पापा जी आपका बेटा नामर्द है उन्होंने कहा मैं हूँ ना फिर क्या किया उस रात जानिए मेरी सेक्स कहानी


Old Man Sex, Sasur Bahu ki Sex Kahani, Father in law and daughter in law sex story in Hindi : नामर्द पति सेक्स में कभी संतुष्ट नहीं कर सकता ना ही वो बच्चे का सुख दे सकता है। ये मेरी कहानी नहीं है ये मेरी ज़िंदगी की कड़वी सच्चाई है। आज मैं आपको अपनी इस सच्चाई से पर्दा उठा रही हूँ आपके सामने। मेरा बच्चा जो अभी हुआ है वो मेरे ससुर का बच्चा है। कई बार जो गलत होता है वो मज़बूरी में उठाया गया कदम होता है। आप किसी को अच्छा और बुरा नहीं कह सकते हैं वो परिस्थिति होती है मज़बूरी होती है गलत करने के लिए।


आज आप खुद समझने की कोशिश कीजिये मेरी गलती है या मेरे ससुर की या मेरे नामर्द पति की। अपनी पूरी बात आपके सामने रख रही हूँ। पर दोस्तों आपको एक बात और भी क्लियर कर देना चाहती हूँ की मैं सताई हुई नहीं हूँ माना की ससुर जी ने ऑफर किया पर मैं उस ऑफर को एक्सेप्ट की तो गलती सिर्फ उनकी नहीं है। पर हां किसी की भावनाओं से खेलकर तो आप किसी को भी चोद सकते हैं वही बात मेरे साथ भी हुआ है। आइए जानते हैं अपनी पूरी कहानी।

मेरा नाम मोना है मैं पचीस साल की हूँ। मैं बहुत ही हॉट और खूबसूरत हूँ। पढ़ी लिखी हूँ। मेरे पापा ही रईस खानदान से है मेरे पापा की दो शादी है मैं दूसरी की बेटी हूँ। मैं ही एकलौती बेटी हूँ। मेरे पापा ने अपने दोस्त के बेटे से मेरी शादी करवाई। मेरे ससुराल में मेरा पति ही एकलौता बेटा है एक बेटी है यानी मेरी ननद वो अमेरिका में बस गयी है अपने पति के साथ। मेरे ससुराल वाले बहुत अमीर हैं। उनकी सीमेंट की फैक्ट्री है चीनी की मिल है। एक पानीपत में कम्बल बनाने का कारखाना है। आप खुद अंदाजा लगाइये की मैं कैसे घर से हूँ और मेरी ससुराल कैसी है।


मैं शुरू से ही खर्चीली और घुमक्कड़ किस्म की लड़की हूँ। मुझे एन्जॉय करना बहुत पसंद है ससुराल में जब आई तो मुझे किसी चीज की रोक टोक नहीं हुआ मैं यहाँ भी बिंदास रहने लगी। पर एक चीज की जो कमी थी वो था मेरा पति। मेरा पति पति का सुख नहीं दे पा रहा था। वो मुझे चोद नहीं पा रहा था इसका कारन था उसका कार एक्सीडेंट। इस वजह से ही सब दिक्कत थी। उसका ब्रेन भी ज्यादा काम नहीं करने लगा था। पर कोई पकड़ नहीं पायेगा जैसा उसका व्यबहार है। मैं भी इसी में फंस गयी की लड़का अमीर है मैं और भी ज्यादा मस्ती करुँगी।

इसे भी पढ़ें  Dono Sister ki chudai ek saath maa papa ke absent me

पर लंड के बिना क्या मस्ती। उसने आजतक कभी मेरे कपडे नहीं उतारे थे। मैं खुद उसके सामने नंगी होकर जाती पर उसका लंड खड़ा नहीं होता था। मैं उसका लंड मुँह में लेती अपनी चूचियों में रगड़ती पर कुछ भी हाशिल नहीं हो रहा था। मैं उसको अपना दूध पिलाती नंगी सोती। नंगी डांस करती पर कोई फर्क नहीं पड़ता। एक दिन मैंने उसको कहा जब तुम मुझे चोद नहीं सकता तो मेरे से क्यों शादी किया। तो उसने कहा की तुम 15 हजार करोड़ की मालकिन होगी आगे चलकर। चाहे तो तुम मेरे से तलाक ले लो और किसी और से चुद्वाओ या तुम मेरे बाप से सेक्स सम्बन्ध बना लो। है रहोगी और किसी को कुछ पता भी नहीं चलेगा।

