पति से चुदना चाहती थी पर भाई से चुद गई

दोस्तों, मेरा नाम सपना है मैं 23 साल की हूँ अभी शादी हुए मात्र 13 दिन हुए हैं। आज मैं आपको अपनी सच्ची कहानी बताने जा रही हूँ। ये कहानी कल की ही है। आप इस कहानी को पढ़ेंगे तो सोचेंगे की कब हालात ऐसा हो जाता है की नहीं चाहते हुए भी करना पड़ता है। दोस्तों मैं भी आपकी ही तरह नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम की बड़ी फैन हूँ। लगातार तीन साल से मैं इस वेबसाइट पर हॉट सेक्स कहानियां पढ़ रही हूँ। और सच पूछिए तो मैं और किसी दूसरी वेबसाइट पर नहीं जाती हूँ।


कहानियां पढ़ने चस्का तो बहुत पहले से था पर चुदाई का चस्का छह महीने से लगा है जब से मेरी शादी फिक्स हुई थी। तभी से चुद रही हु कभी पार्क में कभी होटल में कभी कैफ़े में. दोस्तों अब तो आदत हो गई है बिना चुदे मन लगता ही नहीं है। मैं भी एक नंबर की चुड़क्कड़ हो गई हूँ पति भी ऐसा ही मिला वो भी मौक़ा देखता है और जब भी मौक़ा मिलता है अपना लौड़ा मेरी चूत में घुसा देता है। चाहे वो किचन हो चाहे बालकनी चाहे बैडरूम का कोना या छत हो। वो मुझे सभी जगह चोद चूका है।

जैसा की आपको पहले ही बता चुकी हूँ मैं कल ही अपने भाई से चुदी हूँ कैसे वो अब बताने जा रही हूँ। दोस्तों असल में हुआ ऐसे की मैं अपने ससुराल में थी। मेरा भाई मुझे वापस लेने आया था क्यों की शादी के बाद पहली बार मायके जा रही थी। मुझे रात को ही मायके के लिए निकलना था। और मेरे पति शाम पांच बजे से ही लगे हुए थे की जाते जाते चोद लूँ। मैं भी चाहती थी आज शाम को मेरी चूत की गर्मी थोड़ी शांत हो जाये। पता नहीं कितने दिन बाद फिर लौड़े नसीब होंगे मैं खूब भी चुदना चाह रही थी। तो मेरी सास ससुर और मेरे पति तीनो बाजार जाने वाले थे मेरे लिए कपडे वगैरह लाने के लिए। तो पति देव को लग रहा था बाजार जाने से पहले भी एक बार चुद लूँ।

कामुक और हॉट सेक्स कहानी  ससुर ने जबरदस्ती चिकनी चूत में लंड घुसाकर चोद डाला

इसलिए वो मुझे बार बार सीढ़ियों के पास निचे बुला रहे थे पर मैं नहीं जा पा रही थी। क्यों की कोई ना कोई आ जा रहा था। पर तभी लाइट चली गई और सीढ़ियों के पास से आवाज आई एक मिनट आना। मैं समझ गई की वो मुझे बुला रहे हैं। मैं भागकर गई मुझे भी लगा मौक़ा है। मैं उस समय मैक्सी पहनी थी। तुरंत मैंने अपनी पेंटी उतारी और भागकर वह गई और तुरंत ही सीढ़ियों के पास पहुंच गई वो कुर्सी पर बैठे थे। मैं झट से पहुंच कर अपनी नाईटी ऊपर कर दी और बोली जल्दी जल्दी चोद लो।

पर वो तुरंत लौड़ा नहीं निकाल रहे थे मैं बोली वक्त नहीं है जल्दी चोदो कोई आ जाएगा। तभी उन्होंने अपना लौड़ा निकला और मैं लौड़े को चूत में सेट की और बैठ गई। और ऊपर निचे कर चुदने लगी। दोस्तों मुझे थोड़ा अलग लगा क्यों की ये लौड़ा मुझे ज्यादा मोटा और लंबा लग रहा था मैं बोली क्या बात है जी आपने तो पहले कभी अपना लौड़ा इतना मोटा और लंबा नहीं किया था जब मैं जा रही हूँ तब आप मुझे अपना लौड़ा मोटा कर के दिखा रहे थे क्यों ललचा रहे हो।

तभी वो रुक गया मैं मुड़कर देखि आखिर वो क्यों रूठ गया। तो देखि वो मेरा पति नहीं बल्कि मेरा भाई था। मेरा भाई मेरे से एक साल छोटा है। मैं समझ गई मैं पति सोचकर भाई से चुदवा चुकी थी मैं बोली तुमने क्यों नहीं बोला की तुम हो। मुझे तो लगा राजीव है। तो वो बोलै जीजा और मम्मी पापा तीनो मार्किट गए हैं। तो मैं बोली तुम तो उनके साथ ही जाने वाले थे तो वो बोला की बाबूजी बोले कीआप घर पर ही रहिये अपनी बहन से बातचीत करिये दो घंटे में आ जाऊंगा। तभी मैं तुम्हे बुला रहा था। सोचा तुमसे बात चीत करूँ तुम्हे ससुराल कैसा लगा.

