मम्मी ने खुद ही मुझे पापा के पास चुदने के लिए भेजा

बाप बेटी सेक्स : दोस्तों मेरा नाम रूचि है। मैं कॉलेज में पढ़ती हूँ। मैं अपनी मम्मी की अकेली संतान हूँ। मेरी उम्र 20 साल है और मेरी मम्मी की उम्र 38 साल। मम्मी ने मुझसे कहा जा पापा के साथ सो जा, और वो जो करे तुम मना नहीं करना।

Indian Father : आज मैं आपको अपनी कहानी बताने जा रही हूँ। आखिर क्या कारण था की मम्मी खुद बोली नए पापा के साथ सो जा और मना नहीं करना। हम दोनों की ज़िंदगी का सवाल है। मुझे भी उनकी बात समझ आ गया और मैं खुद ना चाह कर भी मना नहीं कर सकती थी इसलिए मैं भी हां बोल दी और फिर क्या हुआ, रात भर कैसे मेरी चूत का सत्यनाश कर दिया, मेरी चूचियां जिसको आजतक किसी ने छुआ तक नहीं था उसको उन्होंने दबा दबा कर और निप्पल को दांत से काट काट कर दर्द करा दिया था पहले दिन। मैं आपको अपनी पूरी कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर सुनाने जा रही हूँ।

जब मुझे मम्मी बोली ये काम करने को वो भी पापा के साथ तो मुझे थोड़ा संकोच हुआ। की ये गलत है। मैं भी किसी की बीवी बनूँगी उसको क्या मुँह दिखाउंगी। फिर लगा ज़िंदगी में अगर मैं किसी को खुशियां नहीं दे पाई तो ये भी गलत होगा। तो मैं सोने चली गई उस इंसान के साथ जिसका लौड़ा आठ इंच का है और मोटा तीन इंच का। किसी की चुत फाड़ दे। कैसी भी औरत क्यों नहीं हो बाप बाप करवा देगा ऐसा लौड़ा फिर भी मैं अपनी छोटी सी नन्ही सी छेद वाली चूत में मोटा लौड़ा लिया। और मुझे कैसा लगा वो मैं आगे बताउंगी।

दोस्तों, मेरी माँ की ये दूसरी शादी है। मम्मी एक वेबसाइट पर रिश्ते देखकर शादी की है। मेरे असली पापा किसी और के साथ भाग गए है। वो भी एक नम्बर का कमीना था। आये दिन घर पर ही काल गर्ल लाता था और उसकी चुदाई करता था और आह आह आह उह्ह्ह की आवाज करता था और मैं माँ बेटी के कान तक चुदाई की आवाज हमेशा आती थी। इससे घटिया बात क्या हो सकती थी किसी के ज़िंदगी में।

एक दिन मम्मी ने मेरे से बात की कि बेटी मैं एक इंसान को जानती हूँ इंटरनेट से मिली हूँ वो मेरे से शादी करना चाहता है। क्या मैं कर लूँ। तो मैं हां कह दी और और दो से तीन महीने में ही मम्मी शादी कर ली।

नए पापा की वाइफ डेथ हो गई है। वो अकेले दिल्ली के एक पॉश कॉलोनी में रहते हैं। गाड़ियां है फ्लैट है फार्म हाउस है। शिमला में होटल है यानी खूब पैसे बाले हैं। अब मै, माँ बेटी दोनों आ गए नए घर में। पुराने घर को छोड़ आये, पुराना घर बैंक लोन पर था पुराने पापा चुकाए नहीं उसका भी कुर्की हो गया। ऐसे भी हम लोग रोड पर आ गए थे इसलिए अच्छा हुआ माँ शादी कर ली।

माँ की सुहागरात था। दरवाजे बंद हो गए थे। अंदर हलकी हलकी म्यूजिक चल रही थी। मैं दूसरे कमरे में सोइ थी। रात भर क्या हुआ वो मुझे सुबह पता चला जब पापा किसी काम से बाहर चले गए।

माँ बोली “बेटी मैं खुश नहीं कर पाई” वो सेक्स वाइल्ड तरीके से करना चाहता है गांड मारना चाहता है पर अब इतनी हिम्मत नहीं है की मैं गांड और चूत विदेशी लड़की की तरह मरवा सकूँ। तो मैंने खुद माँ को समझाया की, कुछ दिन की बात है सब नार्मल हो जाएगा. माँ मेरी मान गई और फिर दूसरे दिन रात को फिर से दरवाजे बंद हो गए।

पर उस रात अंदर से लड़ाई की आवाज आने लगी। सुबह हुई तो पता चला पापा बोल रहे थे की मैं तुम्हे तलाक दे दूंगा। अगर तुम मुझे खुश नहीं कर सकती हो तो।