उसकी ये बात मेरे दिमाग में सेट हो गया कह तो सही रहा है ये पगला। ये चोद नहीं सकता ससुर तो चोद सकता है। अभी माँ बन जाती हूँ बूढ़ा बाद में मर जायेगा ये पागल ही है। तो मैं भी इतने बड़े साम्रज्य की मालकिन बनूँगी। ओह्ह्ह्हह सही कह गया। दूसरे दिन मेरे पति को वेलोर जाना था इलाज के लिए। घर में मैं भी बड़ा सा घर है 400 मीटर में बना हुआ। नौकर निचे सर्वेंट रूम में रहते है पापा जी यानी मेरे ससुर जी फर्स्ट फ्लोर पर रहते है मैं ऊपर रहती हूँ।

रात को मैं दो पेग पहले पी ली करीब ग्यारह बज रहे थे। फिर मैं जब नशे में आ गयी तब मैं अपने ससुर के कमरे में गयी। वो भी दारू पी रहे थे और टैब चला रहे थे एक नजर से चुपके से देखि तो वो अपने टेब में सेक्स कहानी पढ़ रहे थे नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर। मैं समझ गयी की बूढ़ा भी सेक्स कहानियां पढ़ने का मजे लेता है और इस वेबसाइट का फैन है। मैं समझ गयी फिर तो ये बहु की ही कहानी पढता होगा।


जैसे ही मुझे देखा बोला तुम क्या कर रही हो यहाँ ?


मैं बोली : आज आपसे बात करने आई हु। मैं आपको पोता नहीं दे सकती।

ससुर जी : क्यों ?


मैं : आपका बेटा मुझे चोद नहीं सकता वो नामर्द है।

ससुर : तो मैं दे देता हूँ बेटा।

इतना सुनकर मुझे ख़ुशी भी हुई और दुःख भी हुआ। खुसी इस बात की बात बन जाएगी और दुःख इस बात की की मैं एक बाप के उम्र की आदमी के साथ फंस रही हूँ पर आगे के लिए मेरा भविष्य अच्छा था इसलिए मैंने उनकी बात को मान लिया। मैं तभी उनको अपने कमरे में आमंत्रित की। वापस अपने कमरे में आकर अपने कपडे चेंज की एक लाल कलर की नाईटी जो मैं हनीमून पर खरीदी थी पर कोई फायदा नहीं हुआ था। आज उद्घाटन करने का मौक़ा मिल गया।

इसे भी पढ़ें  करवाचौथ में भाई ने पानी पिलाया मैं व्रत खोली और फिर रात भर चोदा

मैं अंदर कुछ नहीं पहनी थी साटन टाइप का नाईटी था तो अंदर के अंग दिखाई दे रहे थे। ऊपर से बाल खोल दी काजल लगा ली। हॉट लाल लाल कर ली और एक मदहोश करने वाली इत्र अपने बदन पर लगा ली। मेरा गोरा बदन चमक रहा था। ऐसा लग रहा था की आज ही मेरी सुहागरात है। तभी मेरे ससुर जी अंदर आ गए उन्होंने ही दरवाजा बंद किया। और मेरे नाइटी को खोलते हुए मेरे जिस्म को निहार रहे थे। ससुर जी मेरे अभी भी हॉट और जबरदस्त नहीं उम्र ही ज्यादा है पर चीज अभी जवान है।

उन्होंने मेरी नाईटी उतार दी और अपने नाइट गाउन उतार दिया। उन्होंने कमरे में मोमबत्ती जलाई और ट्यूब लाइट बंद किया। ओह्ह्ह्हह फील सुहागरात वाली ही था। उन्होंने दो हजार वाली गड्डी यानी की 2 लाख निकाल कर मेरे हाथ पर रख दिया और बोले काम एक हीरे की अंगूठी ले लेना। मैं खुश हो गयी। उन्होंने मेरे जिस्म को टटोलना शुरू किया और मेरे होठ को चूसने लगे। ओह्ह्ह्हह्ह पहली बार किसी मर्द ने मेरे जिस्म को छुआ था।

