सासु माँ ने बुलाया साले की बीवी को प्रेगनेंट करने

मेरा छोटा साला जिसकी शादी हुए 4 साल हो गए कोई बच्चा अभी तक पैदा नहीं हुआ मेरा साला पोलियो ग्रस्त है शायद यही वजह है कि वह अपनी पत्नी को चोद नहीं पाता है इस वजह से कोई बच्चा नहीं हुआ उसकी पत्नी प्रेग्नेंट नहीं हुई मेरा साला इकलौता बेटा है, सिर्फ एक बहन है जो मेरी बीवी है। मेरे ससुर इस दुनिया में नहीं है घर में मेरे साला उसकी पत्नी ज्योति और मेरी सासू मां रहती है ज्योति का मायका भी उतना अच्छा नहीं है क्योंकि वह खुद सौतेली मां के साथ रह कर आई है।

तो दोस्तों मजबूरी इंसान से कुछ भी करा लेता है ज्योति भी सोच रही है कि किसी तरीके से प्रेग्नेंट हो जाए ताकि उसकी जिंदगी सही हो जाए। मेरा साला भी यही सोचता है उसे लगता है कि अगर ज्योति मुझे छोड़ कर चली गई तो दुनिया में और मेरा कोई नहीं बचेगा बड़ी मुश्किल से शादी हुई थी शादी बचाना मेरे साले के लिए जरूरी है। इसलिए मेरा साला भी किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार है। यहां तक कि अपनी बीवी को मुझे सौंपने के लिए तैयार हो गया।

अब तो आपको समझ आ ही गया होगा कि एक औरत है उसको चुदवाने के लिए उसका पति उसकी मां और वह खुद तैयार है। मेरे सासू मां का दिमाग ऐसी चीजों में बहुत ज्यादा चलता है उनके पास हर एक चीजों का सलूशन है उनको काम निकालने आता है किससे कौन से काम करवाने हैं वह बड़े अच्छे तरीके से जानती है जब अपने खानदान और कुल की बात आई अपने बेटे की बात आई अपने भविष्य की बात आई तो उनका दिमाग चलने लगा और फिर उन्होंने मुझे फोन किया।

मैं मुंबई में रहता हूं सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करता हूं मेरे दो बच्चे हैं कभी कभार ही घर जाना होता है। हम लोग लखनऊ के रहने वाले हैं। और मेरा ससुराल इलाहाबाद है 1 दिन की बात है मेरे सासू मां का फोन आया, कि दामाद जी आपसे काम है आपकी मदद चाहिए आप 10 दिन के लिए यहां पर आएं मेरी वाइफ भी बोली कि चले जाएगी आजकल घर से ही तो काम हो रहा है मैं मुंबई में ही रह लेती हूं क्योंकि बच्चों की पढ़ाई का सवाल है आप चले जाइए आप देख लीजिए मम्मी को क्या दिक्कत है क्या परेशानी है वह सब आप हल कर दीजिए।

मैं इलाहाबाद के लिए ट्रेन पकड़ लिया जब मैं ससुराल पहुंचा तो मेरे साले साहब नहीं थे वह दिल्ली पहुंच गए अपने दोस्त के पास उनको पता था क्या होना है। घर में तो जब आपने वह बीवी को छोड़ेंगे तभी तो सब कुछ होगा मेरे ससुराल में साली की बीवी ज्योति और मेरी सासू मां दोनों थी शाम को 3:00 बजे ही पहुंच गए थे। रात को 8:00 बजे इस विषय पर बातचीत हुई सासू मां मुझे खुलकर सारी बात बता दी जगत ज्योति मां नहीं बन पाती है तो मेरे खानदान के लिए बहुत मुश्किल भरा समय आ जाएगा। आपको पता है आपका साला इतना सक्षम नहीं है। कि वह संतान पैदा कर सके इसलिए आप मेरी मदद कीजिए इसके लिए ज्योति भी तैयार है और आपका साला भी तैयार है।

मुझे थोड़ा सुनकर यह सब अटपटा सा लगा पर एक तरफ से ठीक भी लगा सासू मां जब हमें खुद अपनी बहू को सौंप रही है यानी कि एक मर्द को एक औरत मिल रहा हो चुदाई करने के लिए तो मर्द के लिए इससे बड़ी खुशी की क्या बात हो सकती है। दोस्तों मैंने सासू मां को बोला कि बाद में कोई दिक्कत तो नहीं होगा। उन्होंने कहा नहीं बेटा कोई दिक्कत नहीं होगा बस आप ज्योति का गोद भर दीजिए अपने साले को आप बाप बना दीजिए लोगों को क्या पता।

