भैया ने भाभी समझ कर चोद दिया सच्ची कहानी

दोस्तों मेरा नाम नेहा है मैं 19 साल की हूँ। आज मैं आपको एक सच्ची कहानी सुनाने जा रही हूँ। ये कहानी नहीं सच्चाई है। आज मैं आपलोगों की भी ये कहानी सुनाने जा रही हूँ। पहले तो मैं आपको ये बता दूँ मैं भी अब नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम की फैन हो गई हूँ जब से मेरी सहेली सरिता ने इस वेबसाइट के बारे में बताया है तब से मैं रोजाना इस वेबसाइट पर की कहानियां पढ़ती हूँ। इसलिए आज मैं अपनी कहानी आपलोगों को शेयर कर रही हूँ।

ये बात ज्यादा पुरानी नहीं है कल की ही है। कैसे मुझे सगे भाई ने चोदा वही बताने जा रही हूँ। और सच्चाई तो ये है की ये चुदाई ग़लतफ़हमी में हो गई है पर जो हो गया उसके लिए क्या करना अब तो कहानी बन गई ही चुद गई हूँ। एक जनवरी को ही मेरे भाई की शादी हुई है। और मेरी भाभी मेरे उम्र की ही है कद काठी भी मेरे जैसी ही ज़रा भी अंतर नहीं है। दोस्तों मुझे बचपन से ही दुल्हन बनने का बहुत शौक है। मैं घर में हमेशा दुल्हन दुल्हन खेलते रहती थी। और मुझे दुल्हन बनना बहुत पसंद है। मैं जब भाभी को देखि तो फिर से दुल्हन बनने का मन करने लगा। इसलिए मैं भाभी को बोली भाभी आज शाम को तो भइया पार्टी में जा रहे है मामा जी के यहाँ और शायद वो रात में नहीं लौटे तो आज शाम को मुझे आप दुल्हन बनाना इस बार मैं सच की बनना चाहती हूँ।

आप मुझे अपना कपडे पहनना और गहने भी मैं आपका शादी की लाल साडी पहनना चाहती हूँ। आप मुझे अच्छे से सजाना। तो भाभी बोली सही है मेरा भी समय कट जाएगा क्यों की आपके भैया नहीं रहेंगे तो मुझे भी मन नहीं लगेगा। तो दोस्तों मैं शाम को जब भैया चले गए तो मैं दुल्हन बनने के लिए तैयार हो गई और भाभी ने मुझे अपने कपडे दिए और वैसा ही सब कुछ किया आप यूँ समझिये की मैं सिर्फ सिंदूर ही नहीं लगाई थी सजी धजी थी दुलहन की तरह।

जब सज धज गई तभी भाभी के पापा आ गए। वो बिना बताये आये थे उन्होंने कहा की सरप्राइज देना था इसलिए बिना बोले आ गए। इसलिए लिए भाभी बहुत खूश हुई। और वो अपने पापा से बात करने के लिए घर के बगल में ही एक कमरे का सेट हैं जहाँ गेस्ट रहते हैं वही चली गई क्यों की रात का समय था तो कोई दिक्कत नहीं था वो वही बैठ कर बात करने लगी पापा जी से। मैं उनका ही इंतज़ार कर रही थी। की जब वो आयेगी तभी सारे कपडे उतारूंगी मैं सेल्फी ले रही थी। फोटो खींच रही थी। तभी लाइट चली गई। मैं एक मोमबत्ती जलाई और फिर मेन गेट बंद करने के लिए चली गई ताकि कुत्ता नहीं आ जाये।

तभी भैया आ गए। वो अंदर आते ही मुझे पकड़ लिए उनके मुँह से शराब की बदबू आ रही थी। वो पिए हुए थे। शायद वो मामा के यहाँ अभी नहीं गए थे। मैं पूछी की आप तो मामा के यहाँ जानेवाले थे तो वो बोले यार जा रहा हूँ बस पंद्रह मिनट में निकलूंगा एक दोस्त ने पार्टी दे दी इसलिए लेट हो गया। वो मुझे पकड़ लिए मैं बार बार बोल रही थी छोडो छोडो मुझे अरे मैं हु पर उन्होंने मेरी नहीं सुनी। उन्होंने मेरे मुँह को दबा दिया। और मुझे कमरे में खींचे लिए और पलंग पर लिटा दिया और साडी को ऊपर किया पिंटी खोली।

