पहली बार जब कॉल गर्ल बनकर अपने कस्टमर के पास गई थी

पहली बार जब कॉल गर्ल बनकर अपने कस्टमर के पास गई थी। एक साधारण सी लड़की जिसने कभी किसी को छुआ तक नहीं था। और एक दिन वह कॉल गर्ल बंद कर होटल में एक आदमी से सेक्स करने गई थी। शायद आपने कभी सोचा नहीं होगा। जब एक लड़की कॉल गर्ल बनते हैं यानी कि सीधा अगर मैं कहूं तो एक लड़की जब रंडी बनती है। तो पहला दिन उसके लिए कैसा होता है. क्या महसूस होता है उसको कैसा लगता है उसको कभी आपने सोचा नहीं सोचा तो आज मैं आपको नॉनवेज story.com पर अपनी पूरी कहानी बताने जा रही हूं। के कॉल गर्ल के लिए पहला दिन कैसा रहता है।

पहले मैं आपको यह बता देती हूं दोस्तों कि मैं कौन हूं और मैं कॉल गर्ल क्यों बनी थी। हर एक इंसान की जिंदगी में कुछ ना कुछ मजबूरियां होती है। अगर मजबूरी नहीं हो तो इंसान कभी गलत रास्ते पर नहीं चलता है। गलत रास्ते ही जिंदगी को खराब करती है दोस्तों। पर कई बार जिंदगी अभी बस्ती है गलत रास्ता अपनाकर। अब कोई कॉल गर्ल बनता है। क्यों क्या आपने वजह जानने की कोशिश की। मजबूरी करवाती है कोई लड़की या कोई औरत भी नहीं चाहती है कि वह एक कॉलगर्ल बने वह दूसरे लोगों की बिस्तर को गर्म करें। पर हालात ऐसा हो जाता है मजबूरी ऐसी हो जाती है जिससे उस लड़के को औरत को यह काम करने के लिए मजबूर होना पड़ता है।

मेरा नाम उर्वशी है मैं 23 साल की हूं मैं दिल्ली में रहती हूं और मैं कॉलेज में पढ़ती हूं। मेरे मां-बाप मुझे दिल्ली भेजे थे पढ़ने के लिए। क्योंकि मैं पढ़ने में बहुत तेज थी। परिवार को लगाकर एक ही लड़की है उसको अगर हम अच्छे से पढ़ा लिखा दे तो इसकी जिंदगी तो बन जाएगी परिवार की जिंदगी भी बन जाएगी। इकलौती संतान हूं अपने मां-बाप की। जब मैंने इंटरमीडिएट की पढ़ाई पूरी की थी गांव के स्कूल से, तो मम्मी पापा मुझे दिल्ली भेज दिए पढ़ने के लिए क्योंकि मेरा एडमिशन दिल्ली यूनिवर्सिटी में हो गया था। दिल्ली यूनिवर्सिटी के पास में ही एक जगह है मॉडल टाउन मैं वही रहती थी। हर एक मैंने पापा पैसा भेज देते थे और मैं पढ़ाई में मन लगा दी थी। मैं कभी भी गलत संगत में नहीं रही थी मैं सिर्फ अपने पढ़ाई पर ही ध्यान देती थी।

बात 2020 की है करोना बीमारी में मेरे पापा नहीं रहे। मां एक हाउसवाइफ है ना हमारे पास कोई खानदानी पैसा है ना तो ऐसा कोई व्यापार ना तो बहुत ज्यादा जमीन। पापा ठेकेदारी करके पैसे कमा लेते थे तो हम लोगों का भरण पोषण अच्छे से हो जाता था। पर जब वह नहीं रहे तो खाने के लाले पड़ने लगे दोस्तों। दो-तीन महीने तो मैंने किसी तरीके से चला ली क्योंकि कुछ पैसे मेरे पास थे। पर जब मेरे सारे पैसे खत्म हो गए तो मैं अपने जब दोस्तों से मांगने लगी पैसे तो कोई कितना दिन तक देगा आपको साफ-साफ मना कर दिया। सबको पता चल गया कि अगर किसी से मैंने अगर पैसे ले लिया तो शायद वापस मैं नहीं करूंगी।