उसी समय ज्योति भी आ गई तो सासु मां बोल भी थी उसी के सामने कि ज्योति को कोई दिक्कत नहीं है मैंने ज्योति से बात कर लिया। मैंने भी ज्योति उसी समय पूछ लिया ज्योति आपको कोई दिक्कत तो नहीं है उन्होंने भी बोला नहीं मुझे कोई दिक्कत नहीं है ना मेरे पति को दिक्कत है सासू मां बोली आप दोनों यहां 10 दिन के लिए रहो मैं भी अपने मां को देखने जा रही हूं रात को 10:00 बजे ट्रेन है बेटा भी 10 दिन बाद आएगा मैं भी 10 दिन बाद आऊंगी।

सबसे हैरानी की बात तो यह है दोस्तों यह बात तो मेरी पत्नी को भी पता था। अब मेरे हाथ में लड्डू ही लड्डू, सासू मां का बैग तैयार था ऑटो में बैठी और स्टेशन चली गई रास्ता क्लियर। ज्योति बोली कि आप आराम कीजिए मैं भी आती हूं। मैं बेडरूम में चला गया और वहीं पर रिमोट लेकर टीवी में इधर-उधर चैनल को घुमा रहा था सोच रहा था कैसा नसीब सब को नहीं मिलता है आज मुझे मिला है ज्योति करीब आधे घंटे बाद कमरे में आ गई. दरवाजा बंद किया और मेरे सामने खड़ी हो गई।

ज्योति एक पतली दुबली सी लड़की खूबसूरत लड़की गोरी लंबे चेहरे पर हमेशा मुस्कान रहने वाला। बड़ी बड़ी गोल-गोल चूचियां, गुलाबी होठ, गर्दन लम्बी बाल लम्बे और काले काले। बहुत ही हॉट और सुन्दर महिला है। जो शयद आजतक चुदी नहीं थी। मैंने पहला प्रश्न यही किया की क्या आपको कभी साले साहब खुश किये की नहीं। उन्होंने कहा आजतक मैं सेक्स क्या होता है नहीं जानती। पर हां मेरी बूब्स खींच गया है निप्पल बड़े बड़े हो गए है। क्यों की आपका साला आजतक बूब्स को छोड़कर कुछ भी नहीं किया है।

वो सिर्फ चूचियों को दीवाना है खूब पीता है चूस चूस कर। और रही बा सेक्स की आजतक वो हाथ तक नहीं लगाया मेरी चूत और गांड पर। मैं हैरान हो गया। बताओ एक लड़की जो शादी कर के आई है उसको कुछ भी नहीं मिला। शायद ये गरीब घर की थी और कोई परिवार नहीं था। सौतेली माँ से ज्योति को कोई उम्मीद नहीं थी इस वजह से ऐसी ज़िंदगी जी रही थी। धन्य है मेरी सासु माँ जो की अपनी वहु के लिए ये सब सोची।

तभी ज्योति की आंख में आंसू आ गए मैं बेड से उठ खड़ा हुआ और उनको गले लगा लिया। मैंने कहा आज के बाद आपको कोई दिक्कत नहीं होगा वह सारी खुशियां मिलेगी जो आपको चाहिए जो आपको पति से नहीं मिल रहा है। वह मैं दूंगा आपको बाकी आपको किसी चीज की यहां पर कमी नहीं है ना धमकी ना दौलत की मेरे ससुर की बहुत संपत्ति है। उसकी आप मालकिन है पर बस आपको एक बच्चा हो जाए इससे आपकी जिंदगी और भी अच्छी हो जाएगी।

मैंने उनको अपनी बाहों में भर लिया और उनके होंठ को होते हुए मैंने उनके गाल पर किस कर लिया वह नजर झुका कर खड़े थे, ऐसा लग रहा था मुझे कहना चाह रही है कि मैंने पूरी तरीके से आप को सौंप दिया है। दोस्तों उस समय वह साड़ी पहनी हुई थी। मैंने साड़ी खींच दिया वह ब्लाउज पर और पेटीकोट पर आ गई। गजब की खूबसूरती दोस्तों पतली दुबली सी औरत लेकिन बड़ी-बड़ी चूचियां और गांड कीउभार बाहर की तरफ । मेरे से रहा नहीं गया दोस्तों मैंने गोद में उठा लिया।

