बच्चेदानी तक लंड पहुंचाया हस्बैंड का दोस्त 2 दिनों तक चुदी रिसॉर्ट में

Resort Sex Story, Friends Wife Sex, Dost ki Wife Sex, Husband Friends Sex Story, आज मैं आपके लिए लाया हूं एक बेहतरीन हॉट सेक्सी और नई सेक्स स्टोरी।  यह सच्ची स्टोरी है अपने कई सारी सेक्स स्टोरीज पढ़ी होगी पर आज जो मैं सुनाऊँगी वह सबसे अलग होगा।  यह मैं आपसे वादा करती हूं।  सच तो यह है दोस्तों यह कहानी पुरानी भी नहीं है बिल्कुल नई और ताजी है और हॉट और सेक्सी।  कल की कहानी है कल रात की बात आपको बता रही हूँ।  उम्मीद करती हूं यह कहानी आपको कामुक कर देगी आपके अंतर्वासना जाग जाएगी।   तो सीधे कहानी पर ही आती हूँ। 

 मेरा नाम पुष्पा है मैं 28 साल की हूं।  मेरी शादी को 2 साल हुए हैं मैं गुडगांव में रहता हूं।  गुड़गांव दिल्ली के पास है आपको शायद पता होगा।  मेरे पति का होटल और रिसॉर्ट का काम है।  गुड़गांव में भी उनका रिसोर्ट है, उत्तराखंड में भी रिसॉर्ट है। मैं भी कंपनी में काम करती हूं पर सप्ताह में एक बार में घूमने भी जरूर जाती हूं।  मन हल्का हो जाता है जाकर।  मेरे पति का नाम राकेश है और उनका एक दोस्त है उसका नाम सतीश है।  सतीश एक बेहतरीन इंसान है उसकी शादी अभी नहीं हुई है।  पर हां होने वाली है नवंबर महीने में। 

 मेरे पति जहां भी जाते हैं सतीश भी जरूर साथ होते हैं क्योंकि दोनों एक दूसरे के बिना नहीं रह पाते हैं अच्छे दोस्त हैं कॉलेज समय से ही हैं।  बाय नेचर वह मुझे बहुत अच्छे लगते हैं वह केयर करते हैं वह इज्जत करते हैं और जो पुरुष किसी महिला की इज्जत करें शेयर करें तो उस पुरुष को हर एक महिला पसंद करते हैं।  तो सच पूछिए पति के अलावा मैं अगर किसी को पसंद करती हूं तो वह सतीश है। 

 शुक्रवार की बात है मैं मेरे पति और सतीश दिन में प्लान बनाया कि रात को गुड़गांव के रिजल्ट में ही इंजॉय करने हैं पार्टी  मनाने हैं।  शाम को 6:00 बजे हम लोग गुड़गांव से अपने रिजल्ट की तरफ से निकले।  पतिदेव पहले ही रिजॉर्ट के मैनेजर को बोल दिए कि हम आ रहे हैं मैडम भी है और सतीश भैया तो अच्छा से मटन बना कर रखना।  और पार्टी का इंतजाम कर देना वहां पर और दो कमरा अच्छे से साफ सफाई कर देना।  ताकि हम लोग को कोई दिक्कत नहीं हो।  मैनेजर ने कहा ठीक है सर आप लोग आइए इंतजाम अच्छा रहेगा आप लोग के लिए इंजॉय कीजिए। 

 शाम को जब निकले तो 8:30 के करीब हम लोग रिसॉर्ट  पहुंच गए।  पहले हम लोग पूल में जाकर करीब 1 से 2  घंटे तक  इंजॉय किए।  पूल में ही हम लोग  दो दो पेग लिए।  हमारे पत्ते बड़े ही खुले विचार के हैं।  तो मैं जो कपड़ा चाहती हूं वह पहनते हो जैसे चाहती हूं वैसे रहती हूं उन्होंने कभी मुझे रोका तो कर नहीं।  उस दिन पूल में स्विमसूट जो मेरा था वह काफी सेक्सी था।  सतीश बार-बार हमारे शरीर को घूर घूर कर देख रहा था क्योंकि मैं सेक्सी लग ही रही थी अगर मैं सेक्सी नहीं  देखूंगी तो कोई क्यों देखेगा।  और सच तो यह बात है दोस्तों के हर एक महिला चाहती है कि वह सुंदर दिखे।  और उसे लोग देखें पर पति चाहते हैं कि उसकी पत्नी को कोई नहीं देखी पर मेरा पति ऐसा नहीं है।  उन्होंने पूरी दुनिया देखी है रिजॉर्ट का काम है तुमको सब बात का पता है कि इंसान को कैसे रहना चाहिए कैसे जिंदगी जीनी चाहिए। 

