दोनों बहनों को मामा जी ने चोदा पूरी रात

Mama Bhanji Sex Story in Hindi : मेरा नाम निकिता हर मेरी बहन का नाम कविता है। हम दोनों ही जवान और खूबसूरत लड़की है। आज मैं आपको जो कहानी सुनाने जा रही हूं उसमें मैं यह बताऊंगी कि कैसे मेरे मामा जी ने मुझे और कविता को पूरी रात जबरदस्त तरीके से चोदा। कविता को बहुत ज्यादा दर्द हो रहा था फिर भी मामाजी नहीं रुके और उसके चूत में अपना मोटा लंड घुसा कर उसकी चूचियों को मसलते हुए उसको चोदते रहे। वह थकने का नाम नहीं ले रहे थे कभी वह मुझे चोदते कभी कविता को चोदते। आज मैं पूरी बात आपको नॉनवेज स्टोरी के माध्यम से आपको बताने जा रही हूं।

अब आपके मन में यह प्रश्न उठ रहा होगा कि आखिर मामा जी को ऐसा मौका कैसे मिल गया और हम दोनों बहनों को पूरी रात उन्होंने कैसे चोदा। और आगे हम दोनों तैयार कैसे हो गए क्या हम दोनों बहनों ने उनको मना नहीं किया। सारी बातें आपको एक-एक करके बताऊंगी ताकि आपको पता चले मेरे मामा जी कितने बड़े चोदो इंसान हैं। तो बिना देर के अब मैं सीधे अपनी कहानी पर आते हो ताकि आपको भी ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़े।

मेरे मामा जी गुड़गांव में रहते हैं। और हम लोग लखनऊ के रहने वाले हैं। मेरे पापा की 25वीं सालगिरह पर मेरे मामा जी लखनऊ आए हुए थे। पापा मम्मी ने सभी लोगों को बुलाया था अपने सालगिरह पर इसलिए माहौल एकदम शादी के जैसा लग रहा था क्योंकि वह सिल्वर ज्वेलरी बना रहे थे। आपको तो पता है दोस्तों जब घर में ज्यादा लोग आ जाते हैं और ऐसे फंक्शन में ना सोने का सही जगह हो पाता है ना खाने का सही तरीका हो पाता है जिसको जैसे मर्जी होता है वैसा ही करते हैं।

फंक्शन के लिए एक होटल बुक था हम लोग घर से होटल ही चले गए थे सब लोग वहां पर कमरे बुक थे सभी के लिए। और मामा जी सबसे बाद आए थे इस वजह से उनको जल्दी कमरा नहीं मिल पाया था और वह मेरे कमरे में ही सोने के लिए अलग से एक नीचे ही बैड लगवा लिए थे। उस कमरे में मैं और मेरी बहन कविता दोनों ही थे ऊपर से एक मामा जी आ गए। रात के 1:00 बजे तक फंक्शन चला फिर हम लोग खाना खाकर अपने अपने कमरे में सोने के लिए आ गए।

हम दोनों बहन को ही नॉनवेज story.com पढ़ने का बहुत शौक है हम दोनों रोजाना इस वेबसाइट पर नई कहानियां जो डलती है वह रोज पढ़ कर ही सोते हैं। यानी कि हम दोनों बहनों को सेक्स बहुत अच्छा लगता है पर आज तक कभी मौका नहीं मिल पाया पर हम दोनों ने ही डिसाइड पहले से कर रखा है कि कभी कोई ऐसा मौका लगे दोनों बहनों को साथ चोदने का तो हम दोनों एक साथ चुदेँगे। जब हम लोग कमरे में कहानियां पढ़ रहे थे तो मामा जी भी नीचे ही बेड लगाकर सोए हुए थे। वह बार-बार पूछ रहे थे कि तुम दोनों क्या कर रहे हो तुम दोनों क्या पढ़ रहे हो।

कविता थोड़ी मुंहफट है। ऐसे भी हम लोग मामाजी से मजाक करते रहते हैं इसलिए वह बोल दे कि हम लोग एडल्ट फिल्म देख रहे हैं देखना है आपको क्या। मामा जी भी कम दोगले नहीं है उन्होंने तुरंत ही रिप्लाई किया है एडल्ट फिल्म देखने की क्या जरूरत है जान एक कमरे में दो दो लड़की हो और एक मर्द हो तो एडल्ट फिल्में ही बना लेते हैं। हम दोनों एकदम से चुप हो गए कुछ नहीं बोल पाए मामा जी फिर से बोले क्या ख्याल है? हम दोनों बहन एक दूसरे को देखने लगे कविता बोली रोका किसने है आ जाओ।

इतना कहते ही मेरे मामा बेड पर आ गए अंदर से कुंडी बंद कर दिया उन्होंने। और बोले चल पहले फिल्म तो दिखा कौन सा फिल्म देख रही थी कविता ने मोबाइल सामने कर दिया नॉनवेज story.com खुला हुआ था कामयाबी हम लोग मामा भांजी की सेक्स कहानी ही पढ़ रहे थे। मामा जी बोले अच्छा तो यह बात है पहले से ही प्लान है मामा से चुदवाने का। इतना कहते ही मामा जी ने मेरे स्तन पर पर हाथ रख दिया। फिर हाथ उठाएं फिर कविता के स्थन पर। यानी कि वह दोनों की चुचियों का नाप ले रहे थे कि किसका चूची सबसे बड़ा है। हम दोनों एक जैसे ही हैं कविता की चूचियां थोड़ी बड़ी है मेरी चूचियां थोड़ी छोटी है।

