मम्मी को चुदते देख मेरी चूत में भी पानी आ गया


आज मैं आपको अपनी मम्मी की सेक्स कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर लिख रही हूँ। जब आप नींद से जागो और पापा के कमरे में से किसी और की आवाज आ रहे हो और फिर मम्मी की भी आवाज आ रही हो चोदने के तो आप क्या करोगे? रात को 1:00 बजे जब मैं नींद खुलती है, मैं बाथरूम जाती हूं और जाते हुए मैं मम्मी के कमरे में देखती हूं कि मम्मी को जान पहचान के अंकल चोद रहे हो। और मम्मी भी उस अंकल को अपनी बाहों में जकड़ रखी थी और अपने चूचियां अंकल के मुंह में दे रहे थे और कह रही थी चुसो। और मम्मी अंकल से वाइल्ड तरीके से चुदवा रही थी।


अब मैं सीधे कहानी पर आती हूं। मेरा नाम आकांक्षा है मैं अभी 19 साल की हूं और मेरी मम्मी की उम्र 38 साल है। पापा का एक दोस्त है जिनका नाम मनोज है। मनोज अंकल हमेशा घर पर आते हैं पापा के साथ शराब पीते हैं तो देर रात तक घर जाते हैं। मम्मी हमेशा मनोज अंकल की बड़ाई करते रहते हैं। और यह बात पापा को बिल्कुल भी पसंद नहीं है कि मम्मी किसी और मर्द के बारे में बात करें। इस वजह से कई बार मैंने मम्मी और पापा को झगड़ा करते हुए भी देखा है और वह भी सिर्फ मनोज अंकल के लिए।

असल में मनोज अंकल पापा के सीनियर हैं ऑफिस में और दोस्त भी हैं। मनोज अंकल देखने में बहुत ही हॉट और सेक्सी है उनकी शादी हो गई है पर उनकी बीवी उनके साथ नहीं रहती है। एक बार मनोज अंकल और उनकी बीवी में काफी ज्यादा झगड़ा हो गया था और उस दिन वह घर छोड़ कर चली गई और वह अब अपने पुराने आशिक के साथ लिव इन रिलेशन में रहती है। इस वजह से मनोज अंकल अकेले ही रहते हैं जब मर्जी होता घर जाते हैं कभी मेरे हैं खाना खा लिया कभी बाहर खाना खा लिया उनकी जिंदगी बस यूं ही चल रही है। शराब पीते हैं खाना खाते हैं पैसे उड़ाते हैं पैसे भी बहुत ज्यादा कमाते हैं।


यह तो मुझे पहले से ही पता था कि मम्मी अंकल को पसंद करते हैं और अंकल भी मम्मी को पसंद करते हैं। पर कभी मुझे यह नहीं पता था कि बात इतनी बढ़ जाएगी। और पापा के बेड पर अंकल आ जाएंगे और मम्मी बगल में रंगरेलियां मनाएगी। असल में उस दिन हुआ यूं था कि पापा अपने ऑफिस काम के सिलसिले से शहर से बाहर गए हुए थे 2 दिन के लिए। शाम के 8:00 बजे हैं मम्मी और मैंने दोनों ने खाना खा लिया मैं अपने कमरे में चली गई क्योंकि मैं रात भर जागी हुई थी। क्योंकि मुझे प्रोजेक्ट बनाने थे इस वजह से इसलिए मुझे जल्दी नींद आ गई और मैं 10:00 बजे ही सो गई।

इसे भी पढ़ें  लूडो खेलते खेलते चोद दिया भैया ने मेरी सच्ची कहानी

जब मेरी नींद खुली बाथरूम जाने के लिए उस समय करीब रात के 1:00 बज रहे थे मम्मी के कमरे से आह आह की आवाज आ रही थी पहले तो मुझे लगा कि मम्मी की तबीयत खराब है इस वजह से वह कराह रही है। मैं डर गई थी मैं भागकर थोड़ा उनके कमरे के पास गई तो मजा ही कुछ और था वहां पर बात ही कुछ और हो रहा था। मनोज अंकल मम्मी को नंगा करके दोनों पैरों को फैलाकर बीच में लंड रखकर अंदर बाहर अंदर बाहर कर रहे थे। मम्मी की बड़ी-बड़ी चूचियां बड़ी ही मस्त लग रही थी अंकल कभी उसको पी रहे थे कभी मम्मी बुला रही थी और कभी दबोच रहे थे।

मम्मी की चौड़ी गांड पर जोर जोर से थप्पड़ मारते थे और उनकी चूत में अपना मोटा लंड घुसाते थे। मुझे यह सब देखना बहुत अच्छा लग रहा था क्योंकि मेरे अंदर खुद ही वासना जाग रही थी। मैंने कभी किसी के साथ सेक्स नहीं किया है पर आज देख कर बहुत मजा लग रहा था। मैं सिर्फ नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर कहानियां पढ़ती हूं और अपनी चूत को सहला देता हूं और अपनी चुचियों को दबा लेते हो वह भी खुद से। आज मैं देख रही थी कि चुदाई के लिए मम्मी कैसे पागल हो गई थी। मम्मी बार-बार अंकल को कह दी थी जोर से चोदो जोर से चोदो।

