फेमिली टूर पर भाई ने मुझे चोदा लगातार तीन रात

Family Tour : कई बार ऐसा होता है जहाँ सही क्या है गलत क्या है समझ ही नहीं आता है। कब क्या हो जाता है पता ही नहीं चलता है। मेरे साथ भी ऐसा ही हो गया था पिछली बार जब फॅमिली टूर पर शिमला गयी थी। पापा मम्मी का मोटिव था की वो दोनों तीन दिन रंगरेलियां मनाएं इसलिए वो अलग कमरे में रुक गए और मैं बहन भाई के लिए एक कमरा। उनको तो ऐसा लगा होगा की भाई बहन क्या करेगा। इसलिए शायद वो सोचे भी नहीं थे।

पर जितना उन्होंने पलंग हिलाया होगा के धक्के से उससे करीब १०० गुना ज्यादा मैं और भाई दोनों मिल कर पलंग हिला दिए। ये सब कैसे हुआ वो आपको मैं इस वेबसाइट यानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर बताने जा रही हूँ। दोस्तों सबसे पहले तो एक जवान लड़का लड़की को कभी भी अकेले नहीं छोड़ने चाहिए भले ही रिस्ता कोई भी क्यों नहीं हो आजकल जमाना बदल गया है। बहुत ही ज्यादा ध्यान रखना होता है ताकि कोई भी ऊंच नीच नहीं हो पर जो खुद करने और करवाने के लिए पागल हो वो भला और क्या सोचेगा। ऐसा अक्सर होता है दोस्तों।

अब मैं सीधे कहानी पर आती है। मेरा नाम रूबी है और मेरे भाई का नाम अमर। मेरी उम्र उन्नीस साल और मेरे भाई का 21 मम्मी पापा भी जवान लगते है। खासकर मम्मी बहुत ही ज्यादा हॉट और सेक्सी है। किसी जवान लड़की से कम नहीं दिखती है इसलिए पापा ज्यादा ही ख्याल रखते हैं और हमेशा दो तीन दिन के लिए पैक हो जाते हैं किसी भी होटल में। हम दोनों भाई बहन ऐसे ही अलग कमरे में रहा करते थे और कार्टून देखा करते थे। हम दोनों यही मजा करते रहते थे। हम दोनों का टूर पर जाने का मतलब था अच्छी होटल में रह कर खाना पीना और कार्टून देखना।

पर धीरे धीरे सब कुछ चेंज हो गया है आपको भी पता है ज़िंदगी कितनी तेज आगे बढ़ी है। दो साल में बहुत बड़ा बदलाव आ गया है लोगों की लाइफ में। कोरोना के पहले हम पुरे परिवार फॅमिली टूर पर गए। और फिर ये चुदाई की बात हो गई और भाईः से चुद गयी तीन दिन तक उधर पापा मम्मी को चोद रहे थे अलग कमरे में और मैं दूसरे कमरे में भाई से चुद रही थी।

इसके बाद जरूर पढ़ें  चुदक्कड माँ को रंगे हाथों पकड़ी फिर मैं भी चुदी साथ में

दिल्ली से अपनी ही गाडी से गए उत्तराखंड वह एक थ्री स्टार होटल में रुके। दो कमरे बुक किये थे पापा ने। शाम को खाना खाया और मम्मी पापा अपने कमरे में चले गए। पापा मम्मी को ज्यादा जल्दी थी क्यों की वो लोग इसी के लिए आये थे। पर हम दोनों भाई बहन कूल थे। आराम से निचे लॉन में बैठे रहे और रात के 10 बजे वापस आये अपने कमरे में, बेड तो अलग अलग था टीवी चलाकर हम दोनों नेटफ्लिक्स देखने लगे। सीरीज सेक्सी थे चुदाई का सिन थे उसमे भी एक भाई बहन की ही कहानी बता रहा था दिखा रहा था। पर वो दोनों सौतेले थे पर हम दोनों तो रियल है।

