लाड़ में छोटे भाई को साथ सुलाई उसने रात में चोद दिया

कभी भी जवान लड़के को अपने साथ नहीं सुनाने चाहिए या लड़कियों को जवान लड़के के साथ नहीं सोने चाहिए भले ही रिश्ते में कोई भी लगता हो। क्यों की जिस्म की आग सही नहीं जाती है और फिर कांड हो जाता है। जो आप सोच भी नहीं सकते वो हो जाता है। ना चाहते हुए भी आप वो सब कर देते जो आपको नहीं करने चाहिए। भले रिश्ते कोई भी हो। आज मैं अपनी कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर बताने जा रही हूँ।

कैसे मेरा छोटा भाई कल रात में मुझे चोद दिया और मैं कुछ नहीं कर पाई साथ देने के अलावा मेरे पास कोई चारा नहीं था। और मैं भी चुद गई। आज दिन में मुझे लग रहा था। की काश मैं अपने आप पर काबू कर लेती थी शायद ये नहीं होता। फिर ये भी आज मैं दिनभर सोचते रही की चलो जो हुआ अच्छा ही हुआ। पर अभी तक मैं ठीक से डिसाइड नहीं कर पाई हूँ की ये अच्छा हुआ या बुरा।

अब मैं आपको पूरी कहानी बताती हूँ। मेरा नाम मधु है। मैं 32 साल की हूँ पर कुंवारी हूँ। मैंने शादी नहीं की और सोची हु करूँ भी नहीं। एक बार प्यार में धोखा खाई और मैंने उसी दिन प्रण कर ली की आज के बाद किसी मर्द के चंगुल में नहीं आउंगी इसलिए शादी नहीं की। मैं प्रोफेसर हु एक कॉलेज में। पर एक भारतीय लड़की हूँ। सुन्दर हु। पढ़ी लिखी और स्मार्ट हु। नए ज़माने की खूबियां भरी हुई है मेरे तन मन में। मैं हॉट और सेक्सी भी हु पर अपने लिए ना किसी और के लिए। अब कल जब से चुदी हूँ तब से कई चीजों बदल गई है और मेरी सोच भी बदल गई है। अब चाहती हूँ कोई अच्छा लड़का मिल जाये तो शादी कर ली जाये।

कल की बात है। मेरा भाई जो की 21 साल का है। इंजीनियरिंग कर रहा है। मेरा और मेरे मम्मी पापा का दुलारा है। बहुत प्यारा है। कल रात को हम लोग खाना खाकर थोड़े दे टीवी देखे। फ्री मैं और मेरा भाई छत पर टहलने चले गए। मम्मी पापा अपने कमरे में सो गया था। वो लोग ग्राउंड फ्लोर पर सोते है। मैं फर्स्ट पर सोती हूँ। और बगल वाले कमरे में मेरा भाई सोता है। तो रात के करीब ११ बज गए थे। तो हम दोनों ही नीचे आ गए।

इसके बाद जरूर पढ़ें  करवाचौथ पर अपनी बहन को चूत और गांड दोनों चोदा

वो मेरे कमरे में ही आ गया बोला दीदी अभी नींद नहीं आ रही थी। इसलिए बात करते है। हम दोनों ही बेड पर लेट कर बात करने लगे। बिच बिच में वो अपने मोबाइल को छेड़ रह रहा था और मैं भी अपने मोबाइल पर लोगो की डीपी देख रही थी। तभी जोर की बारिश होने लगी। हम दोनों को बरसात बहुत पसंद है। हलकी हलकी ठंडी हवा चल रही थी। देहरादून की हवा भी अच्छी है। तो वो सोने लगा मैं बोली भाई जा अपने कमरे में। तुम्हे नींद आ रही है।

वो नखरे दिखाने लगा। दीदी तंग नहीं करो ना प्लीज ऐसा वो बोलकर आँख बंद कर लिए और फिर तुरंत भी पांच मिनट में नींद से सो गया। मुझे लगा की अब क्या उठाना सोने ही देती हूँ। मैं उठी बाथरूम गई और अपने कपडे चेंज की। मैं रात में सिर्फ बरमुंडा पेण्ट और ऊपर ढीली ढाली टी शर्ट पहनती हूँ। आजतक मैंने कभी भी ब्रा और पेंटी पहन कर नहीं सोई. मुझे नींद नहीं आती है टाइट कपडे में।

आकर मैं सो गई फिर मोबाइल पर नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम खोलकर कहानियां पढ़ने लगी। आजकल बहुत ही हॉट कहानियां पढ़ने को मिल रही है इस वेबसाइट पर। तो मैं गर्म हो गयी। अपनी चूचियां सहलाते हुए कहानियां पढ़ने लगी मेरा भाई सो गया था। फिर अपने पेंट में हाथ डालकर अपनी चूत भी सहलाने लगी। चुत गीली हो चुकी थी। पर आज मैं ज्यादा कुछ कर भी नहीं सकती थी। इसलिए मैं जल्द ही मोबाइल रख कर तक तकिया जांघ के बिच में दबा कर सोने लगी पर। कहानी की बात याद आ रही थी तो नींद भी नहीं था।

