Home » Antarvasna Sex Stories » दिल्ली वाली भाभी दोपहर में रोजाना चुदवाती थी

दिल्ली वाली भाभी दोपहर में रोजाना चुदवाती थी

Delhi Bhabhi Sex Story : अगर आप भी अपने पत्नी को सेटिस्फाइड नहीं कर पा रहे हैं। आप ज्यादा बिजी रहते हैं। और आप बड़े शहर में रहते हैं। तो यह कहानी आपके लिए हैं और आप को सतर्क रहने के लिए। जो अपनी पत्नी को खुश कर देते हैं सेक्स के समय और खूब टाइम देते हैं घुमाते फिर आते हैं जरूरतों को पूरा करते हैं तो आपको चिंता की कोई बात नहीं। आज मैं आपको एक ऐसी कहानी सुनाने जा रहा हूं जो कि एक मेरी सच्ची कहानी है। आप हैरान हो जाएंगे एक औरत क्या चाहती है। और किस वजह से वह दूसरे मर्द के पास जाती है दूसरे लड़के के पास जाती है यह जानना आपको बहुत जरूरी है।

मैं बिना आपका समय खराब की तुरंत कहानी पर ही आता हूं। क्योंकि आपके मन में भी यह प्रश्न उठ रहा होगा यह कैसे हुआ था। दोस्तों मेरी जिंदगी का सबसे हसीन पलों में से एक पल यह भी है कि जब वह भाभी मेरे पास आती थी और मेरे सीने से चिपक कर मुझे चूमती थी प्यार करते थे और फिर मेरे से पूरी दुपहरी चुदवाती थी। कई लोगों की जिंदगी में है ऐसे अच्छी-अच्छी बातें आती रहती है। और जिनकी जिंदगी में ऐसा मौका मिलता है वह खुशनसीब ही होता है दोस्तों।

यह कहानी पिछले साल की है राज में लिख रहा हूं मैंने सोचा था कि यह राज ही रहने दूँ। पर मेरे से हो ना सका और आज मैं आपके सामने इस कहानी को बयां कर रहा हूं। उन्होंने मुझे कसम दिया था कि इस संबंध को कहीं ना बताऊं और राज ही रखूं पर मेरे से हो ना सका दोस्तों। तो आइए जानते हैं क्या क्या हुआ था।

मैं दिल्ली पढ़ने आया था कंपटीशन की तैयारी करने और रोहिणी में रहता था। एक कमरे किराए पर ले रखा था दोपहर को मैं 2:00 बजे घर आ जाता था। यानी कि अपने कमरे पर आ जाता था। और फिर घर पर ही पढ़ाई करते रहता था। आज तक मैंने कभी किसी को अपना गर्लफ्रेंड नहीं बनाया था। क्योंकि मैं थोड़ा पढ़ाकू किस्म का लड़का हूं। इस वजह से आज तक मैं बिना गर्लफ्रेंड के ही रह लिया था। पर जब से दिल्ली आया मुझे थोड़ा छूट मिला मैं सेक्स कहानियां पढ़ने लगा। नॉनवेज story.com मैं रोजाना पढ़ता हूं क्योंकि यहां पर बड़ी हॉट और सेक्सी कहानी होती है।

आपको पता है दोस्तों आदत बहुत बुरी चीज होती है मुझे भी इस वेबसाइट की आदत लग गई है। जब आप रोजाना सेक्स संबंधी किताबें पड़ेंगे कहानियां पढ़ेंगे तो आपको भी चुदाई करने का मन करेगा। औरतों को देखने का और लड़कियों को देखने का तरीका आपका बदल जाएगा। अगर आप वासना में हमेशा रहेंगे तो आपकी आंखें हमेशा औरतों के प्राइवेट पार्ट पर ही दिखेगा जाकर। आपको औरतों की चाल लड़कियों की चाल उसकी चूचियां उसके गांड यह सब आपको। देखने में अच्छा लगने लगेगा और आपके घर के आसपास जो भी सुंदर लड़की है औरत है उसको याद करके रात को आप मूठ जरूर मारेंगे।

गरमा गर्म सेक्स कहानी  चूत चाटने की मस्ती तीन सहेलियों की कहानी

जिस मकान में मैं किराए पर रहता था उसी मकान का जो छत था उसमें दो कमरे बने हुए थे और वहीं पर एक कपल रहता था। मैं उनको भैया और भाभी ही कहता था। भाभी बहुत खूबसूरत थी बहुत हॉट थी जवान गदराया हुआ बदन। मैं रोजाना हस्थमैथुन उन्हीं को सोच कर उन्हें को याद करके करता था तभी मैं सो पाता था दोस्त हूं। जब वह सीढ़ी से नीचे उतरते थी मेरे कमरे के सामने से ही जाती थी मैं हमेशा बाहर निकल जाता था और उनको उतरते चलते जरूर देखता था।

