहर आई और वहीँ खिड़की के पास से दखने लगी।

मम्मी और अंकल दोनों एक दूसरे को किश कर रहे थे। अंकल मम्मी की चूचियां दबा रहे थे और फिर नाइटी उतार दिया उन्होंने फिर मम्मी को पलंग पर पटक दिया और मम्मी की चूचियां पिने लगे। और फिर उनके होठ को चूसने लगे। फिर मम्मी की चूत चाट रहे थे मम्मी काफी ज्यादा कामुक हो गई थी वो खुद ही अपने हॉट को अपने दांतों से दबा रही थी बार बार वो अपना जीभ निकलती और होठ को गीला करती। ये सब देखकर मेरी चूत भी गरम होने लगी थी। अंकल मम्मी को पलट दिया और गांड चाटने लगे मम्मी कभी हँसती कभी मुस्कराती कभी अंगड़ाइयां लेती। कभी अंकल को प्यार करती कभी चूमती कभी अपने गले से लगा लेती। दोस्तों ये सब देख कर मुझसे रहा नहीं गया और मैं खुद ही अपने चूचियों को दबाने लगी और चूत सहलाने लगी।

उसके बाद अंकल ने मम्मी को चोदना शुरू किया। वो मम्मी के दोनों पैरों को अलग अलग किया और चूत पर लंड सेट कर के जोर से धुसा दिया मम्मी के मुँह से आह आह आह निकलने लगी। मम्मी बोली इससे कहते हैं लौड़ा और इसे कहते हैं चुदाई। पर क्या कारण मेरे किस्मत में भगवान् ने क्या लिखा है। तो पापा कहने लगे चिंता करने की कोई बात नहीं मैं हूँ आपको खुश करने के लिए। मम्मी बोली हां वो तो है पर मैं तो पाने किस्मत पर रो रही हूँ।

और मम्मी अंकल के गांड को पकड़ कर अपने चूत में जोर जोर से सटा रही थी और अंकल धक्के दे रहे थे। अंकल माँ के चूचियों को दबा रहे थे खेल रहे थे कभी गाल पर चूमते कारबी गर्दन पर कभी होठ पर कभी चूचियों पर ये सब देखकर मैं और बैचेन होने लगी.

दोनों फुल स्पीड में आ गए और कमरे में आ आहे ओह्ह को आवाज आ रही थी पलंग की आवाज कर रहा था और दोनों फुल स्पीड में लगे थे और अचानक दोनों एक साथ झड गए। मम्मी उठी अंकल को चूमा और फिर कपडे पहन कर सो गई। अंकल बोले मैं जा रहा हूँ वो बोली ठीक है चले जाओ। उसके बाद अंकल कपडे पहने बाथरूम गए और करीब 20 मिनट बाद बाथरूम से निकले। तब तक मम्मी सो चुकी थी पंखा तेज चल रहा था। अंकल जैसे बाहर आये बाथरूम से मैं वही खड़ी मिली।

मैं बोली क्या हो रहा था आप दोनों का? अंकल डर गए बोले कहना नहीं इसी से। मैं बोली आ ही पापा को व्हाट्सप्प पर कॉल कर के पूरी बातें बताउंगी। अंकल डर गए। वो तुरंत ही अपने जेब में से 25 दो हजार का नोट गिनकर मुझे दे दिए और बोले चुप रह। तो मैं बोली नहीं इससे काम नहीं चलेगा आपको भी वो सब करना पड़ेगा जो आपने मम्मी के साथ किया है वो खुश हो गए और फिर जेब में हाथ डाले और फिर से 50 हजार निकाल मुझे दे दिए। मैं खुश हो गई। नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर आप ये मेरी चुदाई की कहानी पढ़ रहे हैं।

और फिर मेरे कमरे में आ गए उन्होंने पहले मेरे सारे कपडे उतारे। फिर पुरे बदन को चूमा चूचियां दबाई चुत चाटा और मेरी खूब चुदाई की। शायद मम्मी से भी ज्यादा वाइल्ड तरीके से क्यों की मैं तो जवान हूँ और चूचियां गजब की है चूत भी टाइट नहीं पुरे बदन पर एक भी दाग नहीं नहीं है। ना ज्यादा मोटी हूँ ना ज्यादा पतली चुदने के लिए मेरे से अच्छी लड़की हो ही नहीं सकती। करीब दो घंटे तक मुझे चोदा और फिर वो चले गए। मैं माँ बेटी सुबह की गहरी नींद लेकर करीब 10 बजे उठी।

www.merisexkahani.com तड़पती जवानी की सेक्स कहानी महिलाओं के द्वारा भेजी गई यहाँ क्लिक करें !