छोटे भाई को बेवकूफ बनाया और फिर क्या किया पढ़िए

loading...

Read Very hot sexy adult Bhai Bahan Sex Story, Brother Sister Sex Story, Chudai Bhai Bahan, Sex Kahani, Akeli Bahan Ki Chudai, Sex Kahani Hindi,

loading...

 हेलो दोस्तों मेरा नाम रश्मि है मैं 22 साल की हूं आज मैं आपको अपनी सच्ची सेक्स कहानी सुनाने जा रही हूं यह मेरी कहानी बस 3 महीने पुरानी है और आज तक चली आ रही है.  इस कहानी में मैं बताऊंगी कैसे मैंने अपने छोटे भाई को अपने जाल में फंसाए और उसे बेवकूफ बनाकर उससे सेक्स करवाया। आज तक उससे मैं चुदवा रही हूं। अब मैं पूरी कहानी आपको विस्तार से बताती हूं। 

 मेरे घर में हम दोनों के अलावा मम्मी और पापा रहते हैं वह दोनों बहुत बिजी रहते हैं उनका अपना काम है शोरूम है वह दोनों शोरूम में रहते हैं  या कई बार दो-तीन दिन के लिए बाहर भी चले जाते हैं माल लाने के लिए। तब हम दोनों भाई बहन ही घर में अकेले रहते हैं.

 मैं थोड़ी चुड़क्कड़ स्वभाव की हूं।  मुझे ब्लू फिल्म देखना बहुत पसंद है इंटरनेट पर मैं रंगीन कहानियां सेक्सी कहानियां नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ती हूं।  जब तक कहानियां पढ़ते हो तब तक मैं अपने बूब्स को सहलाती हूँ। और अपने चूत में ऊँगली करते रहते हैं यह करते मुझे बहुत अच्छा लगता है और जब से मुझे, लंड का चस्का लगा  तब से मुझे असली में अब रोज चाहिए होता है। 

 मेरा भाई जो मेरे से छोटा है।  हम लोग उसको बहुत प्यार करते हैं बट मेरा और उसका प्यार थोड़ा और अधिक बढ़ गया है।  बचपन से ही उसे गले लगाना अपने बीच पर चढ़ाना साथ खेलना घोड़ा घोड़ी खेलना वह आज तक चलते आ रहा है अक्सर घरों में ये खेल बंद हो जाता है।  पर मेरे यहां अभी तक यह चल ही रहा है। 1 दिन की बात है रात को मैं काफी कामुक हो गई थी मम्मी पापा दोनों अहमदावाद गए थे घर में हम दोनों अकेले थे ब्लू फिल्म देखी थी इस वजह से मुझे सेक्स करने का मन करने लगा था और करते क्या मैंने अपने भाई अजय को बोली अजय  मेरे पेट में बहुत दर्द कर रहा है मेरे छाती में भी बहुत दर्द कर रहा है ऐसा लगता है मैं नहीं दूंगी मैं दर्द से तड़प रही हूं मैं क्या करूं समझ नहीं आ रहा है रात के 12:00 बज गए हैं कहां जान क्या करूं अगर मेरी जान निकल गई तो, इतना सुनकर मेरा भाई काफी घबरा गया वह परेशान होने लगा मैं भी नाटक करने नदी के पेट में बहुत दर्द है।  तभी मैंने अपने टीशर्ट खोल दी नाटक करने लगी. मैं सिर्फ शार्ट और ब्रा में थी। धीरे-धीरे मैंने अपने ब्रा को भी खोल दे उसको बोलि, तुम मेरा पेट हौले हौले से दबाव ऐसा करने से दर्द में आराम मिल रहा है और वह वैसा ही करने लगा उसके बाद मैंने उसको बोला तुम छाती दबाओ, छाती दबाने लगा 5 मिनट तक दबाने के बाद मुझे ऐसा लगा उसका प्राइवेट पार्ट खड़ा हो रहा है उसका हथियार खड़ा हो गया और मैं भी यही चाह रही थी उसका हथियार खड़ा हो जाए.