मुझे सारा माजरा समझ आ गया था। गलती इसमें किसी की भी नहीं है। मैं तो सोच रही थी मेरा पति होगा पर भाई निकला। और कोई औरत जब अपना गांड दिखाकर और चूत दिखाकर और खोल के दे तो कोई भी चोद देगा। ऐसा ही मेरे साथ भी हुआ था। मैं खुद ही खोल कर दी और बोली जल्दी घुसा तो उसने वही किया जो उसे करना था। पर अब जो होना था हो गया। उस समय मेरे मन में भी कोई शिकायत नहीं था और उसमे तो थोड़ा भी शिकायत नहीं था।

कामुक और हॉट सेक्स कहानी  मैंने अपनी दीदी को प्रेग्नेंट किया मैं बाप बनने वाला हूँ वो माँ

वो तो और खड़ा होकर अपना लौड़ा हाथ में लेकर आगे पीछे कर रहा था। यानी तो पूरी तरह से फिर से चोदने को तैयार था। मैं बोली चल जो हो गया सो हो गया अब तुम चोद ही दिया तो कर भी चोद ही ले। मैं बोली ठहर मैं मेन गेट बंद कर के आती हूँ। मैं दरवाजा बंद की और तुरंत ही वापस आकर भाई के गले में लिपट गई।

उसने तुरंत ही मेरे बूब्स को पकड़ लिया और फिर नाइटी खोल दी। और बूब्स को पीने लगा। मैं उसके बाल को सहलाती हुई चूचियां पीला रही थी। वो बड़े सेक्सी तरीके से निप्पल खींच रहा था। गोल गोल सुडौल चूचियां पाकर शायद वो धन्य हो गया था। वो मेरे होठ को चूसने लगा मैं भी उसके होठ को चूसने लगी। वो अपना जीभ मेरे मुँह में डाल दिया। जब वो अपना जीभ मेरे मुँह से निकालता तो मैं अपना डालती और जब मैं निकालती तो वो मेरे मुँह में जीभ डालता।

फिर हम दोनों बेड पर चले गए और मैं उसका लौड़ा निकाल कर चूसने लगी। बड़ा मोटा लौड़ा देखकर मैं दंग थी। पहले से सोच रही थी पति का ही लौड़ा मोटा होगा पर ऐसा नहीं था उससे भी ज्यादा मोटा लौड़ा मेरे भाई का था। दोस्तों फिर मैं निचे लेट गई वो मेरी चुत को चाटने लगा। मैं सिसकारियां ले रही थी अंगड़ाइयां ले रही थी। मेरे तन बदन में आग लगी हुई थी। मैं अपना पैर फैला दी।

वो मेरी चूत पर अपना लौड़ा सेट किया और फिर जोर जोर से पेलने लगा. मैं आह आह आह कर रही थी। वो मुझे चोद रहा था। मेरी चूचियों को मेरे होठ को मेरी गर्दन को काट रहा था और जोर जोर से चूत में धक्के दे रहा था। दोस्तों मैं खुश हो रही थी चलो अब जहाँ भी रहूं मुझे लौड़ा मिलते रहेगा. और करीब एक घंटे तक वो मुझे चोदा कभी आगे से कभी पीछे से कभी खड़ा करके कभी डॉगी स्टाइल में। दोस्तों हम् दोनों ने खूब मजे लिए एक घंटे तक।

कामुक और हॉट सेक्स कहानी  पति ने ही रंडी बनाया मुझे दिल्ली लाकर

फिर जब दोनों शांत हुए तो अपने अपने कपडे पहन लिए और फिर चाय बनाने चली गई। दोस्तों आज ये कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर मायके पहुंच कर लिख रही हूँ। अभी आधे घंटे में मेरा भाई आने वाला है वो अपने साथी के साथ पार्टी करने गया है पता नहीं रात को आज मेरे से क्या करेगा पर जो भी करेगा मुझे बहुत पसंद आएगा. जो भी होगा मैं कल आपको इसी वेबसाइट पर बताउंगी तब तक के लिए धन्यवाद।