इसके बाद जरूर पढ़ें  देवर ने बेदर्दी से चोदा मुझे दशहरा के दिन

मैं सीधा होकर सोने की कोशिश करने लगी। तभी मेरा भाई पलटा और मेरे ऊपर अपना पैर रख दिया। और अपना हाथ मेरी चूचियों पर। मैं सोची की हटा दूँ उसका हाथ तो वो नहीं हटाया और आआआ करने लगा नींद में तो सोची रहने देती हु नींद में है। पर मुझे कुछ कुछ होने लगा था। उसके बाद उसने थोड़ा थोड़ा दवाब देने लगा पर चूचियों पर। और करीब 10 मिनट में ही वो मेरी चूचियों को सहलाने लगा।

मुझे भी अच्छा लगने लगा, मैं कुछ नहीं बोली धीरे धीरे वो मेरे टी शर्ट को ऊपर कर दिया और चूचियों पर अब हाथ फेरने लगा मेरी निप्पल को को दोनों ऊँगली से दबाने लगा। मैं जोश में आ गई। मेरे अंदर आग लग चुकी थी। करती भी क्या अब तो आग लग गई थी। मुँह से सिसकारियां लेने लगी। उसने अब मेरे पेंट में हाथ डाल दिया जैसे ही उसका हाथ मेरी चूत पर पहुंचा तो चूत गीली थी। शायद मेरा भाई समझ गया था की दीदी जगी है और गरम हो गई है यही तो निशानी है किसी लड़की को जानने का जब उसकी चूत गीली हो जाये छेड़ने पर यानी की वो चुदने को राजी है।

फिर क्या था दोस्तों वो मेरी चूचियों को आप पीने लगा। और मेरे ऊपर चढ़ गया। उसने मेरा पेंट निचे कर दिया और टी शर्ट ऊपर। अब उसने मेरे होठ को चूसना शुरू कर दिया। मैं पागल होने लगी। मैं आँख खोल दी और उसको पकड़ कर चूमने लगी। टी शर्ट उतार दी और उसको अपने आगोश में ले लि। अब मैं चुदने को तैयार थी। मैंने दोनों टांगो को फैला दी। और फिर उसके कपडे खोलने बोली तो तुरंत ही नंगा हो गया। मैं उसको इशारा की चूत चाटो। वो मेरी चूत चाटने लगाए मैं उसके बाल को पकड़कर अपनी चूत पर रगड़ने लगी। वो मेरी चूत चाटने लगा।

इसके बाद जरूर पढ़ें  स्काउट कैंप में मामा की लड़की को चोद चोद के खूब मजे लूटे

अब मैं उसके होठ को चूसने लगी वो मेरी जिस्म को सहलाने लगा मेरी चूचियां दबाने लगा। मैं बैठ गई उसको लिटा दी और उसके लंड को पकड़कर मैं चूसने लगी। उसके शरीर में सिहरन होने लगी। और मैं बहुत ही ज्यादा कामुक हो गई है। मैं फिर से वापस लेट गई और चुदने को तैयार हो गई अपना पैर फैला दी। और उसको देखने लगी। वो अपना लैंड मेरी चूत पर लगाया और जोर से घुसा दिया मेरी चूत में।

ओह्ह्ह्हह्ह क्या बताऊँ दोस्तों बाहर बारिश और अंदर इसका मजा ही कुछ और है। वो अब मुझे चोदने लगा। और मैं खुद गांड को गोल गोल घुमाती तो कभी धक्के देती। पूरा लंड अंदर जा रहा था मेरी चूत बार बार पानी छोड़ रहा था। उसका लौड़ा अंदर बाहर हो रहा था। मेरे होठ सुख रहे थे।

वो जोर जोर से धक्के दे रहा था। चूचियां मसल रहा था। फिर कभी उल्ट कर पलट कर धोड़ी बनकर खड़े होकर कभी वो निचे कभी मैं निचे ऐसा ही हो रहा था। करीब दो घंटे तक चुदाई करने के बाद हम दोनों ही झड़ गए। और फिर ऐसी नींद आई की दोनों सुबह ही जगे।

आज मुझे हल्का हल्का चूत में दर्द हो रहा था और चलने में भी परेशानी हो रही थी। आज तो जब भी मेरा भाई मुझे देखता या मैं देखती तो हलकी मुस्कान दोनों के होठ पर थी। पर मैं कुछ और ही सोच रही थी की सही किया या गलत।