Home » Antarvasna Sex Stories » मेरी बड़ी बहन चुदाई के लिए पागल हो जाती है

मेरी बड़ी बहन चुदाई के लिए पागल हो जाती है

Badi Bahan Ki Sex Kahani : मेरा नाम अभिषेक है मैं 22 साल का लड़का हूं। मैं कॉलेज में पढ़ाई करता हूं मेरे घर में मेरे अलावा मेरी बड़ी बहन सरिता दीदी मेरे मम्मी और पापा हैं। मेरे मम्मी पापा दोनों ही रेलवे में नौकरी करते हैं। मेरी बड़ी बहन की भी शादी नहीं हुई है वह 26 साल की है। सच पूछिए तो घर की गार्जियन वही है। वही डिसाइड करते हैं घर में क्या होगा क्या लाना है। जब मम्मी पापा उसको शादी के लिए बोलते हैं तो वह मना कर देती है कहती है मैं शादी अभी नहीं करना चाहती हूँ। अभी कुछ और समय में लेना चाहती हूं ऐसा वह बोल कर शादी से मना कर देती है।

भगवान जाने वो ऐसा क्यों चाहती है कि उसकी शादी अभी नहीं हो। पर मुझे भी लगता है उसकी शादी हो जाना चाहिए। वह मेरी बहन है पर मेरे साथ जो वह व्यवहार करते हैं वह सही व्यवहार नहीं है। एक मानसिक रूप से स्वस्थ लोग ऐसा व्यवहार अपने सगे भाई के साथ नहीं करता है जैसा कि मेरी सरिता दीदी मेरे साथ करती है। मुझे लिखने मैं हिचक हो रही ह मैं अपनी बात बताऊं आप लोगों को या नहीं। पर आज में शाम 4:00 बजे से ही सोचते सोचते आखिर में मैंने डिसाइड कर लिया क्या आप लोगों को अपनी जो कहानी है सेक्स कहानी मेरी बहन के बीच में वह आप लोगों को भी नॉनवेज story.com के माध्यम से सुना देता हूं।

मैं अपनी बात बड़े सीधे साधे शब्दों में रखूंगा। और जो मेरे साथ हो रहा है मैं वही आपके साथ बताने जा रहा हूं। अपने कई सारे ऐसे सेक्स कहानियां पढ़ी होंगी जहां पर बहन भाई के साथ रिश्ता होता है। पर वह रिश्ता थोड़ा अलग होता है एक दूसरे की भावनाओं को समझते हुए और सहयोग के द्वारा सेक्स रिश्ता बनता है। पर मेरी बहन जो मेरे साथ करते हैं वह एक हैरान कर देने वाली बात है। तो लीजिए बिना समय बर्बाद किए मैं अपनी कहानी पर आता हूं।

1 दिन की बात है मम्मी पापा दोनों नाइट शिफ्ट में ड्यूटी पर थे अक्सर वह दोनों साथ ही जो पे चले जाते हैं क्योंकि वह एक ही स्टेशन पर काम करते हैं। घर में मैं और मेरी दीदी दोनों थे। हम लोग खाना पीना खा लिए थे और सोने ही जा रहे थे। कि दीदी बोली अभिषेक आज हम दोनों नेटफ्लिक्स पर एक सीरीज देखेंगे। और मैं चाहती हूं कि तुम मेरे साथ देखो। मुझे लगा कोई बात नहीं है दीदी जैसा कह रही है वैसा मैं कर लेता हूं। मैं भी उनके साथ सीरीज देखने लगा। सीरीज 18 प्लस लोगों के लिए था यानी कि एडल्ट था उसमें। आपको तो पता होगा दोस्तों आजकल नेटफ्लिक्स पर ऐसे ऐसे मूवी और सीरीज आ रहे हैं जो एक परिवार आपस में बैठकर नहीं देख सकता।

