पति के दोस्त ने शराब पिलाकर मुझे चोदा पूरी रात

Dost ki Biwi ki Chudai, asantusht bhabhi sex, asantusht wife sex, pati ka dost sex, कभी कभी कुछ ऐसा हो जाता है जिससे पता ही नहीं चलता की क्या अच्छा हुआ क्या बुरा। कई बार गलत काम करते हुए भी पश्चाताप नहीं होता और ज़िंदगी खूबसूरत होने लगती है नाजायज सेक्स सम्बन्ध बनाने पर और पति से बेवफाई करने पर। नाजायज रिश्ता भी जायज लगने लगता है। आज मैं आपको अपनी सेक्स कहानी पति से बेवफाई करने और पति के दोस्त के साथ सेक्स सम्बन्ध बनाने की कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर सुनाने जा रही हूँ।

मेरा नाम मनीषा है और मैं एक सरकारी डिपाटमेंट में काम करती हूँ। मेरा पति भी एक कंपनी में इंजीनियर है। शादी हुए अभी मात्र एक साल ही हुए है पर मुझे भी एक इंसान जो की मेरे पति के दोस्त हैं उनको मैं पसंद करने लगी हूँ। और उन्होंने मुझे एक रात शराब पिला कर पूरी रात मेरे साथ रंगरेलियां मनाया और मैं भी उनका साथ दी क्यों की उनका जो स्टाइल चोदने का था और मेरे जिस्म के साथ खेलने का था वो बड़ा ही रोमांटिक था। इसलिए मैं भी इस जनवरी की रात में खूब मजे ली। अब बिना देर किये आपको पूरी कहानी सुनाने जा रही हूँ।

ये कहानी ज्यादा दिन की नहीं है मात्र आज से चार दिन पहले की है। असल में जिस फ्लैट में मैं रहती हूँ उसकी बिल्डिंग के निचे वो रहते हैं। उनकी पत्नी मायके गयी है क्यों की उनके पापा का तबियत ख़राब है। मेरे पति ऑफिस के काम से बंगलुरु गए है तो अपने घर में सिर्फ मैं ही हूँ। तो हुआ यूँ की जब मेरे पति रहते थे और उनकी वाइफ रहती थी तो हम लोग आपस में मिलते थे एक दूसरे के यहाँ पार्टी करते थे और शराब पीते थे। क्यों की मैं भी शराब पीती हु मेरे पति भी पीते है और रमेश जी भी पीते हैं उनकी वाइफ नहीं पीती है।

पर वो बैठी जरूर रहती है जब तक हम तीनो पीते है। तो जब रमेश जी की पत्नी नहीं है यहाँ और मेरे पति भी बाहर हैं तो रूटिंग हम दोनों का ही ख़राब हो गया है। क्यों जब मैं रमेश जी को फ़ोन कर के पूछी की आजकल खाना पीना कैसे हो रहा है तो वो बोले की आजकल तो बाहर से ही खाना मांगा लेते है। और मैं भी आजकल ऐसा ही कर रही उन घर में मैं ऐसे भी नहीं बनाती हूँ और पति नहीं है तो बाहर ही खा लेती हूँ या जोमाटो से माँगा लेती हूँ।

गरमा गरम है ये  भाभी जी और उनकी दोनों कमसिन बेटियों को की चुदाई

एक दिन की बात है उनका फ़ोन आया और उन्होंने बोला की क्या कर रही हो आप आज। तो मैंने कह दिया कुछ नहीं तो रमेश जी बोले मैं दो दिन की छुट्टी पर हूँ सर्दी है इसलिए तो मैंने सोचा आज रात को चिकन लाते हैं और रम का बोतल लाते हैं और एन्जॉय किया जाये। तो आ भी आइये मिलकर एन्जॉय करते हैं। तो मैं बोली पति तो हैं नहीं और पति के बिना रात में जाना अच्छी बात नहीं है। तो उन्होंने कहा उनको कहने कौन जा रहा है की आप मेरे यहाँ पार्टी कर रही हैं। मुझे भी लगा अरे हां वो तो यहाँ हैं नहीं।