बेड पर पटक कर ब्लाउज के हुक खोल दिया उनको उल्टा करके ब्रा का हुक खोलने लगा पर मेरे से कहीं मुंह खोलने में दिक्कत हो रही थी उन्होंने एक ही बार में ब्रा का हुक खोल कर अपने चूचियों को आजाद कर दिया हां दोस्तों जैसा वह बोली थी वैसा ही था उनके चूची पर दांत के निशान बने हुए थे निपल बड़े हो गए थे ऐसा लग रहा था एक मर्द का सारा कसर औरत के बूब्स पर ही उतरा था।

मैंने तुरंत पेटिकोट निकाल दी लाल कलर का पेंट पहने हुई थी उसको भी मैंने खोल दिया। चूत पर हल्के हल्के बाल थे टांग फैलाकर देखा तो चूत की सील अभी तक नहीं टूटी थी। रहा नहीं गया मैंने लंड निकाला औरत के छेद पर लगाकर घुसाने लगा ज्योति कराहने लगी क्योंकि उसको ज्यादा दर्द हो रहा था। क्योंकि शायद वह पहली बार ही चुद रहे थे इसके पहले वह कभी चुदी नहीं थी।

पर वह कामुक हो रही थी। वह अंगड़ाइयां ले रही थी सिसकारियां ले रही थी खुद के हाथों से वह अपने चुचियों को मसलने लगी। धीरे-धीरे करके लंड उनकी चूत में पूरा घुस गया। जोर से धक्का लगाया तीन चार बार फिर वह भी मजे लेने लगी। ऐसी चूत सब को नसीब नहीं होता है। जैसा कि मुझे मिला मैं ऐसा साला ना इसी तरह जैसा सास। मेरा नसीब बहुत अच्छा दोस्तों तभी मैं अपनी बीवी के अलावा भी किसी और को चोद रहा हूं।

मेरा मोटा लंड जैसे ही एक बंजर चूत के अंदर गया वहां पर हरियाली छा गई। गांड उठा उठा कर वह चुदवाने लगी मेरे से जोर-जोर से मैं लंड पेल रहा था और वह इसका मजे ले रहे थे।वह अपना दोनों पैर फैला दी और जोर जोर से धक्के मारने के लिए बोली मैं भी जोर जोर से पेलने लगा। फिर मैं तकिया उनके गांड के नीचे लगाया और जोर जोर से धक्के देने लगा वह दर्द से चीखने लगी। पर मुझे बहुत मजा आ रहा था दोस्तों जितना वह चीखती थी उतना मुझे मजा आता था।

पूरी रात रह रह कर उनको चोदता रहा। ज्योति भी अपनी वासना की आग को खूब बुझाई। अलग-अलग तरीके जैसे उनको अच्छा लगता था वैसे ही वह मुझे चोदने के लिए कहती थी और मैं भी वैसा ही करके उनको खुश कर रहा था। दोस्तों जो रात कभी भूलने वाली नहीं है सच बताऊं तो मेरे सुहागरात से भी अच्छी मेरे साले की बीवी के साथ में बीता हुआ रात था। सुबह 4:00 बजे तक मैंने तीन चार बार उसको चोद दिया। और फिर हम दोनों सो गए।

सुबह 8:00 बजे करीब मेरे सासू मां का फोन आया मैं उस समय सोया ही हुआ था उन्होंने मेरे से कहा क्या बात है दामाद जी पूरी रात जगे थे क्या। मैंने कहा आपने ही तो मुझे बुलाया है जागने के लिए पूरी रात तो आप क्या चाहते हैं मैं सो जाऊं। उन्होंने कहा नहीं नहीं आपको सोना नहीं है आपके पास 10 दिन का समय है जागने के लिए है और प्रेग्नेंट करने के लिए है। उम्मीद करती हूं इस 10 दिन में ही आप ज्योति को प्रेग्नेंट कर देंगे और अपने साले को बाप बना देंगे और मुझे दादी।

मैंने कहा आप चिंता मत करो मां जी आप यूं समझो कि आप दादी बन गए। आपकी बहू भी मेरे साथ खुश है। आप एक बच्चे की बात कर रही हो मैं तो चाहता हूं कि एक दर्जन पैदा करूं। सासू मां मुझे ठीक है मैं भी यही चाहती हूं कि तुम एक दर्जन बच्चे पैदा कर दो। 10 दिन तक मैंने ज्योति को खूब चोदा और 11 दिन मैं वापस मुंबई लौट गया उसी दिन सासू मां और मेरे साले भी इलाहाबाद पहुंच गए थे।

आपको हैरानी होगी मेरा साला बाप बन गया फिर से जाने वाला हूं ताकि मैं चाहता हूं कि मेरा साला फिर से बाप बन जाए। मैं दूसरी कहानी जल्दी ही नॉनवेज story.com पर लिखने वाला हूं तब तक के लिए शुक्रिया।