कोरोना से कोरेंटाइन में चुदाई दोनों भाभियों की

Bhabhi Sex Story, Group Sex Kahani : दोस्तों कई बार कुछ चीज अच्छी हो जाती है। चाहे बीमारी हो या कुछ और मेरे साथ भी यही हुआ। 14 दिन का कोरेंटाइन मेरी ज़िंदगी में बहार ला दिया। आज मैं आपको अपनी एक जबरदस्त कहानी सुनाने जा रहा हूँ। जब खुल्लम खुल्ला चुदाई का मौक़ा मिले और वो भी एक को नहीं दो को चोदने का मौक़ा तो आप इसे क्या कहेंगे ? आप यही कहेंगे काश मुझे भी ये मौक़ा मिलता।

मुझे ये मौक़ा कैसे मिला आजकल मैं कैसे अपनी भाभियों को चोद रहा हूँ कोरोना की कृपा से वही बताने जा रहा हूँ। ये मेरी पहली कहानी है नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर

मेरा नाम विशाल है। मैं मुंबई में रहता हूँ पर अभी मैं लखनऊ आया हुआ हूँ। मुंबई में मैं मेरा भइया और भाभी तीनो रहते हैं। भैया मुंबई में ही रह गया और मैं और भाभी लखनऊ पहुंचे हुए है। प्रशाशन ने घर में रहने को कहा है। घर से बाहर निकल नहीं सकते। मेरे साथ मेरी दो भाभी है। एक जो मुंबई से मेरे साथ आई और दूसरी जो बड़ी है उनका पति दुबई में रहते हैं। उनको कोई बच्चा नहीं हुआ है वो 32 साल की है और मेरी भाभी 25 की है उनको भी कोई बच्चा नहीं है। यांनी दोनों फ्रेश माल है।

बड़ी भाभी को पहले भी चोद चुका हूँ ताकि गर्भवती हो जाये। और छोटी भाभी को कभी चोदा नहीं था पर उनको पसंद बहुत करता था। पर लखनऊ में मौक़ा मिल गया जब हम तीनो थे।

असल में घर में रहते रहते बोर हो गए थे कही जाना नहीं था। तो धीरे धीरे पुराणी बात चलने लगी बड़ी भाभी के साथ। और वो सब दिन भी याद आ गया जब पहली बार उनको चोदे थे। तो भाभी फिर से ऑफर कर दी। की आज रात आप मेरे कमरे में ही सोयेंगे। रात को खाना खाया ऐसे मैं बरामदे पर सोता था दोनों भाभी अपने अपने कमरे में।

रात के लिए फिक्स था चुदाई तो छोटी भाभी के सोने का इंतज़ार कर रहा था। रात को ऐसा लगा की वो सो गई होंगी वो चुपके से उठकर बड़ी भाभी के कमरे में चला गया और कुण्डी लगा दी।

भाभी को देखते ही मैं टूट पड़ा उनको चूमने लगा उनकी चूचियां दबाने लगा वो भी मेरे बाल को सहलाते हुए मुझे चूमने लगी मेरे लंड को टटोलने लगी। धीरे धीरे कर के मैं उनके सारे कपडे उतार दिए। उनको नंगा कर दिया और खुद ही नंगा हो गया। मैं उनके छाती को दबाने लगा उनके निप्पल को दांत से काटने लगा। उनके होठ को चूसने लगा। फिर दोनों चूचियों को पकड़ कर बिच में लौड़ा दे के घुसाने लगा। भाभी भी इसमें मदद कर रही थी।

जब लौड़ा ऊपर जाता वो अपने जीभ सटा देती। बहुत मजा आ रहा था हम दोनों को। फिर भाभी मेरा लैंड अपने मुँह में ले ली और चूसने लगी। कहने लगी आपका लौड़ा तो पहले से मोटा हो गया है लंबा भी हो गया है। मैं बोला तो ले लो ना मजा लॉक डाउन में जब तक कोरोना है खूब चुदाई करवाओ मेरे से। बोली हां हां क्यों नहीं बहुत दिनों से आपके लंड की याद आ रही थी। आज ये ख्वाब पूरा हो गया।