तो मैंने कहा ठीक है फिर आज रात का रखते हैं आपके ही फ्लैट पर मैं जल्दी आ जाउंगी ऑफिस से और मैं करीब चार बजे ही उस दिन आ गयी। घर आकर कुछ काम था और करीब सात बजे शाम को मैं रमेश जी के फ्लैट पर चली गयी। उनका कमरा काफी गर्म हो गया था हीटर चला कर। और वो चिकन बना रहे थे। वो मेरा ही इंतज़ार कर रहे थे।

जाते ही उन्होंने तुरंत दो ग्लास निकाला और भुजते हुए चिकन हम दोनों चिकन टेस्ट किये और फिर एक एक पेग ले लिए। फिर धीरे धीरे अपनी अपनी बात करने लगे। अपने सुख दुःख की बात करने लगे और हम दोनों ही काफी एक दूसरे के बातों को समझने लगे मुझे ही काफी हल्का महसूस होने लगा क्यों की मैं अपनी दिल की बात को उनके सामने रखी.

खाना खाने का टाइम हो गया तो हम दोनों टेबल पर खाना निकाले और खाना खाते हुए पेग बना बना कर पीने लगे। खाते पीते करीब ग्यारह बज गए थे। अब उन्होंने अपनी सेक्स लाइफ पर बात करने लगे कहने लगे की मेरी वाइफ ज्योति मुझे संतुष्ट नहीं कर पाती है सेक्स में वो बहुत जल्दी थक जाती है।

और मेरे साथ उल्टा था मेरा पति जल्दी थक जाता है। तो मैंने कहा मेरा पति जल्दी थक जाता है जब मैं गरम होती हूँ तब तक वो ठंढा हो जाता है। ये सुनकर रमेश जी चहक उठे बोले बताइये हम दोनों के साथ एक जैसी समस्या है। फिर उन्होंने पेग बनाया और हम दोनों ने एक एक पेग फिर लिए।

मुझे नशा आने लगा था एक बार जैसी ही उठी पानी लेने के लिए मैं लड़खड़ा गयी और उन्होंने मुझे अपनी बाहों में थाम लिया। मैं भी उनके कंधे पर अपना सर रख दी उन्हों मुझे सहलाया तो मेरे तन बदन में आग लग गयी। मैंने जब उनकी तरफ देखा तो उनके होठ हिल रहे थे और आँखे मेरे होठ को घूर रही थी। मैंने उनके होठ पर किस कर लिया।

गरमा गरम है ये  चुदाई की बीमारी : मेरी बड़ी बहन को थी बीमारी चुदाई से ठीक होती थी

इतना होते ही हम दोनों का प्यार परवान चढ़ गया। मैं पानी पी और उन्होंने अपनी बाहों में ले लिया वो मेरे पीठ को सहलाते हुए मेरे ब्रा को महसूस कर रहे थे अपनी उँगलियों से मेरा गदराया हुआ बदन मचल रहा था। हम दोनों ने ही एक दूसरे को गले से लगा लिया और फिर एक दूसरे को चूमने लगे। वो मुझे मैं उन्हें। आप हम दू के लिप लॉक हो गए थे। उनका जीभ मेरे मुँह में और मेरा जीभ उनके मुँह में।

हम दोनों बैडरूम में चले गए उन्होंने मुझे लिटा दिया और मेरे कपडे उतार दिए पूरा फ्लैट ऐसे ही गर्म था तो ज्यादा ठण्ड नहीं लग रही थी हीटर की वजह से। मैंने उनका लंड पकड़ लिया और सहलाने लगी। उन्होंने अपना कपड़ा उतार दिया तो लंड देखकर मैं पागल हो गयी करीब नौ इंच का मोटा लंड ऊपर की तरफ मुँह ओह्ह्ह्हह्ह ऐसा लग रहा था की झंडा का डंडा रहे।

मैं तुरंत ही अपने मुँह में ले ली और चूसने लगी उन्होंने मेरे बाल को पकड़ पर चुसवाने लगे। ओह्ह्ह्हह्हह मजा आने लगा था ऊपर से नशा और फिर लंड चूसने का नशा। उन्होंने मुझे लेटने को कहा और मैं लेट गयी वो ऊपर मेरे से अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया और चोदने लगे बार बार वो लंड को मुँह से निकाले फिर डालने उनका लंड काफी गीली हो गयी थी मेरी थूक से। अब उन्होंने निचे आकर दोनों मेरी बड़ी बड़ी टाइट और सुडौल चूचियों को मसलना और पीना शुरू किया।