मैं बाग़ बाग़ हो गयी। मेरे अंग अंग फड़कने लगे अंगड़ाईयाँ लेने लगी। मेरे ससुर जी हौले हौले मेरे बूब्स को दबाते हुए मेरे होठ को चूस रहे थे। मैं अपना जीभ निकाली और अपने ससुर जी के मुँह में दे दी वो मेरे जीभ को चूसने लगे। वो गदगद हो गए उन्होंने कहा गजब की सेक्सी हो तुम। ओह्ह्ह्हह्हह आज तो खुश कर दी। ओह्ह्ह्हह्हह मजा आ गया। मैं बैठ गयी उनके लंड को पकड़ पर अपने मुँह में ले ली वो खड़े थे मैं बैठी थी।

उनका लंड बहुत मोटा और लम्बा था। मैं अपने मुँह में लेकर आईसक्रीम की तरह चूसने लगी। उन्होंने मुझे उठाया और पलंग पर लिटाया। वो निचे खड़े रहे मेरे दोनों पैरों को खींच पर अपने तरह लाये फिर दोनों पैरों को अलग अलग किया मेरे जाँघों को सहलाये और जीभ लगाए। फिर मेरी चूत पर हाथ फेरकर। चाटने लगे। वो निचे बैठ गए मेरी चूत उनके सामने पलंग पर थी वो निचे से ही चाट रहे थे और मैं पलंग पर लेट कर अपनी चूचियां दबाते हुए अपने होठ को दांत के नीच पीस रही थी।

इसे भी पढ़ें  पंजाबन भाभी और उनकी बहन की चुदाई एक साथ

मेरे पुरे शरीर में झनझनाहट हो रही थी। अंगड़ाइयां लेने लगी। मेरी चूत से पानी निकलने लगा। मैं जल्दी से जल्दी चुदना चाह रही थी। मैंने कहा दे दो अब अपना लंड मेरी प्यासी चूत में। उन्होंने भी ऐसा ही किया खड़े हो गए मेरी दोनों टांगो को अपने कंधे पर रखा और अपना लंड मेरी चूत पर रख कर दोनों हाथों से चूचियां दबाई और जोर से अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया। ओह्ह्ह्ह मजा आने लगा था वो अंदर बाहर करने लगे मैं मजे लेने लगी।

उन्होंने मुझे उस रात दो घंटे तक चोदा। मैंने बाद में पूछा भी आप इस उम्र में ऐसे कैसे चोद सकते हो। उन्होंने कहा मैं शिलाजीत खाता हूँ। और एक टेबलेट भी यूज़ करता हूँ चुदाई के लिए। मैंने पूछा क्या आपका और भी किसी के साथ सम्बन्ध है उन्होंने का अभी मेरे पास अठारह साल की तीन लड़कियां है जिसको मैं एक एक लाख सैलरी देता हूँ बदले में चुदाई करता हूँ। मुझे समझ आ गया बूढ़ा बहुत हरामी है पर मुझे क्या लेना।

उस दिन के बाद से मुझे दो टाइम चोदना शुरू किया तीनं महीने में ही गर्भवती हो गयी। फिर एक बेटे की माँ बन गयी। मेरा पति भी खुशः मैं भी खुश ससुर के दोनों ऊँगली घी में। मजे से कट रही है ज़िंदगी। इसकी का नाम है ज़िंदगी। खाओ पीओ मस्त मजे करो और ससुर से चुद्वाओ आजकल मेरा यही रूटीन है। एक बी एम् डब्लू गाडी मुझे गिफ्ट में मिला जब मैं लड़का पैदा की। आप खुद ही बताईये क्या गलती है मेरी और गलती है किसकी है। क्या गलत कर रही हूँ ? या मजे ले रही हूँ। आप भी सोचने पर मजबूर हो जायँगे।