Sexy Maid Sex Story : सेक्सी कामवाली ने लगाया मुझे चुदाई का चस्का

loading...

Sexy Maid Sex Story : सभी लंड धारियों को मेरा लंडवत नमस्कार और चूत की मल्लिकाओं की चूत में उंगली करते हुए नमस्कार। नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम के माध्यम से आप सभी को अपनी स्टोरी सुना रहा हूँ। मुझे यकीन है की मेरी सेक्सी और कामुक स्टोरी पढकर सभी लड़को के लंड खड़े हो जाएगे और सभी चूतवालियों की गुलाबी चूत अपना रस जरुर छोड़ देगी।

loading...

मेरा नाम उपेन्द्र सिंह है। मैं रायबरेली का रहने वाला हूँ। मैं अभी जवान और नया लौंडा हूँ और अभी तक शादी नही हुई है। पर इसके बावजूद भी मुझे चूत की कोई कमी नही होती है। मैंने अनेक लडकियों से चक्कर चला रखा है जिस वजह से नर्म नर्म चूत चोदने को मिल जाती है। मेरे घर में एक नई नई कामवाली आई थी। वो काम शुरू कर दी। उसके हाथ की बनी सब्जी जब मैंने खाई तो ऊँगली चाटता रह गया क्यूंकि सब्जी बहुत टेस्टी बनी थी। फिर सोचा की एक झलक उस कामवाली की ले ली। जाकर देखा तो कामवाली घर की साफ सफाई कर रही थी। वो कपड़ा लेकर टीवी को साफ़ कर रही थी। मैंने जाकर उसे हलो कहा। दोस्तों पहली नजर में मुझे वो जंच गयी। क्या मस्त माल थी वो।

उसे देखकर मेरे सोये अरमान जाग गये। मैं सोच लिया की उससे चक्कर चलाऊंगा। उसकी उम्र कोई 22 साल की थी। अभी वो बिलकुल जवान थी और उसे देखते ही चुदाई करने का दिल कर रहा था। मैंने धीरे धीरे उससे जान पहचान बनानी चालू कर दी। कुछ दिन बाद वो मुझसे खुल गयी।

“क्या नाम है तेरा??” मैं उससे एक दिन पूछा

“देवयानी” वो बोली

“तेरा नाम तो मस्त है। घर में और कौन कौन है??” मैंने कहा

वो बताने लगी। कुछ दिन बाद वो खुद ही खुल गये। मुझे उपेन्द्र भैया कहकर बुलाती थी। मैंने उससे बोला की मुझे सिर्फ उपेन्द्र कहा करे। कुछ दिन बाद मेरी हालत बिगड़ गयी। कॉलेज जाता तो भी कामवाली की याद आती रहती। रात में जब पढने बैठता तो भी याद आती रहती। मुझे कुछ जादा ही अच्छी लगने लगी थी। मैं उसे पटाना चालू कर दिया। वो पटने लगी। एक दिन मेरे घर के सब लोग किसी पार्टी में गये थे। मैं बहुत खुश हो गया था।

“ऐ सुन! आज घर में कोई नही है” मैंने खुश होकर उसे बताया

“तो क्या???” वो अपनी छोटी को पकड़कर घुमाती हुई बोली

उस दिन कामवाली ने पीले रंग का सलवार कमीज पहन रखा था जिसमे वो बहुत खिल रही थी। उसक रंग भी काफी साफ़ था। बहुत गोरी नही थी, पर बहुत काली भी नही थी। उसका चेहरा थोडा चौकोर था पर आँखे, नाक और होठ बड़े सेक्सी थे। कुल मिलकर कामवाली चोदने लायक मस्त लड़की थी। मैं आज ही उसका काम लगाना चाहता था। वो समझ रही थी मेरी बात पर अनजान बन रही थी।

“चल मजे करते है” मैंने कहा और उसका हाथ पकड़ लिया

वो हल्का हल्का नाटक करने लगी पर चुदने का उसका भी दिल था। न न करने लगी पर मैं उसे पकड़ लिया और अपने करीब कर दिया।

“उपेन्द्र…हाथ छोड़ो। क्या कर रहे हो??” वो नखड़ा बनाकर कहने लगी

मैंने उसे गर्दन से पकड़ा और अपनी तरह खींचा। फिर कसके उसकी कमर को पकड़ लिया और उसके होठ पर अपने होठ रख दिए और चूसने लगा। कामवाली इनकार करने लगी पर मैं लगातार चूसता चला गया। कुछ देर बाद उसका इनकार इजहार में बदल गया। कामवाली मुझे अब अच्छे से चूसने लगी। वो मेरा सपोर्ट कर रही थी। मैंने उसे खुद से चिपका लिया। वो मेरे गले लग गयी। मैं उसकी गांड पर हाथ लगाने लगा। वो मस्त होने लगी।