गरमा गर्म सेक्स कहानी  मैं विधवा हूँ और मेरी चूत की चुदाई मेरा बेटा करता है

कब कौन किस को चोदने लगे कुछ नहीं पता। वैसा ही हुआ एक सीन एस आया कि एक लड़की खुद अपने कपड़े फाड़ कर अपने बॉयफ्रेंड के ऊपर चढ़ गई और उसका लंड लेकर अपने चूत के अंदर डाल ली। लंड और चूत तो नहीं दिख रहा था पर हां वह लड़की की बड़ी-बड़ी चूचियां दिख रही थी जिसको वह खुद से मसल रही थी और वह उसका बॉयफ्रेंड भी मसल रहा था।

यह देखकर दीदी पागल हो गई। उसकी सांसे तेज तेज चलने लगी अजीब सी हरकत करने लगी। मेरे तरफ घूर घूर कर देखने लगे। मुझे तो डर लगने लगा था मैं उसको पूछा तबीयत ठीक है पानी ला दूं क्या। वह खड़ा हुई और बोली मुझे पानी नहीं पीना मुझे तेरे लंड का पानी पीना है। मैं एकदम से डर गया दोस्तों मुझे लगा कि ऐसा क्या हो गया। ऐसे कोई लड़की नहीं बोलती है उस पर भी कोई बहन अगर आपको ऐसे बोल रही हो। उसने तुरंत ही मेरे पेंट का बटन खोल दिया मेरे पेंट को नीचे कर दे मेरे ऊपर चढ़ गई। . मैं उसको बोलने लगा दीदी क्या कर रही हो उसने बोला चुप हो जा अगर ज्यादा होशियारी की तो मैं शोर मचा दूंगी।

मैं इससे और भी डर गया यह खुद ही मुझे जबरदस्ती कर रही है और कह रही है शोर मचा दूंगी। मैं चुप हो गया उसने मेरे पैंट को नीचे कर दिया मेरे जांगिया को भी नीचे करके मेरा मोटा लंड पकड़ कर कसके हिलाने लगी। डर के मारे मेरा लंड बड़ा भी नहीं हो रहा था दोस्तों। उसी समय उसने अपना टी-शर्ट उतार कर फेंक दिया और ब्रा खोल दी। बड़ी-बड़ी चूचियां टाइप चूचियां पिंक निप्पल देखकर मेरा भी मन डगमगा गया। और उसकी चुचियों को देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया। जैसे ही मेरा लंड मोटा लंबा हुआ मेरी दीदी तुरंत पकड़ कर अपने मुंह में ले ली। और चूसने लगी उसके बाद वह मेरे ऊपर लेट गई उसकी बड़ी-बड़ी चूचियां मेरे छाती पर लटकने लगी।

वह मेरे होंठ को चूमने लगे मेरे गर्दन को मेरे कंधे को मेरे बांह को सब जगह वह चुम्मा लेने लगी। अचानक से वह नीचे लेट गई और मुझे ऊपर आने को बोले। मैं उसके ऊपर आ गया उसने अपने दोनों हाथों को ऊपर कर दिया उसकी बड़ी-बड़ी चूचियां साफ साफ दिखाई देने लगी थी। उसके कांख के काले काले बाल गोरे बदन पर साफ साफ दिखाई दे रहा था। मेरे अंदर का कमीनापन जाग गया मैं तुरंत ही उसके दोनों बड़ी बड़ी चूचियों को मसलने लगा। निप्पल को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा। मेरे से रहा नहीं गया मैं उसके होंठ को चूमने लगा।

गरमा गर्म सेक्स कहानी  रोज मूठ मारता देख माँ चुदी सगे बेटे से

मेरी सांसें बहुत तेज तेज चलने लगी थी मेरे दीदी किसान से भी तेज चल रही थी। दीदी बोली नीचे जा और मेरे सिर को पकड़ के धक्का लगा दी नीचे की ओर। उनके चूत के पास पहुंच गया टांगों को अलग-अलग किया तो देखा चूत पर बाल थे बाल पूरा गीला था हाथ लगाया तो देखा गरम गरम पानी निकल रहा था उसके चूत से। वह बोली चाट मेरी चूत को चाट। मैं तुरंत ही अपना जीभ लगाकर अपने दीदी के चूत को चाटने लगा नमकीन पानी निकल रहा था। 2 मिनट में वह अपना पानी छोड़ दी थी और मैं उस पानी को तुरंत ही अपने जीभ लगाकर चाहत जाता था पी जाता था।