मैं बचने की कोशिश कर रही थी पर हो नहीं पा रहा था। उन्होंने मेरे टांगो को अलग अलग कर के अपना लौड़ा निकाला और जोर से मेरी चुत में डाल दिया अब मैं चुद चुकी थी। शायद उन्हें ये नहीं पता था की मैं हूँ। उन्हें लगा की भाभी है क्यों की वो मुझे चोद रहे थे और कह रहे थे शालू तू रोज रोज और भी जवान होते जा रही है। आज तेरी चूत काफी टाइट लग रही है.वो चोद रहे थे और मैं चुदवा रही थी। वो जोर जोर से धक्के दे रहे थे और उनका लौड़ा मेरी चुत में समाये जा रहा था। धीर धीरे मुझे भी अच्छा लगने लगा और मैं शांत हो गई और मैं भी चुदाई में साथ देने लगी। क्यों की चरों तरफ अन्धेरा था एक हलकी लाइट बरामदे पर जल रही थी.

उन्होंने मेरी ब्लाउज की हुक खोल दी और ब्रा को ऊपर कर दिया और मेरी चूचियां दबाने लगे. फिर वो मुझे किस करने लगे. वो मुझे बार बार चूमते रहे। दोस्तों मैं मजे से चुद रही थी। अब मैं भी निचे से धक्के दे रही थी। वो और भी ज्यादा कामुक हो रहे थे। वो कह रहे थे आज तो तू भी मूड में है क्या ज्यादा दर्द नहीं हो रहा है मैं कुछ भी नहीं बोली। मैं बस चुदाई का आनंद ले रही थी। उनके मुँह से बराबर शराब की बू आ रही थी रही थी।

दोस्तों उसके बाद मुझे उलटा कर दिया और पीछे से ही मेरी चूत में अपना लौड़ा पेलने लगी। वो मेरी चूतड़ को पकड़कर जोर जोर से धक्के दे रहे थे और मैं चुद रही थी। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था और उनका लौड़ा पूरी तरह से अंदर बाहर हो रहा था। मेरी चूत काफी गीली हो गई थी और अपनी चूचियां मैं खुद ही दबाने लगी क्यों की मैं काफी सेक्सी हो चुकी थी। मेरे रोम रोम पागल हो रहे थे गर्म हो गई थी मैं।

उन्होंने मुझे फिर से सीधा किया और इस बार और भी जोर जोर से चोदने लगे। दोस्तों अब उनकी स्पीड बढ़ गई थी और मैं तार तार हो रही थी क्यों की उनके धक्के से लौड़ा अंदर तक जा रहा था। मैं खूब मजे लेले के चुदवा रही थी। और वो मेरी चूचियों को जोर से दबाते हुए होठ को चूमते हुए। जोर से लौड़ा अंदर करते हुए। एक आवाज जोर से निकाली अअअअअ और सारा माल मेरी चूत में डाल दिया।

अब मैं शांत हो गई थी ऐसा लग रहा था कितनी थकान हो। मैं बेसुध पड़ी रही मैं अब हिलडुल भी नहीं पा रही थी। मैं शांत हो गई थी। वो तुरंत ही अपने जीन्स को ऊपर चढ़ाये और ज़िप लगाया अपना जैकेट पहने और एक बार मुझे हलकी थपकी देकर कहा सो जाना मैं मामा जी के यहाँ जा रहा हूँ सुंबह आऊंगा। मैं चुदाई के बिना नहीं रह सकता था इसलिए मैं एक बार घर आ गया ताकि तुम्हे आज भी चोद कर ही जाऊं। मैं तब भी चुप थी। वो तुरंत ही चले गए।

उन्हें पता भी नहीं चला उन्होंने भाभी के जगह पर मुझे चोद दिए थे। दोस्तों आज मैं आपको इसलिए हु बहु लिख रही हूँ क्यों की ये कल ही वाकया हुआ था।

आगे क्या होगा भाभी को क्या बोलेंगे क्या ये राज ही रहेगा मैं सब कुछ आपको अपनी दूसरी कहानी में नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर बताउंगी। तब तक के लिए आपका धन्यवाद.

www.merisexkahani.com तड़पती जवानी की सेक्स कहानी महिलाओं के द्वारा भेजी गई यहाँ क्लिक करें !