मेरी एक दोस्त है जो कि नेपाल की रहने वाली है वह भी मेरे बगल के कमरे में ही रहती है। उसने एक दिन मुझे बुलाकर पूछा कि तुम आगे कैसे खर्चा चलाओगे क्या करोगी तुम्हारे पास तो पैसे नहीं है। पापा भी नहीं रहे। जो हालात तुम्हारी है सेम हालात मेरी भी है। 4 महीना हो गया घर से पैसे नहीं आए क्योंकि मेरे साथ भी सेम समस्या है। तो मैंने उसको पूछा कि फिर तुम खर्चा कैसे चलाओगे क्या करोगे तुम।

उसने कहा अब कुछ नहीं अपने शरीर को भेज रही हूं संडे को कॉल गर्ल का काम करते हो और बाकी के 7 दिन पढ़ाई करती हूँ। मुझे लगा अगर मैं कोई बॉयफ्रेंड बनाती, तो हो सकता उसके साथ हमें सोना पड़ता मैं उसके साथ नहीं सोकर किसी गैर के साथ सो लेती हूं जो मुझे जानता भी नहीं है ना आगे कभी जाने का और इसके बदले मुझे भी देगा मेरे दुख दर्द खत्म हो जाएंगे मेरे पढ़ाई भी अच्छे से चलेगी मेरी मां जो गांव में रहते हैं उसको भी पैसे भेज पाऊंगी। यह सब सोचकर मैंने अपने नेपालन दोस्तों से बोली कि मैं भी करूंगी।

वह बोले ठीक है मेरे दीदी है वही मालकिन है उसके लोग और हैं जो कि ग्राहक को ढूंढते हैं और फिर हम लोग को भेजते हैं। हम लोग छोटे-छोटे होटल में नहीं जाते हम लोग पांच सितारा होटल में ही जाकर धंधा करते हैं। क्योंकि वहां पर धंधा करना सेफ होता है किसी तरीके का कोई दिक्कत नहीं होता। मेरे दोस्त ने अपनी दीदी से बात कर मेरे बारे में सारे कुछ बताया तो उसकी दीदी बोली ठीक है। मैं टिकट बनवा देता हूं तुम जयपुर चले जाना शनिवार शाम को सुबह नई दिल्ली में स्टेशन पर मैं मिलूंगी मैं सारे काम तुम्हें समझा दूंगी। और तुम मेरे लिए काम करना सप्ताह में एक दिन जाना और उसके बदले तुम्हें मैं अच्छे पैसे दूंगी।

शनिवार को सुबह 7:40 पर शायद मेरी ट्रेन थे जो जयपुर जाती थी। वह दीदी मुझे स्टेशन पर ही मिली थी पर सिर्फ मुझे काम समझाने के लिए आई थी। वह बोले कि फैक्ट्री 50% पर अभी तुमको काम करना पड़ेगा और जो खर्चे लगेंगे जाने का आने का रहने का उसका सब का इंतजाम मैं खुद करूंगी। खर्चे जो होंगे उसको काट के। आधे आधे पैसे हम दोनों ले लेंगे मुझे कोई दिक्कत नहीं था दोस्तों मुझे काम मिल रहा था यही बड़ी बात थी।

जब मैं जयपुर स्टेशन उतरे तो वहां पर एक आदमी हमको लेने के लिए आया था वह एक छोटा सा गेस्ट हाउस था जहां पर मुझे ठहरा दिया। और उसने कहा कि शाम को मैं 8:00 बजे आऊंगा तो वह गाड़ी लेकर और फिर उस होटल में छोड़ आऊंगा जहां पर दीदी बोलेगी। दोस्तों मुझे सिर्फ अपने ग्राहक तक पहुंचना था। सारा काम यह जो हमको लेने आया था स्टेशन पर वही कर रहा था और दिल्ली से दीदी कर रही थी। मेरे बुकिंग हो गई थी मैंने अपना फोटो भेजा था एक सेक्सी फोटो जिससे मेरे क्लाइंट को पसंद आ गया और मुझे बुलाया गया था।