Hot!!!  कामवाली के साथ चुदाई की महाभारत बना डाली

“देगी??” मैं किसी बदतमीज लड़के की तरह पूछा

“क्या???” वो बोली

“वही!!” मैं बोला

मेरी बात कामवाली समझ गयी। इस बार वो ही मेरे को किस करने लगी। कुछ देर बाद हम दोनों गरमा गये। मैंने उसकी पीली रंग की कमीज के उपर से उसके दूध दबाना चालू कर दिए। दोस्तों मेरी कामवाली गाय की तरह दूधवाली थी। उसके कबूतर मस्त मस्त थे। मैं कमीज के उपर से दबाने लगा तो वो “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ….अअअअअ….आहा …हा हा सी सी सी” करने लगी। उसके दूध का साइज 34 इंच था। कामवाली का फिगर 34 28 34 होगा। वो अभी नई नई जवान हुई थी और बिलकुल कच्ची अनचुदी कली लगती थी। अभी उसने युवावस्था में जस्ट कदम रखा था इसलिए वो किसी हीरोइन जैसी दिखती थी। मैं दबाने लगा और गोल आकार की बड़ी बड़ी साइज वाली चूची दबाने लगा। वो गर्माने लगी। उसके आम देखकर ही मुझे नशा होने लगा था।

“चल कमरे में!!” मैं कामवाली से कहा

वो आ गयी। उसे मैंने बेड पर लिटा दिया। अब फिर से हम दोनों का प्यार चालू हो गया। मैं उसके उपर आ गया और कुछ सेकंड किस करने के बाद मजा लेने लगा। उसकी मस्त मस्त कसी कसी चूची को मैंने खूब दबाया। वो “……अई…अई….अई…..इसस्स्स्स्…….उहह्ह्ह्ह…..ओह्ह्ह्हह्ह….” बोलकर गर्म होने लगी। उसकी वासना अब जागने लगी। कामवाली के दूध इतने आकर्षक थे की मन कर रहा था की उपर से मुंह में लेकर चूसना चालू कर दूँ। पर दोस्तों कमीज के उपर से कैसे चूसता। अब मुझे उसे नंगा करना था।

“कमीज उतारो मेरी कबूतरी!!” मैंने कहा

कामवाली कमीज उतार दी। उसने अपनी ब्रा का हुक खोला और नंगी हो गयी। मैं उसके उपर लेटकर उसके मस्त मस्त आम को पास से देखने था। उसकी चूची बड़ी बड़ी और दिलकश थी। जिस तरह से सभी खूबसूरत औरतो के दूध होते है उसी तरह से कामवाली के दूध भी थे। मैं हाथ में ले लेकर खेलने लगा। उसकी निपल्स खड़ी खड़ी थी और उसके चारो तरफ बड़े बड़े लाल लाल गोले मेरी वासना को बढ़ाने लगे। मैं दबा दबाकर चेक करने लगा। कामवाली “अई…..अई….अई…उपेन्द्र!! अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…” करने लगी। उसके दूध बहुत खूबसूरत थे दोस्तों। इतने मुलायम थे की बड़ा सम्हलकर दबा रहा था। वो बेड पर मचलने लगी। मैं उसकी निपल्स को दबाने मरोड़ने लगा। वो सिसियाने लगी।

उसे भी मजा मिल रहा था। फिर मैं उसके दूध को मुंह में लेकर चूसना चालू किया। अब कामवाली अपनी गांड उठाने लगी। दोस्तों उसके आम का स्वाद इतना मस्त था की क्या बताउ। मैं मजे लेकर जोर जोर से मुंह चला चलाकर चूसने चालू कर दिया। वो और बेचैन होने लगी।

“दांत मत गडाना उपेन्द्र!!” वो बोली

पर मैं जोश में होश खो बैठा और बेदर्दी से उसकी मुसम्मी को लेकर मुंह में चूसने लगा। इसमें कई बार दांत उसके आम पर गड़ गये। मैं तबियत भरके चूसा और मजा लूटा। मेरा लंड भी मेरे हाफ पेंट में खड़ा होने लगा। उस वक़्त मैंने वही पहना हुआ था। मैंने अपनी सेक्सी कामवाली से काफी मजा लिया। फिर अपना हाफ पेंट खोल डाला। अपना अंडरवियर मैंने उसी वक़्त उतार डाला।