1 दिन की बात है दिन के 2:00 बजे थे। मेरा दरवाजा किसी ने नोक। मैं फटाफट दरवाजा खोला तो देखा वह भाभी खड़ी थी। उन्होंने मेरे से कहा मैं अंदर आ जाऊं। मैंने उनको आने का इशारा किया। वह आकर मेरे चारपाई पर बैठ गई। उन्होंने कहा दरवाजा बंद कर लो कोई देखेगा तो क्या कहेगा कि मैं यहां पर क्या कर रही हूं और भी किराएदार रहते हैं आप पर। मैंने तुरंत दरवाजा बंद कर दिया मुझे लगा कि वह कोई दिक्कत में है और मेरे से बात करने आई है थोड़ी घबराई हुई सी थी। मैंने पानी निकालने लगा उनको देने के लिए उन्होंने मना कर दिया।

वह कुछ बोलना चाह रही थी पर वह बोल नहीं पा रही थी मैं कुछ पूछ भी नहीं रहा था क्योंकि ऐसा लग रहा था कि अब ना तब वह बोल देगी उनके होंठ पर तो बता रही थी पर वह बाहर नहीं निकल रही थी। उन्होंने कांपते हुए होठों से बोली आपसे एक बात कहना चाहती हो। मैंने कहा भाभी बोलिए, उन्होंने कहा मैं आपके साथ सेक्स करना चाहती हूं। मैं घबरा गया दोस्तों। मुझे लगा कि यह क्या हो गया। आज तक मेरे साथ ऐसा कभी हुआ नहीं था ना कभी मैंने सोचा था हस्तमैथुन करना कहानियां पढ़ना मूवी देखना यह सब अलग बात है अगर कोई औरत साक्षात सामने आकर खड़ा हो जा और बोले कि मुझे चोदो। तो हैरानी तो होगी और डर तो लगेगा। . ऐसे भी घर वाले हमें बोल कर भेजे थे कि किसी चक्कर में मत हंसना किसी औरत के किसी लड़की के एकदम से बात मुझे याद आ गई कि मुझे नहीं फसना है. मैंने कहा भाभी मैं ऐसा नहीं कर सकता आपके साथ।

वह तुरंत ही चारपाई पर से उठ गई और बोली क्यों नहीं कर सकते मेरे साथ सेक्स। तुम्हें करना पड़ेगा मैं तुम्हें बहुत चाहती हूं मैं तो तुम्हारे लिए सपने में भी तैयार रहती हूं च के लिए। तुम मुझे खुश कर दो तुम मुझे वह दे दो जो मेरा पति नहीं दे पा रहा है। मेरा पति मुझे संतुष्ट नहीं कर पाता है। रोज रात को पी कर आता है और मुझे छोड़ कर सो जाता है। कभी-कभी छेड़ देता है जिससे मैं और ही पागल हो जाती हूं। और फिर ऐसे ही छोड़ देता है बिना कुछ किए हुए। मैं किस को बताऊं मैं क्या करूं मुझे बीमारी हो गई है चुदने की।

गरमा गर्म सेक्स कहानी  मामा ने मेरी हवस शांत की

घर में चुदाई के बारे में सोचते रहती हूँ। और उन्होंने मुझे पकड़ लिया अपनी बाहों में जकड़ लिया। मुझे चूमने लगी मेरा हाथ पकड़ कर वह अपने चूचियों पर रख दी। वह व्याकुल हो गई थी उनकी वासना भड़क गई थी। वह कहां पर ही थी उनके होंठ कहां पर है थे। उनकी आवाज लड़खड़ा रही थी। उनकी आंखें लाल लाल हो गई थी। गाल गुलाबी हो गया था। . बस वह एक ही रट लगा रखी थी पति मुझे चोद नहीं सकता पति मुझे चोद नहीं सकता। पहले तो मैं ठंडा पड़ गया था दोस्तों। फिर धीरे-धीरे जब वह मुझे छेड़ने लगी मुझे चूमने लगी मेरा हाथ उनके बूब्स पर गया एक दो बार मैंने उनको सह लाया तो मेरा लंड खड़ा होने लगा।

अब मेरे तरफ भी आग लग गई थी और उधर तो आग धधक रही थी। उन्होंने तुरंत ही अपना ब्लाउज का हुक खोला। और ब्रा खोल कर फेंक दिया। साड़ी ऐसी खींची जैसे कि। कभी पहनना ना हो उनको पेटिकोट खोल दी अपना पेंटी खोल दी। और मुझे अपने बाहों में ले ली उन्होंने। मेरा भी टी-शर्ट खुद ही उतार दिया मुझे चारपाई पर लिटा दिया। मेरे ऊपर चढ़ गई। मेरे लंड को पकड़ कर हिलाने लगी चूसने लगी।

अब वो लेट गई अपनी चुचियों को पकड़कर मुझे इशारा की मुंह में लेने के लिए मैंने तुरंत ही अपना मुंह खोला और उनकी चूचियों को अपने मुंह में ले लिया निप्पल को दांत से काटने लगा, वो ऐसी सिसकारियां लेने लगी दोस्तों क्या बताऊं मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता वहां का मंजर ऐसा हो गया था। मैं तुरंत उनके होंठ को उसने लगा पर मुझे सच बताऊं किस करने भी नहीं आ रहा था उन्होंने मुझे पकड़ा और अपना जीभ मेरे मुंह में डाल दिया और आप विश्वास नहीं करेंगे। अपनी जीभ को मेरे मुंह में अंदर-बाहर करने लगी. इससे मैं पागल हो गया दोस्तों।