और अंकल थे कि मम्मी को गालियां दे रहे थे ले रंडी मोटा लंड तू बहुत बड़ी छिनार है तू रंडी है देख तो कैसे गांड उठा उठा कर चुदवाती है। अपने पति से नहीं मन भरता है तो तुमने मुझे फोन करके बुलाया कि आप मेरी चूत की गर्मी शांत कर दे। मैं समझ गई फिर मनोज अंकल को मेरी मम्मी ने ही फोन किया था और बुलाया था चोदने के लिए। मम्मी नहीं कहा था अंकल को कि पापा घर पर नहीं है और आप आ जाओ। क्योंकि यह बात अंकल गालियां दे देकर कह रहे थे कि तुम कितने चुडक्कड़ है। मैं सब बात समझ रही थी कि मम्मी ही एक नंबर की छिनार निकली।


इसे भी पढ़ें  मेरी पहली चुदाई उसमे भी दो लड़के छोटी सी चूत और मोटा लंड

फिर यह भी लग रहा था कि जब पापा संतुष्ट नहीं कर पा रहे हैं तभी तो मम्मी मनोज अंकल को बुलाई है चोदने के लिए। फिर मैंने क्या देखा दोस्तों मैंने देखा कि वह दोनों 69 की पोजीशन में आ गए। यानी की मम्मी की चूत को अंकल चाट रहे थे और अंकल के लंड को चूस रही थी वह दोनों उलट गए थे। अंकल कह रहे थे मम्मी को आपकी चूत बहुत गर्म है। नमकीन पानी निकल रहा है। तो मम्मी बोल रही थी कि आप के लैंड से भी तो नमकीन पानी निकल रहा है।


फिर अंकल नीचे लेट गए अपना लंड पकड़ कर खड़ा किया सीधा किया मम्मी उस पर बैठ गई पूरा का पूरा लंड मम्मी की चूत में समा गया। अब मम्मी उछल उछल कर चुदवाने लगी और अंकल नीचे से धक्के दे रहे थे मम्मी ऊपर से अपना गांड गोल गोल घुमा रहे थे। मम्मी की बड़ी-बड़ी चूचियां अंकल के हाथ में आ भी नहीं रहा था वो जोर जोर से मसल रहे थे। यह सब देख कर मेरे से रहा नहीं गया मैंने तुरंत ही अपना पजामा नीचे किया पैंट्री नीचे की। और अपनी चूत में उंगली डालकर अंदर बाहर करने लगे।

इससे मुझे आराम मिलने लगा मैंने अपनी चुचियों को भी दबाना शुरू कर दिया और चूत में उंगली करना शुरू कर दिया। मेरी चूत काफी गर्म और गीली हो गई थी मेरे मुंह से सिसकारियां निकल रही थी मेरे होंठ बार-बार सूख रहे थे मैं बहुत ज्यादा कामुक हो गई थी। ऐसे में तो कोई भी काम हो जाए क्योंकि मम्मी और अंकल ऐसे कर रहे थे मानो फिल्म बना रहे हो। गदर की खूबसूरत मम्मी भी लग रहे थे और अंकल भी लग रहे थे शायद मम्मी अंकल के लिए ही सजी-धजी थी।


उसके बाद फिर से अंकल ने मम्मी को नीचे लिटाया दोनों पैरों को अपने कंधे पर रखा और अपना मोटा लंड मम्मी के गांड में घुसा दिया। मम्मी को बहुत जोर का दर्द हुआ और मम्मी कराहने लगी। तीन-चार धक्के देने के बाद मम्मी को अब ठीक लगने लगा और फिर से वह कहने लगे और जोर से दो और जोर से दो। मेरी चूत बहुत ज्यादा गीले हो गए थे दोस्तों क्या बताऊं कभी तो ऐसा लग रहा था कि मैं भी जाकर मम्मी के बेड पर जाकर सो जाऊं और अंकल को बोलो कि चोद दो मुझे भी।

इसे भी पढ़ें  सहेली के भाई विक्रम के साथ चुदवाकर शाम रंगीन हुई

1 घंटे तक मैं वही खिड़की के बाहर खड़े रहकर उन दोनों की चुदाई को देखि। जब दोनों शांत हो गए और अलग-अलग हो गए तब मैं भाग कर बाथरूम जाकर तुरंत वापस अपने कमरे में चली गई। पर मुझे पूरी रात नींद नहीं आई बार-बार मैं नॉनवेज story.com पर कहानियां पढ़ रहे थे और अपने चूत को और अपने चुचियों को मसल रहे थी। पर हां मैंने उस दिन ही सोच लिया था अब मैं अंकल का मोटा लंड लेकर रहूंगी जब मम्मी बुला कर चुदवा सकती है तो मैं क्यों नहीं।

और फिर दोस्तों एक दिन बात बन गई और मैंने उनको फोन करके बुला दिया फिर क्या हुआ मम्मी कहां गई पापा कहां गए और रात भर में कौन-कौन से पोज में उनके साथ सेक्स किया और उन्होंने मुझे किस तरीके से चोदा यह मैं आपको अगली कहानी में बताने वाली हूं। आप रोजाना नॉनवेज स्टोरी विजिट कीजिये मैं कभी भी कहानी लिखकर डाल सकती हूं।