पापा दीदी को चोद रहे थे और मैं वीडियो बना रही थी

Video Bana Ka Chudai Story : दोस्तों मेरा नाम राखी है और मेरी बहन जो कि मेरे से बड़े हैं उसका नाम राधिका आज मैं आपको नॉनवेज story.com पर अपने सेक्स कहानी लिखने जा रही हु। यह कहानी मेरे सौतेले पापा की है और वह मेरी बड़ी दीदी जो है राधिका दीदी उसकी रोजाना चुदाई करते हैं और मैं वीडियो बनाती हूं। मम्मी भी पिछले साल कोरोना में नहीं रही इस वजह से यह सब कुछ हो रहा है तो आज मैं पूरी कहानी आपको बताने वाली हूं ताकि आपको पता चले यह दुनिया में क्या-क्या होता है।

आपको मेरी कहानी सुनकर दुख होगा 2 साल पहले ही मेरी मम्मी शादी की है मेरे जो पहले वाले पापा थे वह मेरी मम्मी को और हम दोनों को छोड़ दिए थे और यह मेरे दूसरे पापा थे जहां हम तीनों खुशी-खुशी रह रहे थे पहले कोई बात नहीं थी मेरे पापा मम्मी को बहुत प्यार करते थे और हम दोनों को भी बेटी की तरह मानते थे। कोरोना बीमारी ने मेरी मां को निगल लिया दोस्तों उसके बाद से ही सब कुछ बदल गया हालात बदल गए पापा बदल गए बहन बदल गई मैं खुद बदल गई।

मम्मी की मृत्यु के बाद मैं दीदी और मेरे सौतेले पापा तीनों नोएडा के फ्लैट में रहते हैं। मेरे पापा मम्मी से 8 साल के छोटे हैं मम्मी को प्यार हो गया और फिर शादी हो गई। बदलते देर नहीं लगी फिर मैं दीदी और पापा एक साथ रहने लगे। 1 दिन की बात है पापा बोले जब सब कुछ बदल गया है अब इस रिश्ते का क्या नाम दूं अब तुम दोनों जो मेरे साथ रह रहे हो अगर मैं तुम दोनों को बेटी मान कर रख लूं तो आगे मेरी शादी भी नहीं होगी और कोई शादी मेरे से करेगी भी नहीं और जिंदगी बहुत बड़ी होती है इसके लिए हमें कुछ सोचना पड़ेगा इसलिए तुम दोनों इंतजाम कर लो। पर दोस्तों इंतजाम करना इतना आसान नहीं होता है।

पर हम लोग कहां जाते हैं इस हालात में नहीं थे कि हम लोग बाहर जाकर रह सके अपने से फ्लैट किराया पर ले सके या कोई मकान किराए पर ले सके हम दोनों बहनों को साथ ही रहने में भलाई थी आजकल अकेली लड़कियों को बाहर रहने में जिसका बाप मान ना हो उसके लिए बहुत दिक्कत हो जाता है / दोस्तों इसलिए हम दोनों बहनों ने ही डिसाइड किया कि जो भी हो आगे देखा जाएगा हम लोग इस आदमी को पटाते हैं और साथ रहते हैं। औरत के पास लड़के के पास एक जो बड़ी हथियार होती है वह हुस्न के हथियार होती है यह मेरी दीदी ने मुझे समझाया और मुझे भी लगा कि वह सही ही बोल रही है।

धीरे पापा का व्यवहार भी बदल गया वह हम दोनों को बेटी कम और गर्लफ्रेंड ज्यादा मानने लगे। इसमें हम दोनों को भी कोई नुकसान नहीं था हम दोनों ने पहले ही डिसाइड कर लिया था कि अब हम लोग को यही करना। धीरे-धीरे हम दोनों पापा के साथ बैठकर शराब भी पीने लगे धीरे धीरे हम दोनों के ऊपर वह हाथ फेरना शुरू कर दिए हमारे जांघों पर हमारे कंधे पर हाथ रखने लगे हमारे पेट को सहलाने लगे। 1 दिन पापा ने दीदी को कहीं दिया राधिका तुम चाहो तो मेरे से शादी कर लो फिर हम लोग खुशी खुशी रहेंगे।