धीरे धीरे हम दोनों बात करने लगे की क्या ये सही है और भाई बहन में सेक्स हो सकता है तो मेरा भाई बोला मेरा दो दोस्त है जो बहन के साथ सेक्स कर चूका है। मैं बोली नहीं नहीं ऐसा नहीं हो सकता है। तो उसने मुझे वीडियो दिखाया बोला देखो उसने मुझे वीडियो भी दिखाया मैं समझ गई वो राजिव की बात कर रहा था और उसकी बहन गुन्नू। साफ़ साफ़ चुदाई करते दिख रहे थे वो दोनों।

तो भाई बोलै देखो बहन मैं भी यही चाहता हु की हम दोनों में सम्बन्ध बन जाये मौक़ा भी है। मजा आ जाएगा. क्यों की तुम्हे भी सेक्स करने का मन करता होगा और मुझे भी करता है तुम अगर घर से बाहर सेक्स करवाओगी तो फंसने का डर है लोगो बाद में ब्लैकमेल करेंगे। पर घर का माल घर में यानी कोई डर भी नहीं और दोनों का काम भी बन जायेगा.

इतना सुनते ही मेरा शरीर झनझना उठा। मेरे मन में सेक्स चलने लगा। लगने लगा आज कुछ अलग होगा। और मैं हां में जवाव दे दिया। उसने तुरंत भी अपना बेड मेरे बेड में सटा दिया। और मेरे करीब आ गया। पर मैं बोल दी ना तुम वीडियो बनाओगे ना किसी को बताओगे। क्यों की तुम्हारा दोस्त तो अपने बहन के साथ ही वीडियो बना लिया था। वो मान गया।

धीरे धीरे हम एक दूसरे के करीब आ गए। और कपडे खुल गए। वो मेरी चूचियों को मसलने लगा और मैं उसके बाल को सहलाने लगे। जब वो मेरी चूचियों को सहलाता मेरे शरीर में करंट दौड़ जाता। मैं पागल होने लगी। मैं गर्म हो गई उसने मुझे लिटा दिया और मेरी चूचियों को दबाते हुए मुझे चूमने लगा। मेरे होठ चूसने लगे। मेरी चूत गीली हो गई थी। वो अब निचे चला गया और पहले ऊँगली डाला मेरी चूत में फिर उसने अंदर बाहर करने लगा. मैं और भी ज्यादा जोश में आ गयी।

इसके बाद जरूर पढ़ें  दीदी की चुदाई हथौड़े जैसे लौड़े से

वो अब निचे जाकर मेरे अंगूठे से लेकर ऊपर तक चाटने लगा। फिर वो मेरी चूत चाटने लगा। मेरे मुँह से आ आह आह आह आह की आवाज निकलने लगी। फिर वो लेट गया और मैं उसके लंड को चूसने लगी। वो मेरी चूचियों को दबा ही रहा था जब मैं उसके लंड को चूस रही थी। उसमे बाद फिर से मैं निचे हो गई। और वो मेरे ऊपर आ गया।

मेरी टांगो को अलग अलग किया अपने कंधे पर रखा और अपना लौड़ा मेरी चूत पर सेट किया और जोर से घुसा दिया। पूरा लौड़ा मेरी चुत में समा गया चूत पहले से ही गरम और गीली थी। अब और भी जोश में मैं आ गई उसके होठ को चूसने लगी। वो जोर जोर से धक्के देने लगा. मेरी चूत से उसका लंड अंदर बाहर होने लगा. बेड की आवाज पुरे कमरे में गूंज रही थी। वो जोर जोर से चोद रहा था।

हम दोनों वाइल्ड हो गए। अलग अलग पोज में चुदाई करते रहे रात भर चुदाई किये दिन में करीब 12 बजे उठे मम्मी पापा भी तभी उठे थे। दोस्तों फिर तो तीन दिन तक हम दोनों चुदाई करते रहे। पापा मम्मी उधर और मैं भाई बहन इधर. खुद मजे किये थे। अब तो जब मन होगा है घर में भी चुदाई कर लेते है जब मम्मी पापा बाहर जाते है किसी काम से.