उसी दिन मुझे लगा की मैं अपनी माँ के काम आ सकती हूँ। इससे पहले की माँ ही मुझे बोल दी बेटी शायद तो तुम्हे पाना चाहता है इसलिए इतने नखरे कर रहा था। ज़िंदगी का सवाल है हम दोनों का। दुनिया क्या कहेगी , दो दिन में ही छोड़ दिया। इसलिए तुम ही सोच लो थोड़ा क्या करना है। अगर इज्जत बचाना चाह्हती है तुम आज रात सो जाना पापा के साथ। थोड़े दिन की बात है फिर देखते हैं हम दोनों भी चाल चलते हैं। इसके पैरों की जूती कैसे बनाया जाये। इसको तो हम दोनों कुत्ते की तरह रखेंगे। पर अभी तू संभाल ले।

हम दोनों ही इतने प्रॉपर्टी की मालकिन बनेंगे। मुझे ये सब बात समझ में आ गई और रात की कुंवारी सुहागरात होने वाली थी। दिन से ही मैंने अपना मन बना लिया। मैं भी अरबपति बन्ना चाहती थी। बस चुदाई करवानी थी।

दूसरे दिन पहुंच गई कमरे में। बेड पर मांगी शराब रखी थी। वो पी रहे थे नाईट शूट में थे जैसे कोई करोड़पति रहता है। आपने फिल्मों में देखा होगा। वो मुझे अपने पास बुलाये। और बोले, देखो मैं भी अकेला हूँ और तुम दोनों भी ऐसे ही हो। तो काम ऐसा करो की सबका काम बन जाये।

वो बोले फिर भी मैं पूछना चाहता हूँ तुम्हे कोई दिक्कत तो नहीं मेरे साथ सम्बन्ध बनाने में। ये तुम्हारे पर छोड़ रहा हूँ। इतना कहकर वो एक पेग ले लिए मैं। उनके करीब गई और उनके होठ को चूसने लगी।

धीरे धीरे वो मेरे कपडे उतारने लगे। और हम दोनों ही वाइल्ड हो गए मैं उनपर भारी पड़ रही थी। मैं खुद भी उनको पछाड़ रही थी। तो वो बोले मुझे ऐसी ही लड़की की जरुरत थी। मैं चढ़ गई उनके ऊपर और ब्रा उतार फेंकी। उनके होठ को चूसते हुए उनके छाती पर हाथ फेरती रही।

वही पड़ा शराब उन्होंने बनाया और मुझे भी दिया और खुद भी लिया मैं शराब पि और फिर उनके लंड को चूसने लगी। अब वो वाइल्ड होने लगा वो मेरी चूचियां दबाने लगा। गांड में ऊँगली देने लगा चूत सहलाने लगा। मेरे जिस्म को टटोलने लगा.

मैं भी कुछ ज्यादा ही हावी हो रही थी। और मैं खुद ही उनका लौड़ा लेकर अपने चूत में डाल ली और बैठ गई। पूरा लौड़ा मेरी चूत में समा गया। अब जोर जोर से धक्के देने लगी। मेरी चूचियां हवा में झूल रही थी। और मैं गांड गोल गोल करके लंड अंदर ले रही थी।

उसके बाद वो मुझे निचे किये और मेरे दोनों पैरों को अपने कंधे पर लेकर। मुझे पेलने लगे। अब मुझे दर्द होने लगा वो मेरी चूचियां निचोड़ रहे थे। निप्पल को दांत से काट रहा था। मेरे जिस्म को तार तार कर रहे थे।

मैं चुद रही थी और कमरे में बेड की आवाज और मेरे अवाज निकल रही थी। जोर जोर से उछाल ले ले के वो चोद रहा था और मैं भी साथ दे रही थी।

फिर गांड मारने लगे। करीब आधे घंटे तक गांड मारने के बाद फिर से चूत फिर उन्होंने सारा माल मेरी चूचियों पर गिरा दिया और फिर चाट गए वो खुद ही। मेरी चूत भी अपनी जीभ से साफ़ कर दिए और जितना माल गिराया थे मेरी चूची पर वो सभी चाट गए।

सुबह हुई मम्मी मिली मुझे गले लगाई। और बोली धन्यवाद बेटी।

अब हम दोनों इस कुत्ते को पट्टे बाँध कर रखेंगे। सभी साल दो साल रुकते हैं फिर इसकी गांड फाड़ते हैं। इतना कहते कहते ही वो पीछे से आ गए। और बोले चलो तुम दोनों के लिए आज मैं गले में सोने का चेन और अंगूठी खरीदता हूँ।

अब तुम लोग किसी चीज के लिए नहीं सोचना सब कुछ तुम दोनों का है। मैं किसी चीज के लिए मना नहीं करूंगा रानी की तरह रही। मैं माँ बेटी एक दूसरे का मुँह देखते रह गए और मुस्कुरा रहे थे। आपको ये बाप बेटी की सेक्स कहानी कैसी लगी जरूर बताएं।