माँ लेस्बियन है मुझसे सेक्स करती है और कहती है पापा के साथ भी तुम

Lesbian Sex Story, Indian Lesbian Kahani, Mother daughter lesbian sex, Hindi Sex Story, Lesbian Sex Story,


मैं गुड़गांव में रहती हूँ अठारह साल की हूँ। मेरी माँ एयरहोस्टेस है। पापा पायलट है। मैं पढाई करती हूँ। मेरी माँ बहुत ही हॉट है उनको मर्दों में काम बल्कि लड़कियों में इंटरेस्ट बहुत ज्यादा है। पहले वो अपने साथ किसी ना किसी लड़की को लाती थी और पता नहीं बंद कमरे में क्या करती थी। पापा तो इंटरनेशनल फ्लाइट में होते थे तो वो 10 दिन तक बाहर ही रहते थे उनकी ड्यूटी ऐसी ही होती थी। माँ भी ऐसे ही बाहर रहती थी। ऐसे में मेरी माँ जब फ्लैट पर होती पापा नहीं होते और जब वो नहीं होते तो वो जमकर शराब पीती और रंगरेलियां करती।

कमरे से आह आह आह की आवाज आती मैं समझ नहीं पाती पहले तो ये सोचती थी की भला दो औरत क्या करेगा आपस में पर मेरी बात गलत निकली।

मैं जब अठारह साल की हुई तो वो मुझे बड़ी सी पार्टी दी ढेर सारे कपडे दिया और वो पहला दिन था जब मेरी माँ मुझे बियर पिने को दी और बोली तुम जवान हो गई हो। मुझे भी लगा अठारह की हो गई हूँ तो हो सकता है ये सब जरुरी है। उस दिन पापा नहीं थे वो गए हुए थे। माँ मेरी अपने लिए भी ब्रा पेंटी ले और अपने लिए भी सेम कलर का। दो बोतल बियर घर पर ले जोमाटो से खाना आर्डर किया और घर में खाना हाय और बियर पि। माँ बोली नीतू तुम लिंगरी पहन हो। मैं पिंक कलर का ब्रा और पेंटी पहन ली। जब टॉप जीन्स पहनने लगी तो बोली नहीं नहीं। आज कुछ खाश होगा। और फिर मम्मी मेरे सामने ही वो भी सेम कलर का ब्रा और पेंटी पहन ली।

कामुक और हॉट सेक्स कहानी  मेरे करन अर्जुन ने मुझे पटक पटक कर चोदा और गर्भवती कर दिया

वो मेरे साथ डांस करने लगी। मुझे भी ये सब बहुत अच्छा लग रहा था। मुझे यकीं नहीं था एक माँ अपने बेटी के ऐसे घुलती मिलती है। पर वो फूल मूड में थी और मेरे साथ डांस करने लगी। माँ मेरी बहुत हॉट है साथ साथ आज मैं भी हॉट दिख रही थी अचानक वो मेरे होठ को छूने लगी और मुझे किश करने लगी। मैं बोली मोम क्या कर थी हो। तो अपने ऊँगली को मेरे होठ पर रख दी और बोली मजे लो बेटी अब जवान हो गई हो। और वो मेरे होठ को चूसने लगी। पहले तो मुझे ये सब ठीक नहीं लगा पर धीरे धीरे मेरे शरीर में सिहरन होने लगी। मैं मस्त होने लगी और मैं खुद माँ के होठ को चूसने लगी। धीरे धीरे कब हम दोनों एक दूसरे के ब्रा उतार दिए पता भी नहीं चला।

माँ मुझे सोफे पर लिटा दी और पैंटी के ऊपर से ही मेरी चूत को सूंघने लगी। और ऐसा लगा वो मदहोश होने लगी। और फिर ऊपर बढ़ गई मेरी चूचियों को सहलाएं और हलके दातों से वो मेरे निप्पल को पकड़ ली मैं अंदर तक हिल गई ऐसा लगा पुरे बॉडी में करंट आ गया हो। मेरे दांत आपस में पीसने लगे खुद ही अपने दाँतों से होठ को काटने लगी और फिर खुद अपनी चूचियां मसलने लगी।

माँ ऊपर बढ़ी और मेरे गर्दन गाल होठ आँख को किश करने लगी और फिर अचानक निचे चली गई। मेरी पेंटी उतार दी और फिर निचे से ऊपर यानी गांड से लेकर नाभि तक चाटते हुए आती और मुस्कुरा देती। मैं तो पागल होने लगी बहुत ही अच्छा लग रहा था। उसके बाद माँ मेरी चूत में जीभ डालने लगी। वो जोर जोर से चाटने लगी. फिर अपने ऊँगली से वो मेरी चूत को सहलाते हुए अंदर डाल दी. मजा आ गया था दोस्तों ऐसा लगा जन्नत में आ गई हु और फिर जल्दी जल्दी ऊँगली ऊपर निचे करने लगी। मेरे मुँह से आह आह आह आह की आवाज निकल रही थी।

कामुक और हॉट सेक्स कहानी  मैंने अपनी सगी बहन के चूत चोदने और चाटने के मजे लिए

उसके बाद माँ मुझे उठने बोली और फिर वो लेट गई। पहले तो मैं माँ को जम कर चूमा फिर उनके गोल गोल फर्टाइल बूब्स को किश किया पिया चूमा दबाया और फिर चूत को अपने जीभ से चाट गई जैसे वो पानी छोड़ती मैं पि जाती और ऑफिर या था दोस्तों ये कहानी आप नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं। मैं अपनी चूत को मम्मी की चूत में रगड़ने लगी दोनों सिसकारियां ले ले के गांड उठा उठा कर रगड़ रहे थे। करीब हम दोनों ने एक दूसरे को २ घंटे तक मजे लिए दिए। फिर बियर पि और बाथरूम में नहा कर फिर हम दोनों नंगे ही सो गए।

माँ बोली पहले भी मैं लाती थी अपने लेस्बियन दोस्तों को कभी कभी पापा भी साथ देते थे। अब तो एक नई कहानी बनेगी हम तीनो के बिच में।