Home » Family Sex Stories » पापा को लगा मैं मम्मी हूँ उन्होंने गलती से चोद दिया

पापा को लगा मैं मम्मी हूँ उन्होंने गलती से चोद दिया

Father Dauhgter Hindi Sex Story, बाप बेटी चुदाई, Parivarik Sex Story, Rishton Me Sex, बाप बेटी सेक्स स्टोरी, बाप ने बेटी को चोदा, Dauther ki chudai, father daughter sex story: पापा ने मुझे कल रात माँ समझ कर चोद दिया मुझे। और मैं भी इतनी बेवकूफ की चुद गयी और कुछ बोली भी नहीं। क्यों की मुझे कुछ और लगा और मैं मना भी नहीं कर पाई। बाद में उन्होंने कहा रेखा तुम हो ? मैंने सोचा की तुम्हारी माँ है। तुमने बोला क्यों नहीं कुछ, तो मैं बोल दी आपने मौका भी नहीं दिया बोलने का मैं क्या करती? इसमें मेरी कोई गलती नहीं है। आपने चोदा मुझे आपको सोचना चाहिए था। बीवी है की बेटी।

अब आपको पता चल गया होगा क्या क्या हुआ था। पर मैं आपको अपनी चुदाई की पूरी कहानी बताउंगी। कैसे हुआ था ये सब की पापा जी ने अपने बूढ़े लंड से मुझे चोद दिया और मैं भी चुदवा ली। अब पूरी कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर सूना रही हूँ।

मेरी उम्र 36 साल है। शादी शुदा हूँ तीन बच्चों की माँ हूँ। मैं अपने मायके चार दिन पहले ही आई थी। घर में पापा मम्मी मैं और मेरा छोटा भाई और उसकी पत्नी रहते हैं। मैं जब गयी तो घर वाले को बहुत ख़ुशी हुई क्यों की मैं तीन साल बाद अपने मायके गयी हूँ तो मुझे खूब प्यार दुलार मिला।

भाई की नई नई शादी हुई तो वो भी अपनी बीवी के साथ लगा रहता है। मम्मी पापा को ज्यादा टाइम नहीं मिल पता था क्यों की मैं आ गयी थी। पापा पहले से ही बड़े चुड़क्कड़ स्वभाव के थे। क्यों की जब मैं यहाँ रहती थी। तो पापा मम्मी को रोजाना तीन बार चोदते थे। और मम्मी भी वैसी ही थी वो भी दिन में ही चुदवाने को तैयार हो जाती थी और फिर दरवाजा बंद कर आह आह ओह्ह्ह ओह्ह्ह ओह्ह्ह करते रहती थी। मैं भाई बहन माँ की कामुकता सुनते रहती थी।

गरमा गर्म सेक्स कहानी  पड़ोस की दो बहने और उसकी माँ के साथ सेक्स - Part 1

फिर भाई पुणे चला गया पढ़ने और फिर मेरी शादी हो गयी. तो इन दोनों को और भी फ्री मिल गया तो दोनों खूब रंगरेलियां मनाने लगे। है आदत लग गयी अब बच्चे घर आते हैं वो वो दोनों चुदाई का जुगाड़ लगाते रहते हैं।

कल हुआ यूँ की मेरा भाई और उसकी बीवी खाना खाने बाहर चले गए। घर में मैं और मम्मी थी पापा कही गए हुए थे रात के करीब आठ बज रहे थे। तो पड़ोस की एक अम्मा आई और मम्मी को बुलाकर ले गयी. उनके यहाँ बेबी हुआ था। घर में मैं अकेली थी। और लाइट पांच मिनट पहले चली गयी थी.