भाभी बोली अब मेरी चूत चाटो देखो कितनी गरम हो चुकी है और मलाई भी निकल रही है। तो मैं उनके चूत को चाटने लगा। वाकई में उनकी चूत काफी गरम हो चुकी थी और गरम गरम पानी और मलाई निकल रही थी। मैं चाट रहा था वो आह आह आह आह कर रही थी। वो कह रही थी जीभ घुसाओ मैं भी उनके चूत में जीभ घुसा रहा था वो और जोर जोर से आउच आउच करने लगी।

तभी किसी ने दरवाजा खटखटाया, मुझे लगा की बिल्ली है. बड़ी भाभी बेडशीट अपने पर डाल ली मैं दरवाजे हल्का खोला तो देखा छोटी भाभी खड़ी थी। दरवाजा धक्के से खोलते हुए अंदर आ गई। और बोली मैं चुपचाप नंगे होकर खड़ा था बड़ी भाभी अपना मुँह अपने हाथ से ढक ली थी।

छोटी भाभी बोली। मेरे में क्या कमी है देवर जी और दीदी जी। क्या मैं नहीं चुद सकती ? क्या मेरी चूत गरम नहीं होती। मुझे भी चूत चटवाने का अधिकार देवर जी से है। कब से मैं आपकी आह आह आह आह आउच सुन रही हूँ। एक तो ऐसे ही नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर कहानी पढ़ रही थी और ऊपर से और भी ज्यादा आपकी चुड़क्कड़ आवाज जो मेरी चूत को गीली कर दी है।

इतना सुनते ही हम तीनो हसने लगे और छोटी भाभी जो मस्त औरत है। मुझे अपने छाती से लगा ली और अपनी चूचियां मेरे छाती में रगड़ने लगी और चूमने लगी मेरे होठ को।

वो खुद से ही अपने कपडे उतार दी। और खुद भी अपनी चूचियां पकड़ कर मेरे मुँह में दे दी। वो मेरे लंड को चूसने लगी। तब तक बड़ी भाभी भी आ गई वो मेरी गांड सहला रही थी छोटी भाभी मेरे लंड को चूस रही थी।

अब दोनों को मैंने लिटा दिया। और बारी बार से चोदने लगा। वो दोनों भी अपनी अपनी चूचियां एक दूसरे के मुँह में दे रही थी। और मेरी चुदाई करवाने में मदद कर रही थी। जब एक को चोदता तो दूसरी मदद करती और कामुक बनाती। कभी चूचियां रगड़ कर कभी चूत चटवाकर। कभी गांड में ऊँगली डलवाकर।

दोस्तों दोनों भाभी को खूब चोदा। पर एक को संतुष्ट नहीं कर पाया एक पूरी तरह से संतुष्ट हो गई। जो संतुष्ट हो गई वो सो गई। छोटी भाभी संतुष्ट नहीं हो पाई थी तो वो अपने कमरे में ले गई और आधे घंटे बाद मैं फिर से तैयार हो गया। और उनको भी पेलने लगा बाप बाप बोलबा दिया। वो भी संतुष्ट हो गई।

अब दोनों भाभी को खूब चुदाई कर रहा हूँ। भगवान् करे ऐसी ज़िंदगी सब को दे जब दो दो औरत एक मर्द पर फ़िदा हो जाये और दोनों एका पर से एक हो। आपको मेरी भाभी की चुदाई कैसी लगी। मैं जल्द ही अपनी दूसरी कहानी इस वेबसाइट पर लिखने वाला हूँ और दोनों भाभी भी कह रही थी मैं भी लिखूगी। आप जरूर फिर से आइये हॉट और सेक्सी कहानियां पढ़ने के लिए।