फिर निप्पल को अपनी उनलगी से रगड़ते तो मैं गांड उठा लेती क्यों की वसना मेरी भड़क जाती। फिर उन्होंने मेरी दोनों चूचियों के बिच में अपना लंड डालते और दोनों तरफ से बूब्स को दबाते और अंदर बाहर अपने लंड को करते। ओह्ह्ह्हह्हह ये भी मजेदार था ऐसा कभी भी मेरे पति नहीं किया था ये नया था।

अब उन्होंने निचे जाकर दोनों पैरों को अलग अलग किया और मेरी गीली चूत को चाटने लगे। मेरा पति भी ऐसा चाटता था पर रमेश जो तो नाक भी अंदर दे रहे थे। और बार बार अपनी जीभ से चूत को मलाई को चाट जाते फिर तेज तेज ऊँगली घुसाने लगते। और फिर चाट जाते। ओह्ह्ह्हह्ह मैं आहा ओह्ह ओह्ह्ह आह आह आह वफ्फ ओफ़्फ़्फ़ की आवाज निकालते हुए खुद ही अपनी चूचियों को मसलने लगती।

गरमा गरम है ये  बेटे ने सहला सहला कर कामुक किया फिर मैंने चुदवा ली

उन्होंने फिर मुझे पलट दिया और पीठ को खूब चाटा। उन्होंने मेरी गांड के छेद को अपनी जीभ से चाटना शुरू किया तो मेरे मुँह से सिसकारियां निकलने लगी। ऐसा भी पहली बार हो रहा था। ऐसा कभी भी मेरे पति ने नहीं किया था। फिर क्या बताऊँ दोस्तों मैं तो पागल होने लगी। वो उठे फिर से दो पेग बना लिए एक मुझे पिलाया और खुद पिये और जो बचा वो मेरी गांड में और चूत में डालकर फिर से चाट गए।

उसके बाद शुरू हो गया असल का खेला। अपना लंन्ड मेरी चूत के मुँह पर रखा और जोर से घुसा दिया। जिसे ही लंड मेरी चूत में गया मैं छटपटा गयी क्यों की लंड और भी मोटा हो गया था। पर मैं भी कम नहीं थी। जोर जोर से उनके लंड को अंदर बाहर लेने लगी अपना गांड खुद गोल गोल घुमाकर। वो भी कम हरामी नहीं थे। दोनों हाथ से मेरी दोनों चूचियों को मसलना शुरू किया और जोर जोर से धक्के भी देने लगे।

अब कमरे में फच फच और आआह्ह्ह आआअह्ह्ह्ह की आवाज आने लगी और दोनों दोनों ही शराब के नशे में एक दूसरे को साथ देने लगे। वो मुझे दारु पिला पिला कर खुब चोदा पूरी रात चोदा। मुझे भी उन्होंने संतुष्ट किया और मैं भी उनको संतुष्ट की। उनको जो जो अच्छा लगा पोज और जैसे उनको चोदने का मन था मैं वो सब करने दी कोई चीज मना नहीं की।

मैं भी संतुष्ट हुई वो भी संतुष्ट हुए अभी रोजाना हम दोनों रात को साथ में ही रहते हैं। और रात भर हम दोनों दारु पी पी कर चुदवाती हूँ और वो मुझे चोदते हैं। मैं जल्दी ही अपनी दूसरी सेक्स कहानी पोस्ट करुँगी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर।

इसे भी पढ़िए : बाप बेटी की सेक्स कहानियां :

Hot Real Indian Bhabhi Sex Album – मस्त भाभी की सेक्सी फोटो जो आपको कामुक कर दे हॉट भाभी की सेक्सी फोटो देखो देवर जी आपके लिए तैयार हूँ एक बार तो बुला लो मुझे Gaand Ka Photo, Indian women Ass Pic, Ass Photo My Hot Pussy, चोदना है तो बताओ कपडे खोलकर बैठी हूँ। Hot XXX Bhabhi Sex Photo : एक बार तो नजर भर के देख लो मुझे फिर कैसे आग लगाती हूं तेरे दिल में