उसी समय पापा आ गए। मैं मम्मी की साडी पहन ली थी क्यों की मैंने अपने सारे कपडे धो दिए थे। तो मम्मी बोली मेरी साडी ही पहन लो. मैं पहन ली। मैं और मेरी मम्मी एक जैसी दिखती है कद काठी एक जैसी है और चेहरा भी बहुत मिलता है।

पापा ने मुझे देखा अन्धेरा था। पापा ने मेरा हाथ पकड़ा और पुआल जो रखा था वह ले गए मुझे लगा की वो कुछ बताने जा रहे हैं या दिखाने। वह पहुंचते ही मुझे पुआल पर गिरा दिए. और मैं कुछ बोल पाती की उन्होंने अपना हाथ मेरे मुँह पर रख दिया। और फिर साडी ऊपर कर दिए एक हाथ से और एक हाथ से मेरा मुँह दबा रखे थे। उन्होंने साडी ऊपर की मैं पेंटी नहीं पहनती थी।

लैंड निकाला और मेरी चुत पर लगया और जोर से घुसा दिया। पापा जी शराब पिए हुए थे। मैं सब समझ गयी तो मुझे माँ समझ लिए थे। क्यों की वो कह रहे थे सावित्री (मेरी माँ का नाम) आज तेरी चुत टाइट लग रही है तेरी चूचियां भी बड़ी बड़ी हो गयी है। तू तो जवान हो रही है मेरी रानी।

गरमा गर्म सेक्स कहानी  मेरी माँ को मेरे स्कुल प्रिन्सिपल ने अपने ऑफिस में हि चोद दिया बूर फाड़कर

और फिर जोर जोर से धक्के देते। धीरे धीरे मुझे भी अच्छा लगने लगा था पापा का लंड। मैं अब शांत हो गयी और पैर को फैला दी। ताकि लंड के मजे ले सकूँ पहले वो ब्लाउज के ऊपर से भी मेरी चूचियों को दबा रहे थे। मैं ब्लाउज का हुक खोल दिया और ब्रा भी खोल दी। अब उन्होंने मेरी चूचियां मसलना शुरू कर दिया। और जोर जोर से लंड को चुत में घुसा रहे थे।

मेरी चुत पानी पानी हो गया था मेरे पुरे शरीर में सिहरन होने लगी। मैं भी कामुकता से भर गयी। मैं भी गांड गोल गोल घुमाने लगी और निचे से धक्के दे रही थी। तो पापा जी बोले आरी सावित्री तुम तो आज गजब्ब चुदवा रही है। गांड गोल गोल और निचे से धक्के देना कभी तुमने नहीं किया है। क्या तुम आज इंटरनेट पर सेक्स सिनेमा देखि हो क्या. आज तो तुमने खुश कर दिया। ऐसे ही रोजाना चुद्वाना।

और पापा जी जोर जोर से लंड पेलने लगे और मैं भी मदद करने लगी। तभी मम्मी की आवाज आई। वो दरवाजे के बाहर से ही बोलते हुए आई. रेखा।।। पापा जी आये की नहीं। इतना सुनते ही पापा जी अपना लंड मेरी चुत से निकाल लिए। तभी मम्मी बोली अभी आ रही हूँ दस मिनट में। और फिर माँ चली गयी.

तभी लाइट आ गयी। मैं अपना ब्रा का हुक लगाकर ब्लाउज का हुक लगाने लगी और अपना साडी निचे करने लगी। पापा जी अपने लंड को अंडरवियर में डालते हुए बोले। रेखा तुमने बोला नहीं। मैं तो सोचा था सावित्री है। तो मैं बोली आपने मौक़ा ही नहीं दिया। जब मौक़ा मिला तब तक बहुत देर हो चुकी थी आपने सब कुछ कर भी दिया था।

गरमा गर्म सेक्स कहानी  Mumbai Tour me Mast Ladki Ko Choda.

तो पापा बोले फिर तुमने ब्लाउज का हुक क्यों खोला? और तो गोल गोल घुमा रही थी तुम्हे तो पता था ? मुझे ग़लतफ़हमी हो गयी थी पर तुम्हे से सब कुछ पता था। तो मैं बोलने लगी करती क्या मेरे अंदर की कामुकता जाग गयी थी। जैसे आप गलती कर बैठे वैसे मैं भी गलती कर बैठी।

और फिर बाप बेटी में ऐसे बन गया था सेक्स सम्बन्ध। और पापा ने मुझे मम्मी जानकर चोद दिया।