मैं होटल का नाम यहां पर नहीं बताऊंगी। मैं होटल 8:30 बजे पहुंच गई कमरा नंबर बताया गया था। पर मुझे वह कस्टमर नीचे आ गया था लेने के लिए कार में ही क्योंकि उसको पैसे देने थे और वह पैसे वह भैया ले गए पुरे। मुझे सिर्फ कस्टमर के साथ जाना था अरे भैया बोल दिए कि काम हो जाएगा तो तुम मुझे फोन कर देना यह मेरा नंबर है मैं तुम्हें फिर से आ जाऊंगा। मैं अपने साथ उसके होटल के कमरे में चली गई।

दीदी मुझे समझा दी थी कि जब भी तुम से मिलोगी तो पहले तुम अपने प्राइवेट पार्ट को अच्छे से धो लेना और अपने कस्टमर के भी प्राइवेट पार्ट को अच्छे से धो लेना। मैंने वही किया हम दोनों नंगे हो गए बाथरूम में जाकर मैंने उसको अच्छे से धोया अपने को भी धोया अपनी चुचियों को भी धोया। और फिर हम दोनों बेड पर आ गए। मेरा क्लाइंट शराब पीता था बहुत अमीर आदमी था करीब 45 साल का इंसान था। इज्जत से ही पेश आ रहा था। उसने मुझे भी ऑफर किया पी लो पर मैं मना कर देते। वह आदमी समझ गया कि शायद मैं इस काम में भी नहीं रही हूं क्योंकि कोई भी कॉल गर्ल या रंडी शराब को मना नहीं करते हैं वह जरूर पीती है।

मेरा क्लाइंट मुझे तुरंत पूछ बैठा कितना दिन से काम कर रही हो। पर मुझे सही बात नहीं बताने थे अपने क्लाइंट को इसलिए मैंने उसको बता दिया था कि 1 साल से कर रहे हूँ। मेरा क्लाइंट पहले दो तीन पेग ले लिया और फिर मेरे बदन को छूने लगा। मुझे गुदगुदी सी होने लगी थी दोस्तों क्योंकि ऐसा मेरे साथ पहले नहीं हुआ था एक दो बार मैंने पहले सेक्स की थी पर ऐसा सेक्स नहीं करी थी जिसमें अगला बिल्कुल अनजान हो। फिर उसने मेरे होंठ को छुआ और फिर किस करने लगा। मेरी चूचियां मीडियम साइज की है हाथ से उसने छुआ और बोला तुम्हारे चूचियां बहुत ही थे बहुत सेक्सी है। तुम बहुत सेक्सी हो बहुत सुंदर हो।

मेरे क्लाइंट केक फरमाइश थे कि मैं डांस करूं। डांस करना मुझे बहुत अच्छा लगता है दोस्तों तो मैंने तुरंत हां भी बोल दिया मेरा क्लाइंट दारू पीता रहा टीवी पर अच्छे गाने लगा देते डांस वाले। और मैं डांस करने लगे। मैं पहली बार नंगे होकर डांस कर रहे थे इसके पहले कभी मैं नंगे होकर डांस नहीं करी थी। मेरा क्लाइंट खुश हो रहा था, सेक्सी फिगर को देखकर। 15 मिनट में ही उसने मुझे अपने करी बुला लिया। और मेरे चूचियों को मसलते हुए मेरे गाल को छूते हुए मेरे गर्दन पर किस करने लगा फिर मेरे होंठ को चूसने लगा है।

