देवर से सेक्स करने का मन करता है क्या करूं


मैं बहुत ज्यादा उलझन में हूं, समझ नहीं आ रहा मैं क्या करूं। पति मुझे संतुष्ट नहीं कर पाता है, देवर की उम्र इतना ज्यादा भी नहीं है पर मैं देवर की तरफ आकर्षित हो रही हो। जब भी मैं पति के साथ सोती हूं, जब मेरे पति मेरी चुदाई करते हैं उस समय मैं अपने देवर को याद करते रहती हूं। और आजकल मैं इतने ध्यान में चली गई हूं कि जब मेरे पति मेरे साथ सेक्स कर रहे होते हैं तुम्हें देवर कोई याद करते रहती हूं और ऐसा लगता है कि देवरही मुझे चोद रहे हैं।


मुझे बिल्कुल भी समझ नहीं आ रहा मैं क्या करूं कहीं मेरे से कुछ गलती ना हो जाए कई बार ऐसा लगता है कि कहीं मेरे मुंह से मेरे देवर का नाम ना निकल जाए। डरती हो कभी गलती से भी अगर मैंने अपने देवर का नाम ले लिया सेक्स करते समय जब पति मेरे साथ सेक्स कर रहे होते हैं। तो पता नहीं भगवान जाने उस दिन क्या होगा।

सच तो यह है दिन रात में अपने देवर के ख्वाब में रहती हूँ। और मैं देवर के साथ ही रात बिताना चाहती हूं ना कि पति के साथ। जब मेरे पति टूर पर जाते हैं। तब रात को मैं देवर के कमरे में भी जाती हूं। ताकि कोई ना कोई बहाना मिल जाए उसके साथ बैठने का। पर मेरा देवर बहुत इज्जत करता है। वह मुझे भाभी मां समझता है। ऐसे में कुछ भी समझ नहीं आ रहा है कि मैं क्या करूं।


मैं बहुत परेशान रहने लगी हूं। कई बार जब पति ने सेक्स करने के लिए कहते हैं सोने के लिए कहते हैं कई बार मैं मना भी कर देती हूं। इस वजह से मेरे घर में झगड़ा भी होते रहता है। कई बार ऐसा कहते हैं तुम कहां रहती हो। सेक्स करते समय भी जब मैं आंख बंद करके अपनी देवर को याद करती हूँ। उस समय को टोंक देते हैं वो कहते हैं कि ऐसा तुम क्यों करती हो जब मैं तेरे साथ सेक्स कर रहा होता हूं तुम आंखें बंद करके चुपचाप रहती हो।

इसे भी पढ़ें  पति के लिए रंडी बनी

अब मैं इसका क्या जवाब दूं मुझे खुद भी समझ नहीं आ रहा है मैं परेशान रहने लगी हूं। पर आज ना कल मेरे से यह बर्दाश्त नहीं हो पाएगा मैं अपने आपको ज्यादा दिन तक नहीं रोक पाऊंगी। और मैं जल्द ही अपने देवर के साथ सेक्स संबंध बना लूंगी। मैंने तो यहां तक सोच लिया अगर मेरे पति ने मेरे पर जबरदस्ती की तुम्हें साफ-साफ कह दूंगी कि मैं तेरे साथ नहीं सोना चाहती हूं।

आगे जो होगा देखा जाएगा पर मैं अपनी जिंदगी को ऐसे नर्क नहीं बनाऊंगी मुझे जो चाहिए आज तक वह मुझे मिला है। जब मेरा पति मेरे हिसाब से काम नहीं करता मेरे हिसाब से नहीं चलता मेरी बातों को नहीं मानता तो क्या मैं सिर्फ सेक्स करने के लिए यहां पर आई हूं।

मैं जिंदगी जीना चाहती हूं मैं खुश रहना चाहती हूं मैं घूमना चाहती हूं मैं इधर उधर आना जाना चाहती हूं पर यह सब मेरे पति को पसंद नहीं है क्योंकि मैं बहुत सुंदर हूं उनको लगता है कि मैं किसी के साथ पर जाऊंगी मैं किसी के साथ सेक्स संबंध बना लूंगी। ऐसा भी नहीं है कि वह मुझे सेक्स में संतुष्ट नहीं करते हैं। पर मैं उनको पसंद नहीं करती हूं। यहां पर मैं यह बात इसलिए लिख रही हूं कि मैं अपने मन को हल्का करना चाहती हूं।


आप भी पोस्ट करने वाली महिला का नाम और शहर


सुषमा यादव, लखनऊ