भाई को गले लगाना पूरी रात की सजा हो गई

भाई बहन सेक्स, Bhai Bahan Sex, Behn Ki Chudai, Brother Sister Sex Kahani, Hindi Bro Sis Sex, story bahan bhai ki, chudai ki kahani,

मेरी शादी हुए छह महीने हुए हैं। मैं अपने ससुराल में रह रही हूँ। बाबूजी और माँ दोनों तीर्थ यात्रा पर गए हुए थे और मेरे पति देव तीन दिन के लिए बिज़नेस टूर पर, इस बिच मेरा छोटा भाई मुझसे मिलने आया और मैं भी ज्यादा प्यार दिखाने के चक्कर में गले लगा ली और फिर गले लगाना पूरी रात चुदाई में बदल गया कैसे मैं आपको यही बताने जा रही हूँ। दोस्तों दिवाली के बाद से ही अपने मन को हल्का करने की सोच रही हूँ क्या मैं गलती कर दी या सही किया समझ नहीं आ रहा है तो सोची नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर अपनी कहानी लिखकर अपने मन को हल्का करू. अब मैं कहानी पर आती हूँ।

मेरा नाम मोनिका है बीस साल की हूँ। खूबसूरत हूँ। हॉट हूँ टिक टोक पर भी काफी फेमस हूँ। पति देखने में बहुत खूबसूरत है पर चुदाई करने में कमजोर है कारन है की वो बाइक से गिर गए थे तभी से उनके कमर में दर्द रहता है लंड खड़ा तो हो जाता है पर वो झटके नहीं दे पाते हैं। आप खुद सोचिये लंड सिर्फ चूत में घुसा देने से ही नहीं होता है जब तक जोर जोर से झटके नहीं लगे तब तक चुदाई में मजा नहीं आता है। मैं कितनी चूत चटवा लूँ। कितनी चूचियां पीला लूँ पर इन सब से कुछ भी नहीं हो रहा था। तभी मैं अपने भाई से गले लगते ही मैं भी बहक गई थी और पूरी रात रंगीन कर डाली।

मायके से मिठाई और कपडे भेजे थे। दिवाली के दो दिन बाद आया रात के करीब 10 बज रहे थे मैं अकेली थी जैसा की आपको पता है ऊपर बता चुकी हूँ। उसको देखकर रहा नहीं गया और ज्यादा भाई के प्रति प्यार दिखने के चक्कर में गले लगा ली। मेरी चूचियां जैसे ही उसके सीने से टकराई वो तो पागल हो गया। वो मुझे कस के पकड़ लिया और मेरी पीठ सहलाने लगा। मैं रुई की तरह लिपट गई वो मेरे कंधे को चूमने लगा। मैं बोली ये क्या कर रहे हो रोहन। तो वो बोला कुछ नहीं दीदी आज मुझे मत रोको, आपसे इतने दिन तक मिला नहीं इसलिए छोड़ने का मन नहीं कर रहा है। मैं मान गई और थोड़ा और सहला दी। इसमें तो वो और भी पागल हो गया।

सच तो ये है दोस्तों मैं खुद ही अपने आप पर काबू नहीं रख पा रही थी क्यों की मैं खुद भी वासना पूरी नहीं होने के कारण मेरी वासना की आग धधक रही थी मेरे जिस्म में, मैं अपने आप पर काबू नहीं रख पाई और मैंने अपना होठ उसके होठ पर रख दिया। फिर मेरा भाई मेरे गुलाबी होठ को चूसने लगा मेरी गाल को काटने लगा मेरी पीठ को सहलाते सहलाते मेरे गांड पर हाथ फेरने लगा. ऐसा लगा मेरे शरीर में करंट दौड़ गया. मैं झट से घूम गई वो मुझे पीछे से पकड़ लिया। मेरे गांड में अपना लौड़ा रगड़ने लगा। पीछे से हाथ आगे करके मेरी चूचियों को दबाने लगा और फिर उसने मेरे ब्लाउज का हुक खोल दिया।

मैं ब्रा पर आ गई थी वो अब मेरे पीठ को चूमने लगा। जब भी वो मेरी पीठ पर अपना होठ रखता मेरे रोम रोम खड़े हो जाते। और उफ्फ्फ उफ्फ्फ उफ़ की आवाज निकलती। उसमे बाद वो पीछे से ब्रा के हुक को खोल दिया। मेरी दोनों चूचियां टाइट हो चुकी थी निप्पल भी खड़ा हो गया था। मेरे बाल बिखर गए थे। मैंने उसके लंड को पकड़ ली. अब हम दोनों बैडरूम में गए और मैं लेट गई।

उसने मेरे कमर पर बंधे साडी को उतारा पेटीकोट का नाडा खोला और मेरी रेड कलर की पेंटी को सुंघा और फिर खोल दिया। तब तक मेरी चूत काफी गरम हो चुकी थी. वो मेरी चूत को सहलाते हुए कहा काश ये मौक़ा तुम मुझे पहले देते तो मैं तुम्हारे नाम का करीब 20 किलो वीर्य बाथरूम में बर्बाद नहीं करता। तो मैं बोली कोई बात नहीं अब मत करना बर्बाद मुझे जरूरत है विक्की डोनर की तुम्हारे जीजा तो चोद ही नहीं पाते।

इतना सुनकर मेरा भाई मेरी चूत को जीभ से चाटने लगा। मैं उसके बाल पकड़ पर अपने चूत से सटाती मेरी सिसकारियां बढ़ रही थी। मैं पागल हो रही थी मुझे तो बस अब लौड़ा चाहिए था। मैंने कहा देर मत कर अब तो तड़पाना छोड़ दे। उसने तुरंत अपना लौड़ा निकला और मेरी चूत पर लगाया और जोर से घुसा दिया। मेरी तो जान निकल गई थी जब उसने थोड़ा घुसाया था। पर जब उसने पूरा लौड़ा घुसा कर एक दो बार अंदर बाहर किया तो फिर मुझे मजा आने लगा. मेरी चूत से सफ़ेद क्रीम निकल रहा था और वो जोर जोर से धक्के दे रहा था।

मुझे तो बस ऐसे ही धक्के का इंतज़ार था जो मेरे पति से मुझे नहीं मिल रहा था। दोस्तों उसने मेरी टांगो को ऊपर कर दिया और फिर चौड़ी गांड के बिच में पतली सी खाई जो मेरी चूत थी उसमे अपना लौड़ा पेलने लगा वो जोर जोर से धक्के देता मेरी चूचियां हिलती फिर वो पकड़ता वो अपनी दांतो से निप्पल को पकड़ा मुँह में लेता मेरी होठ चूसता और फिर जोर से मेरी चूत में झटके देता.

क्या बताऊँ दोस्तों आज मुझे लगा की चुदाई में कितना मजा है और मैं इस मजे से अभी भी दूर थी पर आज मेरा भाई ने मुझे खुश कर दिया चोद कर। उसने मुझे करीब अलग अलग स्टाइल में एक घंटे तक चोदा फिर हम दोनों ने खाना खाया फिर साथ ही सोये। यहाँ तक की वो सुबह ही जाने वाला था पर तो तीन दिन तक नहीं गया जब तक मेरे पति और सास ससुर नहीं आ गए। आप खुद ही सोचिये उसने तीन दिन तक मेरे साथ सारे चुदाई के तरीके आजमा लिए। मैं अपनी दूसरी कहानी जल्द ही नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर लिखने वाली हूँ।

www.merisexkahani.com तड़पती जवानी की सेक्स कहानी महिलाओं के द्वारा भेजी गई यहाँ क्लिक करें !