 उसके बाद मैं बोली अजय क्या हुआ परेशान क्यों है.  तुमने मेरी मदद की अब थोड़ा दर्द खत्म हो गया है ऐसा लगता है मैं ठीक हो गई आज अगर तुम नहीं होते तो मेरा क्या हाल होता।  उसके बाद मैं उसे अपने गले से लगा ले गले से लगा मैं उसके होठ को चूमने लगी। धीरे धीरे वो मेरी चूचियों को सहलाने लगा और किस करने लगा उसके बाद उसने मेरे पेंट में हाथ घुसा दिया हाथ  घुसाते ही उसे एहसास हुआ। मेरी चूत काफी गीली हो गई थी। और काफी गर्म हो गया था चूत से गरम गरम पानी निकल रहा था उसने उंगली डाला और उंगली सटाक से अंदर चला गया। मेरे शरीर में भी गर्मी आ गई मेरा रोम रोम शहर दिया उसके बाद उसने हाथ निकाला और फिर मेरे चूचियों को जोर जोर से मसलने लगा।  मेरे मुंह से आह आह की आवाज निकलने लगी उसकी भी सिसकारियां आ रही थी हम दोनों एक दूसरे को मजे दे रहे थे। 

 मैंने अपने पेंट खोल दे उसके बाल को पकड़कर मैं अपने प्राइवेट पार्ट के पास ले गई और बोली कि चुसो इसको चाटो जितना चाट सकता है चाटो,  वह पागलों की तरह मेरे प्राइवेट पार्ट को चाटने लगा। उंगलियां घुसाने लगा जोर जोर से लगा गरम गरम पानी तो वह अपने जीभ से तुरंत चाट जाता। 

 उसका यह सब करना मुझे बहुत अच्छा लग रहा था मैं बोली अजय अब मेरे से बर्दाश्त नहीं हो रहा है मुझे तुम्हारा लंड चाहिए।  आज तुम मुझे खुश कर दे आज रात भर तू इतना सेक्स कर इतना सेक्स कर। कि मैं तेरी दीवानी हो जाऊं और घर का माल घर में रह जाए इससे और बढ़िया क्या हो सकता है फिर जैसे मर्जी तू मुझे चोदना रोज चोदना,  मैं मना नहीं करूंगी।

 इतना सुनकर अजय अपना लंड निकाल कर,  मेरे चूत पर सेट कर उसे जोर से धक्का दिया उसका पूरा का पूरा नाम इंच का लंड मेरी चूत  के अंदर चला गया। जोर जोर से धक्के देने लगा मैं आह आह करने लगी जोर जोर से धक्के जी नीचे से मैं धक्के देते दोनों तरफ से जब धक्के लग रहे थे तो दोनों के जिस्म में गर्मी दौड़ रही थी।  हम दोनों एक दूसरे को जितना खुश कर सकते थे कर रहे थे। 

 उसके बाद में अजय को नीचे की और मैं खुद ऊपर चली गई उसके बाद उसके ऊपर ऐसे रेंगने लगी,  मानो बिन पानी मछली। मेरी चूत की गर्मी शांत ही नहीं हो रही थी मैं काफी ज्यादा वाइल्ड हो गई थी पर वह भी कम नहीं था वह भी बहुत मेहनत कर रहा था मैं कह रही थी जोर से जोर से और जोर से। 

 अचानक वो शिथिल पड़ गया।  पर मेरी गर्मी अभी नहीं उतरी, उसका लंड  शांत हो गया था पर मैं अभी शांत नहीं हुई थी। मैं बोली अरे तुमने यह क्या कर दिया तुमने मुझे खुश नहीं किया मैं भी शांत नहीं हुई हूं मैं क्या करूं।  उसने मुझे गले लगाया और बोला दीदी यह मेरा पहला दिन था आपको निराश नहीं करूंगा ईश्वर आपको खुश कर दूंगा मुझे पता चल गया है कैसे करना है। 

 उसने सही बोला था दोस्तों दूसरे दिन उसने मेरी ऐसी चुदाई की जो मेरे लिए यादगार है।  हम दोनों भाई बहन एक दूसरे को अभी तक एक दूसरे को खुश करते आ रहे हैं। आशा करती हूं आप मेरी और कहानियां नॉन का छोरी डॉट कॉम पर आकर जरूर पड़ेंगे। 

loading...

Hindi Sex Story

Hindi Sex Stories: Free Hindi Sex Stories and Desi Chudai Ki Kahani, Best and the most popular Indian top site Nonveg Story, Hindi Sexy Story.