दीदी अपनी चुचियों को खुद भी मसलते हुए अपने हॉट को अपने दांतो के अंदर दबा लेती थी उनकी आंखें लाल-लाल हो गई थी और बंद हो रही थी। मुंह से सिसकारियां निकल रही थी अजीब अजीब आवाज सेक्सी आवाज निकाल रही थी। उन्होंने कहा अब मुझे मत तड़पा मुझे चोद दे। मैंने तुरंत अपना लंड उनकी चूत के छेद पर लगाया और जोर से घुसा दिया। मैं जोर-जोर से अपने लंड को उनके चूत के अंदर बाहर करने लगा। वह तो और भी ज्यादा पागल हो गई। सेक्सी आवाज निकालते हुए मुझे अपनी बाहों में भर लेती कभी गांड को तेज से हिलाने लगती कभी चूतड़ को घुमाने लगती है कभी मुझे जकड़ लेती कभी पैरों में फंसा लेती।

मेरे होंठ को चूमने लगती मेरे लंड को पकड़ कर कभी फिर से डालते और फिर से जोर जोर से धक्के लगाकर अपनी चूत के अंदर मेरे पूरे लंड को लेने लगती। फिर वह घोड़ी बन गई मुझे बोली पीछे से चोद। मैं उनकी बड़ी गांड के तरफ चोरी गांड के तरफ से अपना लंड उनकी चूत के छेद पर लगाया और जोर जोर से धक्का दे देकर मैं उनके गांड पर थप्पड़ मार मार कर चोदने लगा। फिर मैं नीचे लेट गया मेरे ऊपर चढ़ गई लंड अपनी चूत में लेकर उछल उछल कर चुदवाने लगी। मेरा पूरा लंड उनके पेट के अंदर तक जा रहा था चूत होते हुए।

गरमा गर्म सेक्स कहानी  दशहरा (दुर्गा पूजा) में ट्रैन में चुद गई मामा से माँ के सामने

करीब डेढ़ घंटे तक हम दोनों एक दूसरे को चोदते और चुदवाने रहे। एक लंबी आहे भर्ती हुई अंगड़ाइयां लेती हुई मेरी दीदी शांत हो गई और बेड पर लेट गई। मैं भी जल्दी-जल्दी 3-4 धक्के देकर अपना पूरा वीर्य उनके चूत के अंदर ही छोड़ दिया। हम दोनों ही शांत हो गए। 15 से 20 मिनट बाद दीदी मुझे बोली सॉरी मैं अब अपने आप को बर्दाश्त नहीं कर पा रही हूं पता नहीं मुझे क्या हो गया है। यह बात तुम किसी को मत बोलना पर हां मुझे तुम अकेला मत छोड़ना तुम मुझे ऐसे ही मेरे साथ सेक्स करते रहो ताकि मैं नॉर्मल रह सकूं क्योंकि आजकल मुझे पता नहीं क्या हो गया है किसी भी लड़के कोई आदमी को देखती हूं तो लगता है उसके साथ जाकर सेक्स कर लूँ। माफ करना मेरे भाई पर मुझे छोड़ना मत तुम्हें कसम है बहन की। मैं जानबूझकर ऐसा नहीं कर रही हूं मेरे साथ कोई दिक्कत हो गई है इस वजह से मैं तुम्हारे साथ सेक्स संबंध बनाना चाहती हूं।

उस दिन के बाद से मुझे समझ आ गया कि मेरे दीदी के साथ दिक्कत है। जब मेरी मम्मी पापा दोनों ड्यूटी चले जाते हैं तब हम दोनों एक दूसरे को खुश करते रहते हैं। अब तो बहुत मजा आने लगा है मेरी बहन भी नॉर्मल रहने लगी है और मुझे भी कोई दिक्कत नहीं है घर का माल घर में ही है।