पहले मैं चुदी फिर मेरी बहन उसके बाद भाभी भैया से

ग्रुप सेक्स स्टोरी – Group sex kahani : मेरा नाम मुमताज है, मेरी बहन का नाम आमना और मेरी भाभी का नाम पूजा है। मेरी भाभी हिन्दू है। आज मैं आपको अपनी दोनों बहनो की और भाभी की चुदाई की कहानी आपको बताने जा रही हूँ। ये मेरी सच्ची कहानी है। हमारे घर के ऊपर वाले फ्लोर पर भैया रहते हैं उन्होंने हम तीनो को चोदते हैं। ये सब कैसे हुआ आपको नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम के माध्यम से सुनाने जा रही हूँ।

पहले मैं अपने परिवार के बारे में बता रही हूँ। मैं दिल्ली में किराये पर रहती हूँ ऐसे मैं बिजनौर उत्तर प्रदेश की रहने वाली हूँ। मेरे घर में मैं सबसे छोटी हूँ मेरी उम्र अठारह साल है. उसके बाद आमना जो मेरे से एक साल बड़ी है और मेरी भाभी जो 24 साल की है और मेरे भैया है। मेरी भाभी एक स्पा में काम करती है। और मेरे भैया का अपना सलून है दिल्ली में।

हम चारो दिल्ली में रहते हैं जिसमे मैं और आमना दोनों दिन में रहते है और भैया और भाभी दोनों रात को ही आते हैं काम करके। मेरे ऊपर वाले फ्लोर पर एक भैया अकेले रहते हैं। उनकी पत्नी भी है पर वो गाँव गई है शादी के चार महीने ही हुए है उनके। उनकी पत्नी प्रेग्नेंट हो गई तो वो गाँव चली गई। जब उनकी पत्नी यहाँ थी तभी से हम लोग उनके यहाँ आना जाना करते थे।

जब वो चली गई तब कभी कभी जाती थी। पर एक दिन उनके यहाँ इसलिए चली गई क्यों की वो बड़ा सा टीवी लाये थे। तो वो मुझे देखने बुलाया था। उस समय आमना का तबियत ख़राब था इसलिए वो हॉस्पिटल में एक दिन के लिए थे। तो घर में अकेली ही थी। दोपहर का समय था, मैं ऊपर गई तो उन्होंने अपना टीवी दिखाया। और फिर मैं वही कुर्शी पर बैठ गई। भैया देखने में बड़े ही हॉट हैं तो मेरा मन उनपर पहले से ही फ़िदा था। मैं चाहती थी की मेरी छूट की सील वही तोड़े। मैं उनसे चुदना चाहती थी।

गरमा गरम है ये  चाची की चुदाई : खूब चोदा जवान खूबसूरत चाची को

मैं उनको टकटकी लगाकर देख रही थी। तभी उनका नजर मेरे ऊपर पड़ गया वो समझ गए थे की मैं उनको ध्यान से देख रही थी। उन्होंने पूछा क्या देख रही थी तो मैंने कहा आपको देख रही थी आप बहुत ही सुन्दर है देखने में। वो बोले तुम भी तो सुन्दर हो। मैं बोली हां हु तो पर मुझे कोई देखता ही नहीं। मैं चाल चल दी। तो वो बोले मैं देख लेता हूँ। तो मैं बोली क्या क्या देखोगे। तो वो बोले तुम जो जो दिखाओगी।

अब लाइन मिल चुकी थी। वो समझ गए थे और मैं भी समझ गई थी वो क्या चाहते हैं। फिर क्या था मैं वही बैठी थी वो मेरे करीब आ गए। और मेरे होठ पर अपना ऊँगली फिराते हुए बोले। चाहिए? मैं बोली हां। उन्होंने हाथ पकड़ कर उठा लिया कुर्सी पर से और मुझे अपने में चिपका लिया। मैं उनकी पकड़ को महसूस कर कर रही थी। उन्होंने मेरी चूचियां दबाना शुरू कर दिया। मेरी चूचियां बड़ी बड़ी नहीं है अभी तो जवानी शुरू हुई है। तो निम्बू की तरह है वो निचोड़ रहे थे। मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था। मुझे बहुत ही ज्यादा गुदगुदी हो रही थी।

दोस्तों उसके बाद मैं उनके लंड को पकड़ ली। क्यों की मुझे लंड छूने का मन बहुत ही दिनों से था। उन्होंने अपना पेंट खोल दिया और मुझे पकड़ा दिया। मैं पकड़ते ही सिहर गई। मैं लजा गई। मैं अपना मुँह छिपा ली। उन्होंने मुझे पकड़ कर हिलाने के लिए कहा. मैं हिलाते रही फिर उन्होंने मुँह में लेने को कहा मैं मुँह में ली। बहुत ही अच्छा लग रहा था। पर मेरी चूत गीली हो गई थी। उन्होंने मुझे पलंग पर लिटा दिया। मैं लेट गई उन्होंने मेरे सलवार का नाडा खोल दिया और उतार दिया मैं अंदर कुछ भी नहीं पहनी थी इसलिए सलवार उतारते ही मेरी चूत का दीदार उनको हो गया.