अब वह अपने दोनों टांगों को अलग अलग कर दी और इशारा की चूत चाटने के लिए मैं नीचे हो गया दोनों पैरों को अलग अलग किया और अपने जीभ से उनके चूत को चाटने लगा। उनकी चूत बहुत रसीली थी गरम गरम और नमकीन पानी निकल रहा था बहुत मजा आने लगा था दोस्तों। . मेरा लंड बहुत मोटा और लंबा हो गया था। उन्होंने मेरा लंड को पकड़ ली और अपने चूत के पास ले गई और चूत के छेद पर रखकर धक्का देने के लिए बोली। मैंने पूरा का पूरा लंड एक बार में ही अंदर घुसा दिया। अब वह मेरे लंड को अंदर बाहर। अपनी गांड हिला हिला कर खुद ही करवाने लगी।

मैं भी जोर जोर से धक्के दे देकर उनको चोदने लगा। उनके होंठ सूख रहे थे वह खुद ही अपने जीभ को निकाल कर बार-बार होंठ को गीला कर रही थी। बड़ी बड़ी सॉलिड चूचियां देखकर मेरा मन मचलने लगता था और धक्के भी दे रहा था जोर जोर से और लंड को अंदर बाहर कर रहा था। वो आआह्ह्ह आआह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्हह्ह की आवाज निकालने लगी।

गरमा गर्म सेक्स कहानी  शराबी पति को सुलाकर मैं भैया से चुदवाती हूँ

वो काफी ज्यादा सेक्सी हो गई थी वह मुझे बार बार जोर से जोर से चोदने को कह रही थी। यह मेरी पहली चुदाई थी तो ज्यादा पता नहीं था कई बार मेरा लंड छटक जाता था इधर उधर। फिर से मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चचूत में लेती और फिर चुदवाती। करीब 45 मिनट तक हम दोनों एक दूसरे को खुश कर रहे थे अलग अलग तरीके से अलग-अलग स्टाइल में स्टाइल तो मुझे पता नहीं था दोस्तों वह भाभी ही मुझे बता रही थी आगे से लो पीछे से लो ऊपर से लो नीचे से लो। जैसा जैसा वह कह रहे थे वैसा वैसा मैं कर रहा था। फिर वह 1 लंबी अंगड़ाइयां ली और शांत हो गई। मैं भी झड़ गया और शांत हो गया।

उसके बाद वह मुझे बताई, अपनी पूरी कहानी। कि मैं बहुत पहले से तुम से सेक्स करना चाहती थी पर कह नहीं पा रही थी आजकल के मर्द औरतों को खुश नहीं कर पा रहा है वह ज्यादा कर्जा उतारने में रहता है कमाने में रहता है पर यह भूल जाता है कि घर में उसकी बीवी संतुष्ट नहीं है। यह बात तो कोई भी पत्नी अपने पति से नहीं बोलेगी कि मैं संतुष्ट नहीं हूं। यह तो मर्द को ही समझना चाहिए। मैंने पूछा भी भाभी इसके पहले भी आपने किसी से सेक्स किया है। उन्होंने कहा नहीं पर हां अगर तुम नहीं मिलते तो किसी और से सेक्स करवाती।

मैंने पूछा क्या सभी औरतें ऐसा करवाते हैं जो संतुष्ट नहीं हो पाती है। उन्होंने कहा हां मेरी 4 सहेलियां है उनमें से 3 सहेलियां किसी न किसी से सेक्स करवाती है क्योंकि उसका पति उसको कुछ नहीं कर पाता है। भाभी बोली कि मैक्सिमम महिलाएं बाहर मुंह मारती है जिसका पति उसको खुश नहीं कर पाता है ध्यान नहीं देता है जरूरत को पूरा नहीं कर पाता है और खास कर दिल्ली में।

सब लोग फ्लैट में रहते हैं अलग-अलग कमरे में रहते हैं तो एक दूसरे के घर जाना और पटाना बड़ा आसान हो जाता है। यह गांव नहीं है यह शहर है यहां पर कौन किसके घर जा रहा है क्यों जा रहा है किसी को कुछ नहीं पता मैं कोई बोलने वाला ना तो कोई कुछ कहने वाला। मैक्सिमम महिलाएं जिसका पति संतुष्ट नहीं कर पा रहा है उसकी पत्नी बाहर तो चुदवा रही होती है।

उनकी बातों को सुनकर मैं हैरान हो गया दोस्तों। मैं उसी समय सोच लिया कि मैं कभी भी अपनी पत्नी को ऐसे नहीं छोडूंगा। उसको मैं खुश करूंगा उसकी जरूरतों को पूरा करूंगा उसको खुश करने की कोशिश करूंगा ताकि वह मेरे साथ रहे मेरे अलावा किसी के साथ वह सेक्स नहीं करें।