“देख कैसा लगा मेरा लौड़ा!!” मैं कामवाली को लंड दिखाकर पूछने लगा

वो मेरे लंड पर नजर डाली, फिर झेंप गयी। वो इंडियन लड़की थी इसलिए चुदने में शर्म कर रही थी। मैं अपने 6” के लंड को लेकर हिलाने लगा। जल्दी जल्दी फेटना चालू कर दिया। कामवाली अपने मुंह को हाथ से छिपा ली। वो भी चुदने के मूड में थी पर साफ तौर पर जाहिर नही कर रही थी। वो शर्मा रही थी। दोस्तों कुछ मिनट बाद मेरा लंड फनफना उठा। काफी मोटा क्रीम रोल जैसा दिख रहा था। फिर मैं उसे बैठाकर उसके दूध में लंड रगड़ने लगा। वो उई उई करने लगी। मेरा लंड अपना रस छोड़ना स्टार्ट कर दिया था।

Hot!!!  अपने घर की नौकरानी को पैसे देकर मैंने चोदा

“जान!! मेरे लंड पर अपने दूध रगड़ दो” मैंने कहा

कामवाली रगड़ने लगी। मेरे मोटे लंड को पकड़ी और अपनी चूची पर रगड़ने लगी। मुझे अच्छा लग रहा था। फिर वो खड़ी खड़ी निपल्स पर लंड का सुपाडा घिसने लगी। मेरे लंड से निकलता रस उसकी मस्त मस्त मुसम्मी में चुपड गया। फिर वो मेरे लंड को लेकर फेटने लगी। मैं पीछे को झुक गया। कामवाली लंड को जल्दी जल्दी ताव देने लगी। फिर झुक कर चूसने लगी। अब मेरा लंड बड़ा मजा करने लगा। आनन्द मिल रहा था। मैं “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” करने लगा। मेरी जवान कामवाली अब पूरी तरह से चुदासी हो गयी और जल्दी जल्दी लंड को मुठ देकर चूसने लगी। वो भी प्यासी हो गयी।

दोस्तों वो बड़े अच्छे से चूस रही थी। उसके सेक्सी लब मेरे लंड पर दौड़ने लगे। अपना जादू दिखाने लगे। मुझे जन्नत का मजा मिल रहा था। कुछ देर बाद कामवाली और जोशा गयी और जल्दी जल्दी सिर हिला हिलाकर चूसने लगी।

“चूसो मेरी रानी!! और चूसो!” मैं कहने लगा

उसने मेरे लंड को मालामाल कर दिया। अब अपने दोनो दूध को वो हाथ में पकड़ी और मेरे 6” के मोटे ताजे लंड को बीच में दबाकर उपर नीचे करने लगी। ऐसा करने से मुझे अत्यंत सुख की प्राप्ति होने लगी। काफी देर वो ऐसा करती रही।

“चल चूत दे!!” मैंने कहा

कामवाली अपनी सलवार का नाड़ा खोली और उतार दी। अपनी चड्डी को नीचे सरका कर उतार डाली। नंगी होकर टांग खोल ली। उसकी बुर मेरे सामने थी। मैंने उसी वक्त उसकी चूत में लंड डाल दिया और जल्दी जल्दी चोदने लगा। वो “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..”करने लगी। मेरा लंड उसकी चूत में जाकर हाहाकार मचाने लगा। मैं जल्दी जल्दी अपनी जवान सेक्सी कामवाली को चोदने लगा। वो बेड पर ही उछलने लगी। मुझे उसकी कमर पकड़नी पड़ी ताकि अच्चे से धक्के दे पाऊं। वो चुदासी होकर अपना सीधा हाथ लगाकर जल्दी जल्दी अपनी चूत के उपरी हिस्से को सहलाने लगी। ऐसे वो बड़ी सेक्सी दिख रही थी। मैं और जादा जोश से भर गया और गमागम ठुकाई करने लगा।

“उपेन्द्र!! आराम आराम से चोदो!!” कामवाली निवेदन करने लगी

पर मुझे तो जल्दी जल्दी करने में ही यौन सुख की प्राप्ति हो रही थी। मेरा 6” का मोटा ताजा लंड उसकी लाल लाल चूत को अच्छे से फाड़ रहा था। उसका हलुआ बना रहा था। कामवाली की चींखे अब बेहद तेज हो गयी थी। उसको चूदने में परम सुख की प्राप्ति मिल रही थी। मैं अनेक बार उसकी मस्त मस्त चूत में धक्का दिया। अब झड़ने वाला हो गया।