गरमा गरम है ये  मंत्री ने मेरी बहन की बुर चोदी तो मैंने उसकी लड़की चोदकर हिसाब बराबर किया

उन्होंने अपना अपना लंड मेरी चूत के पास सटा दिया। मैं डर से आँख बंद कर ली। तकिया पकड़ ली। उन्होंने फिर मेरी समीज को ऊपर किया और मेरी नीबू को फिर से निचोड़ने लगे यानी मेरी छोटी छोटी चूचियां। फिर क्या था दोस्तों मैं तो सातवे आसमान में थी। उन्होंने लंड को एक दो बार आगे पीछे किया और मेरी चूत पर सेट किया और फिर जोर से घुसा दिया। मेरी चूत पहले से ही गीली थी। और लंड दोनों तरफ से रगड़ खाते हुए मेरी चूत में दाखिल हो गया।

दर्द तो किया पर मजा आने लगा चार पांच झटके के बाद से ही। उन्होंने जोर जोर से मेरी चुदाई शुरू कर दी. मेरी चूचियां दबाते हुए मेरे होठ को गाल को सहला रहे थे और जोर जोर से घुसा रहे थे लौड़ा। उसके बाद उन्होंने मुझे कुतिया के तरह बना दिया और फिर गांड के तरफ से वो मेरी चूत में लंड घुसाने लगे। मुझे दर्द हो रहा था पर मजा भी बहुत आ रहा था। उन्होंने गांड पर जोर जोर से थप्पड़ भी मार रहे थे और जोर जोर से मेरी चुदाई भी कर रहे थे।

करीब आधे घंटे तक उन्होंने चोदा मैं दो बार झड़ गई थी। रगड़ से दर्द कर रहा था और जलन हो रही थी। इसलिए मैंने उनको भी मना किया की आज के लिए इतना ही। फिर तो क्या था दोस्तों दूसरे दिन सुबह आठ बजे जैसे ही मेरे भैया भाभी गए मैं चुदने आ गई। तब तक आमना भी आ गई थी। आमना का तबियत अभी भी खराब था। पर मैं हमेशा ऊपर आ जाती थी कभी खड़े खड़े कभी लेट कर कैसे भी चुद कर आ जाती थी. धीरे धीरे आमना को समझ आ गया की मैं क्या करती हूँ। एक दिन वो नींद का बहाना बनाई और जैसे ही मैं ऊपर आकर अपने कपडे उतार कर लेटी थी और उन्होंने पहली बार ही घुसाया था। तभी वो आ गई। रेंज हाथ पकड़ ली चुदाई करते हुए।

गरमा गरम है ये  मेरे बॉयफ्रेंड ने मुझे मेरे ही कमरे पर आकर चोदा

पर डील यही हुआ था की मुझे भी चुदाई करवानी है नहीं तो सबको बोल दूंगी। तो आमना भी अब चुदने लगी। हम दोनों बहन बारी बारी से चुदाई करवाते थे। भैया अब टेबलेट खा कर चुदाई करते थे। क्यों की वो अब रोजाना दो लड़कियों को चोद रहे थे। फिर एक दिन दोनों बहन में झगड़ा हुआ और भाभी के सामने बात आ गई। वो बोली ठीक है मैं ऊपर जाकर बात करुँगी की कैसे मेरी दोनों ननद की चुदाई कर रहा है। उस दिन तो कुछ भी नहीं हुआ। भाभी किसी को नहीं बोली। दूसरे दिन हम दोनों बहन कही गए थे। जब वापस आये तो भाभी नहीं थी। उस दिन भाभी का छुट्टी था। वो घर पर थी पर वो घर पर नहीं मिली।

ऊपर जाकर देखि तो भाभी चुद रही थी। हम दोनों बहन अंदर चले गए और उनको अब रंगे हाथ पकड़ ली। उस दिन के बाद से हम तीनो ही उनसे चुदाई करवा रहे है। खूब मजे ले रही हूँ ज़िंदगी के। नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर मैं दूसरी कहानी जल्द ही लिखने वाली हूँ।