पर मेरी राधिका दीदी इसके लिए तैयार नहीं हुई राधिका दीदी बोल दी कि शादी तो नहीं करूंगी पर हां एक जो पत्नी करते हैं एक पति अपनी पत्नी के साथ जो करता है उसके लिए मैं तैयार हूं आप चाहे तो मुझे जैसे मर्जी इस्तेमाल कर सकते हैं मैं आपकी बीवी की तरह रहूंगी पर मैं शादी नहीं करूंगी मुझे आगे का भविष्य देखना है आने वाले वर्षों में मैं अलग हो जाऊंगी और शायद यही आपके लिए भी अच्छा रहेगा और हम दोनों के लिए अच्छा रहेगा। क्योंकि आपने ही बोला है कि जिंदगी आसान नहीं होती है तो हम लोगों को भी लगता है हम दोनों बहनों को भी लगता है कितना आसान नहीं है इसलिए हम लोग अभी तो कंप्रोमाइज कर लेते हैं पर आगे जाकर हम लोग अलग अलग हो जाएंगे ताकि कोई दिक्कत नहीं हो।

पापा बोले ठीक है कोई दिक्कत नहीं है तुम दोनों जैसा चाहो वैसा मैं करने के लिए तैयार हूं शादी भी लोग इसलिए करते हैं ताकि कोई साथ रहने वाली आ जाए और जो सेक्स संबंध होता है जो वासना की आग होती है उसके लिए बाहर मुँह न मारना पड़े। और फिर यहीं से शुरू हो गई है अपनी अलग दुनिया की अलग कहानी।

1 दिन की बात है हम तीनों खाना खाए रात के 1:11 बज गए थे। हम दोनों बहने एक कमरे में सोते थे और पापा एक कमरे में 10 दिन खाना खाकर उठे हम लोगों ने एक दो पैग भी लगा लिए थे तो नशे में भी थे। पापा दीदी का हाथ पकड़ कर बोले कि आज चलो तुम मेरे कमरे में सोना और आज से हम दोनों एक नई जिंदगी शुरु करेंगे। राधिका दीदी भी बिना कुछ बोले हुए बिना कोई रोक तो के पापा के साथ कमरे में चली गई। मैं अकेले बाहर रह गई मैं करते क्या मैं फटाफट अपने कमरे में गई और अपने कपड़े चेंज करके। सोने का प्लान करने लगी और दोस्तों किसको नींद आएगा मुझे नींद नहीं आ रही थी।

मुझसे रहा नहीं गया और मैं पापा के कमरे के पास पहुंच गई। मैं हैरान रह गया मैंने क्या देखा मेरी दीदी दोनों टांग फैलाई हुई थी और पापा दीदी की चूत को चाट रहे थे मेरी दीदी अपने हाथों से अपनी चुचियों को दबा रही थी और सिसकारियां ले रही थी। मुझे समझ नहीं आया दोस्तों कितनी जल्दी बेटी का रिश्ता पत्नी में बदल जाए यह मैंने नहीं सोचा था।

मेरी दीदी बोल रही थी और चाटो और चाटो मेरी जान और चाटो। देखो कितना गरम गरम पानी निकल रहा है मेरी चूत से चाट चाट कर साफ़ कर दो। पापा भी बड़े कमीने दिख रहे थे। वह एक हाथ से दीदी की चूचियों को दबा रहे थे एक हाथ दीदी की गांड के नीचे था और जीव से चूत को चाट रहे थे। मेरे दीदी सिसकारियां ले रही थी बिलबिला रही थी आह आह कर रही थी यह सब देख कर और उनकी यानी कि उन दोनों की अदाओं को देखकर मेरी वासना भड़क गई दोस्तों मेरे से रहा नहीं गया और मैं कमरे के अंदर आ गई।

दीदी देखी तो बोली अरे तुम क्यों आ गई तुम दूसरे दिन आती अब बारी बारी से करेंगे कि एक साथ थोड़ी ना करेंगे। तो पापा बोले क्यों साथ में तो और अच्छा रहेगा दीदी बोली नहीं आज तुम मुझे संतुष्ट करो उसके बाद कल से फिर देख लेना। पर दीदी बोली एक काम करो तुम वीडियो बना लो ताकि बाद में इंजॉय करेंगे। मैंने वही किया तुरंत अपना आईफोन निकाला और उन दोनों को शूट करने लगा। दीदी नखरे दिखा दिखा कर और पापा सेक्सी बंद कर एक दूसरे के जिस्म को चूम रहे थे। एक दूसरे को वह ऐसे चूम रहे थे कि लग रहा था वर्षों की प्यास हो।