जब वह छेड़ रहा था तो मुझे गुदगुदी हो रही थी और मैं भी कामुक होने लगी थी। मुझे भी अच्छा लगने लगा था उसने अपना लंड निकाल कर मुझे चूसने के लिए दिया। मैं बिना कुछ बोले उसका लंड पकड़ कर चूसने लगी। लैंड बहुत मोटा और लंबा था। मैं उसके लंड को मुंह में ले ले और चाटने लगी चूसने लगी. मेरा क्लाइंट बहुत खुश हो गया था। उसने बोला तुम बहुत अच्छी लड़की हो। फिर उसने मुझे नीचे लिटा दिया मेरे गांड के नीचे तकिया लगा दिया। अपना मोटा लंड मेरी चूत के छेद पर रखा। और जोर से घुसा दिया। पूरा लंड में चूत के अंदर समा गया। उसने कहा तेरी चूत तो भी काफी टाइट है तू तो जवान लड़की है। तुम ज्यादा चुदी हुई नहीं है। मैंने कितने लड़कियों को चोदा है कल को चोदा उसके साथ रात बिताई तुम एकदम टाइट हो।

और वह जोर जोर से धक्के देकर अपने लंड में चूत में डालने लगा। मैं भी जोश में आ गई। मैं भी अपनी वासना की आग को बुझाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। मैं भी अलग-अलग पोज में अपने क्लाइंट से चुदाई की। 1 घंटे तक वह मुझे पीछे से आगे से ऊपर से नीचे से हर एक तरीके से चोदता रहा। मेरे चुचियों के साथ खेलता रहा मेरे होंठ को चूसता रहा मेरे गांड को मेरे चूतड़ कोसेल आता रहा। 1 घंटे बाद वह निढाल हो गया। वह मेरे बगल में लेटा रहा मैं उसके बगल में लेटर चाहिए। उसके बाद वह मेरे से पूछा कि तुम कहां से हो कहां से आई हो। मैंने उसको बता दी मैं दिल्ली से आई हूं मैं झूठ नहीं बोल पाई।

उसने कहा मैं भी दिल्ली का ही रहने वाला हूं। मैं अशोक विहार में रहता हूं। हमें वह अच्छा इंसान लगा था दोस्तों इसलिए मैंने भी उसको बता दिया कि मैं मॉडल टाउन में रहती हूं। उस आदमी ने मुझे अपना फोन नंबर दिया और बोला कि तुम्हें जब लगे पैसे की जरूरत है। तो मुझे कॉल करना वही होटल बुक करेंगे और तुमको अच्छा खासा पैसे देंगे। पर दोस्तों मैंने पहले ही सोच लिया था कि मैं इसको प्रोफेशन नहीं बनाऊंगी ना किसी से बात करूंगी ना किसी को मैं अपना नंबर दूंगी। सप्ताह में 1 दिन यह काम करूंगी उसके बाद में कभी नहीं करूंगी।

उस इंसान को तो मैं वहां मना नहीं कर पाई और हां आज तक मैंने उसे कभी संपर्क नहीं किया। उसे एक रात के मुझे ₹25000 टोटल मिले थे जिसमें से ₹5000 आने-जाने का खर्च और रहने का लग गया था। ₹10000 दीदी के खाते में गया था और 10,000 मुझे मिला। पूरे महीने काम करने के बाद 50 से ₹100000 के बीच में कमा लेते हो और कोई दिक्कत नहीं है अच्छे से रहती हो मां का भी पालन पोषण अच्छे से हो रहा है उन का भरण पोषण अच्छे से हो रहा है और किसी तरीके से कोई कमी नहीं है। . मेरी जिंदगी भी खुशहाल है मेरी मां की जिंदगी भी खुशहाल है दोस्तों पढ़ लिख कर एक मैं अच्छा इंसान बनना चाहती हूं अब मैं कंपटीशन की तैयारी कर रहे हो अपना ध्यान पढ़ाई में लगा रही हूं।