मामा जी ने दोनों की चुचियों को मसल ना शुरू कर दिया हम दोनों तो पहले से ही गर्म हो चुके थे नॉनवेज स्टोरी की कहानियां पढ़कर। मामा जी ने हम दोनों के कपड़े उतार दे हम दोनों बहने खुद से एक दूसरे की बरा को खोल कर अपनी बड़ी-बड़ी चूचियां को आजाद किया। मामा जी हम दोनों बहन के सेक्सी बदन को देखकर पगला गए थे उन्होंने तुरंत ही हम दोनों को चुम्मा देना शुरू कर दिया किस करना शुरू कर दिया। हम दोनों ने भी एक दूसरे को खुश करने की कोई कमी नहीं छोड़ी थी हम दोनों बहन एक साथ ही मामाजी पर टूट पड़े उनको नीचे लिटा कर मेरी बहन कविता उनका लंड पकड़ कर चूसने लगी मैं उनके होंठ को चूसने लगी।

इस समय वह हम दोनों की चुचियों को दबाते हुए हम दोनों को चूमते थे मेरी गांड को मेरे चूतड़ को सहलाते थे। हम दोनों बहन को उन्होंने करीब 5 मिनट में ही इतना ज्यादा गर्म कर दिया कि हम दोनों बहनों के चूत से गर्म गर्म पानी निकलने लगा था। हम दोनों बहनों को मामा जी ने लिटा कर दोनों की चूत को चाटने लगे। मामा जी के लंड को हम दोनों बहनों ने भी काफी देर चाटती रही। दोनों बहनों की चुदाई की बारी थी मामा जी ने सबसे पहले मुझे चोदना शुरू किया उन्होंने दोनों पैरों को अलग-अलग करके तकिया मेरी गांड के नीचे लगा दिया और अपना मोटा लंड मेरी चूत के छेद पर लगाकर जोर से घुसा दिया।

इस बीच मेरी बहन मेरी चूचियों से खेल रही थी और मेरे मामा जी कविता के गांड को चाटते हुए मुझे चोद रहे थे। जोर जोर से धक्के दे देकर जब उन्होंने मुझे चोदना शुरू किया तो मेरे मुंह से सेक्सी आवाज निकलने लगा जिसको सुनकर कविता भी काफी ज्यादा व्याकुल हो गई और वह जल्दी से अपनी चूत में लंड लेने को आतुर होने लगी। पर मैंने ही कविता को मना किया कि पहले मुझे चोदने दो मामा जी को फिर तुम अपनी चूत में मामा जी का लंड लेना। ऐसा ही हुआ जब मामा जी मुझे करीब आधे घंटे तक चोद लिए तब अब कविता की बारी आई।

कविता के दोनों टांगों को अलग करके अपने कंधे पर रख लिया।  कविता की चौड़ी गांड और लाल लाल चूत को देखकर अपने मुंह से सिसकारियां निकालने लगे कविता भी अंगड़ाइयां लेने लगी। मामा ने अपना मोटा लैंड कविता के चूत के छेद पर रखा और जोर से घुसा दिया कविता को बर्दाश्त नहीं हो पाया क्योंकि यह इसके पहले कभी चूड़ी नहीं थी। इस वजह से उसको काफी ज्यादा दर्द होने लगा था वो रोने लगी थी पर मेरा जालिम मामा एक ना सुनी हम दोनों की। जोर-जोर से अपना मोटा लंड मेरी बहन की चूत में जोर जोर से धक्के दे देकर चोदने लगे।

पहले तो कविता को काफी ज्यादा दर्द हो रहा था फिर 5 मिनट की चुदाई के बाद ही कविता को भी मामाजी का लंड अच्छा लगने लगा अब मामाजी जोर-जोर से कविता को चोद रहे थे कविता की चुचियों को मसल रहे थे मेरी गांड को चाट रहे थे। और जल्दी-जल्दी अपना लंड अंदर बाहर निकाल रहे थे। पूरी रात हम दोनों बहनों को एक-एक करके चोदा मामा जी अपने बैग से वियाग्रा टेबलेट निकाला और खाकर हम दोनों बहनों को पूरी रात चोदा। जब हम दोनों की चुदाई हो गई तब मामा जी से हम दोनों बहनों में एक ही प्रश्न किया था कि मामा जी आप अपने बैग में वियाग्रा लेकर चलते हो क्या

तब मामा जी बोले यह तुम दोनों को चोदने के लिए नहीं था। यह तो तुम्हारी मां को खुश करने के लिए था हम दोनों बहन हैरान हो गए। हम दोनों बहनों ने उनसे पूछा क्या माजरा है मामा जी हम दोनों को सही सही बताओ तो उन्होंने बताया कि जब भी मैं लखनऊ आता हूं इसका एक ही कारण होता है तुम्हारी मां के साथ सेक्स करना। यानी कि मैं अपनी बहन को तब से जब चोद रहा हूँ जब वो अठारह साल की ही थी।