“मेरा माल निकल जाएगा। कहाँ निकालू??” मैंने उससे पूछा

“अंदर ही छोड़ दो, मुझे ख़ुशी मिलेगी” कामवाली बोली

तो मैं उसकी चूत में ही बह गया। हमारा प्रथम चुदाई महोत्सव पूरा हो गया। मैं थक कर लेट गया। मुझे काफी थकावट लग रही थी। मेरा गला भी सूख रहा था। मैं पानी पिया। मेरा बदल ढीला पड़ गया था। कामवाली आकर मेरे लंड को फिर से चूसने लगी।

“उपेन्द्र!! तुमने मुझे बड़ा मजा दिया है। कपड़े पहन लूँ??” वो पूछने लगी

“चल कुतिया बन जा!! तेरी गांड चोदूंगा” मैंने कहा

मेरी खूबसूरत कामवाली कुतिया बन गयी। मैं उसकी कुवारी गांड का छेद चाटने लगा। दोस्तों जितनी खूबसूरत उसकी चूत थी उतनी ही सेक्सी उसकी गांड थी। चमकदार और बेहद चिकनी। मैं लार चुआकर चाटने लगा। अच्छे से चाटने लगा। वो “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….. ऊँ…ऊँ…ऊँ….” करने लगी। उसके दोनों नितम्ब भी काफी सेक्सी और गोल मटोल थे। मैं रबर जैसे मुलायम चूतडों को हाथ से सहला सहलाकर दबाता जाता था। मेरी जीभ उसकी कुवारी गांड के बिल को चाट रही थी। काफी मजा आया मुझे चाटकर। अजीब सा स्वाद था कामवाली की गांड का। मैंने काफी देर चाटा।

Hot!!!  आंटी बोली क्या आप मेरी बेटी को चोद कर माँ बना देंगे प्लीज

“उपेन्द्र भैया!! अब मेरी गांड मारो न!! प्लीससस” कामवाली कहने लगी

“मार रहा हूँ एक सेकंड!!” मैंने कहा और लंड को फिर से जल्दी जल्दी फेटकर खड़ा करने लगा। उसके चूतड़ तो कितने सेक्सी दिखते थे। मैं लंड हाथ में लेकर चूतड़ पर पीटने लगा। कामवाली ……अअअअअ आआआआ करने लगी। फिर गांड में घुसाने लगा। पर दोस्तों आजतक उसने किसी से गांड नही चुदवाई थी। इस वजह से उसकी सील टूटी नही थी। मैं लंड को छेद में डालने लगा पर सीलबंद होने की वजह से अंदर ही नही जाता था। मुझे जबरदस्ती करनी पड़ी। जब बहुत जोर लगाया तो अंदर चला गया। मेरी कामवाली दर्द से सी सी करने लगी।

मेरा 6” लम्बा लंड 3 इंच तक गांड में प्रवेश कर गया। उसकी हालत खराब हो गयी थी। फिर मैंने और धक्का मारा और पूरा 6” अंदर डाल दिया। कामवाली की हवा खराब हो गयी। दोस्तो वो कुतिया वाले पोज में थी। मैंने उसकी गांड में थूककर चिकना कर डाला। फिर जल्दी जल्दी उसकी गांड मरने लगा। कामवाली कामुक अंदाज में “हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी… हा हा.. ओ हो हो….” करने लगी। मैं जल्दी जल्दी उसकी गांड मारने लगा। वो आहा आहा करने लगी। मैं लंड को उसकी गांड के कसे कसे छेद में दौड़ाने लगा। आज इसका भी मजा ले रहा था। कुछ देर बाद तो पूरा जड़ तक घुसाकर लेने लगा। कामवाली की अम्मा चुद गयी। उसकी आवाजे और भी अधिक तेज होने लगी। मैं कुछ और मिनट उसके साथ गुदा मैथुन किया और उसकी में शहीद हो गया।

कुछ दिन बाद फिर से उसके यौवन का रस मैंने चोद चोदकर ले लिया। अब वो मुझे अपना प्रेमी बना ली है। मुझसे फंस चुकी है। दूध भी पिलाती है। चूत भी देती है और अपनी कसी कसी गांड भी मरवा लेती है। आपको स्टोरी कैसी लगी मेरे को जरुर बताना और सभी फ्रेंड्स नई नई स्टोरीज के लिए नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पढ़ते रहना। आप स्टोरी को शेयर भी करना।

[Total: 794    Average: 3.2/5]
loading...