दीदी बोली अब मेरे से बर्दाश्त नहीं होगा तुम अपना लंड निकाल कर मेरे च** के अंदर डाल दो ताकि मैं मजे ले सकूं। पापा ने ऐसा ही किया उन्होंने अपना मोटा लंड दीदी की चूत पर लगाया और जोर से धक्का दिया पूरा लंड अंदर तक पहुंच गया दोस्तों। दीदी अंगड़ाइयां लेने लगी और अपने गांड को हौले हौले से नीचे से धक्के देने लगी। पापा चूचियों को मसलते हुए दीदी के होंठ को चूसते हुए गांड हिला हिला कर लंड पेल रहे थे।

वह दोनों इतने कामुक हो गए कि एक दूसरे को पकड़ के सिसकारियां लेने लगे एक दूसरे को गालियां देने लगे और एक दूसरे को खुश करने लगे। पापा अलग-अलग तरीकों से दीदी को चोदने लगे। पर अचानक में क्या देखें दीदी हिलने लगी जोर-जोर से थरथर आने लगी कांपने लगी। . यानी कि वह जोश में आ गई थी और पापा को कह देते जल्दी धक्का मारो जल्दी धक्का मारो जोर से चोदो जोर से चोदो। और पापा तेज तेज चोद रहे थे पर दीदी मेरी संतुष्ट नहीं हो पा रही थी। पापा कह रहे थे . ले मेरी जान ले मेरी जान यह ले अंदर तक चला गया मेरा लंड यह ले। प्रदीप जी संतोष तो हो ही नहीं रही थी वह गांड को जोर-जोर से हिलाने लगी थी और धक्के देने लगी थी पापा के बीच में अपने नाखून चुभोने लगी थी।

अलग अलग तरीके से क्लोजअप करके वीडियो बना रही थी दोस्तों दीदी की क्या गांड है क्या चुत है क्या चूचियां है। मैं हैरान थी दोस्त हूं गजब की माल है मेरी दीदी। मुझे तो ऐसा लग रहा था पापा से चुदने की वजाय अगर मैं दीदी से ही लेस्बियन सेक्स कर लेती तो और मजा आता। मुझे दीदी की अदाएं बहुत अच्छी लग रही थी। उनका चुदवाने का स्टाइल ही बहुत जबरदस्त था दोस्तों। जब एक लड़की उसे देखकर पानी-पानी हो जाए तो एक मर्द और एक लड़का को कैसा लगेगा आप खुद जरा सोच कर देखिए।

वह दोनों आधे घंटे तक एक दूसरे की वासना को शांत करते रहे और मैं अलग-अलग स्टाइल में अलग-अलग लोकेशन से उन दोनों की वीडियो बना रही थी। करीब 45 मिनट के बाद दोनों ही झड़ गया और शांत हो गए। पापा ने मुझे भी बाहों में भर लिया और अपने साथ सुला लिया। वह दोनों काफी थक गए थे उन दोनों को जल्दी नींद आ गई पर मैं जगी ही रही मैं वह वीडियो को बार-बार रिमाइंड कर के देख रही थी और खुद की चूत को सहला रही थी दोस्तों।

हो सकता है मैं इस वीडियो को नॉनवेज स्टोरी पर डालूंगी और मैं अपनी कहानी भी आप लोगों को बताऊंगी कि मेरे साथ क्या हुआ था और दीदी ने मुझे कैसे हेल्प किया था। मोटा लंड अपनी चूत में लेने के लिए। आशा करते हो आपको यह कहानी बहुत हॉट और सेक्सी लगी होगी मैं जल्द ही आपको अपनी भी कहानी आप लोगों के सामने रखूंगी और मेरी कहानी इससे भी ज्यादा हॉट है। यह मैं आपसे वादा करती हूं कि मैं भी आपको हॉट कर दूंगी सेक्सी कर दूंगी आप बिना मुठ मारे नहीं रह सकते हैं।