कामुक और हॉट सेक्स कहानी  नशे में और एकांत में अपनी बेटी का हवस का शिकार बनाया

 फिर हम लोग पूल  से जब बाहर आए। अपने अपने कमरे में जाकर कपड़े चेंज किए मैंने भी एक सेक्सी नाइट गाउन पहन ली।  हम तीनों का खाना रूम में ही आ गया।  हम तीनों खाना खाए और बातचीत होने लगी।  वहां पर भी एक विस्की की बोतल हम लोग चट कर गए।  पर मेरे पति को भी भी और पीना था तो उन्होंने एक और बोतल मंगाया।  फिर से पेग बना  तभी मेरे पति के फोन पर एक मैसेज आया कि सर जल्दी कॉल करो अर्जेंट है। 

फोन उत्तराखंड रिजॉर्ट से था। वहां का मैनेजर बता रहा था।  कि कल 10:00 बजे रिजल्ट में कुछ बड़े लोग आने वाले हैं और आपको रहना बहुत जरूरी है क्योंकि कह रहे थे यहां पर शूटिंग होगी।  और वह लोग इसके लिए बहुत ज्यादा पैसे भी हम लोग को दे रहे हैं शायद कोई नेटफ्लिक्स पर शो आने वाला है उसी की शूटिंग होने वाली है। मेरे पतिदेव तभी बोले कि मुझे जाना होगा।  और मुझे अभी निकलना होगा मोटा बिजनेस आ रहा है तो उसको देखना जरूरी है।  जितना खाना पीना था इंजॉय करना था भी कर लिया और मैं अभी तुरंत उत्तराखंड के लिए निकल रहा हूं।  ड्राइवर को उन्होंने फोन किया ड्राइवर तुरंत आ गया और मेरे पतिदेव रात को 12:00 बजे ही उत्तराखंड के लिए निकल गए।  अक्सर वह ऐसा करते हैं कई बार वह रात में उठकर ही चले जाते हैं काम ही हम लोगों का ऐसा है कि कभी भी जाना पड़ जाता है ना दिन को दिन समझते हैं ना रात को रात समझते हैं।  जब वह चले गए तो हम दोनों बच्चे  हम दोनों फिर से एक-एक पेग बनाएं और पीने लगे।  सतीश ने सिगरेट निकाला हमें भी दिया खुद भी लिया हम दोनों सिगरेट भी पीने लगे। 

 यह सब करते करते इंजॉय करते करते पेग लेते लेते रात के 1:00 बज गए। हम दोनों नशे में थे।  जब आप नशे में होते हैं तो पराया भी अपना लगने लगता है आप दिल की बात बताने लगते हैं मैंने भी सतीश को अपने दिल की बात बताती।  हर एक लोगों को कुछ ना कुछ शिकायत होती है  पति के साथ भी मेरा एक शिकायत है कि वह सिर्फ अपना देखते हैं वह मेरा नहीं देखते।  मेरा कहने का मतलब यह है कि जब मेरे साथ वह सेक्स करते हैं तो जल्दी खलास हो जाते हैं गिरा देते हैं उनका जब मन हो जाता है वह हल्का हो जाते हैं।  पर कभी उन्होंने यह नहीं सोचा कि सामने वाली क्या सोचती है।  मैंने सतीश के साथ यह बात बोल दी नशे में हमेशा इंसान सही बात बोलता है। 

 तो सतीश ने बोला फिर भाभी जी आपकी सेक्स संबंध तो ठीक नहीं है मजे तो दोनों तरफ होनी चाहिए एक बंदा मजा ले ले और दूसरे  के बारे में सोचें नहीं यह तो गलत बात है।  और आप मेरा देखिए मेरी तो शादी हुई नहीं पर मेरी एक गर्लफ्रेंड है जो हमें कहते हैं कि तुम घोड़े हो इतना कोई सेक्स करता है।  मेरा जल्दी गिरता है नहीं मेरा खलास ही नहीं होता।  मेरी यह प्रॉब्लम है।  तो एक काम करते हैं आज रात हमें सेवा का मौका दें आपकी मनोकामना भी पूर्ण हो जाएगी और मेरी मनोकामना भी पूर्ण हो जाएगी। 

कामुक और हॉट सेक्स कहानी  दीदी के देवर से चुदाकर सेक्स का डर दूर हुआ

 जैसा आप चाहते हैं वैसा मैं भी चाहता हूं मैं चाहता हूं कि कम से कम 1 से 2 घंटे की चुदाई तो होनी ही चाहिए।  मुझे लगा कि आज मौका है पति भी नहीं है और मूड भी बन गया है और सामने वाला कहीं भी रहा है।  तो इसका फायदा क्यों नहीं उठाया जाए।  मैंने तुरंत ही अपना गाऊन खोल दी। ब्रा तो अंदर पहले नहीं थी मेरे दोनों बड़ी-बड़ी चूचियां बाहर आ गई।  सतीश मेरे करीब आकर बैठ गया अपना कपड़ा उतार दिया उसका बॉडी बड़ा ही बेहतरीन है मैं तुरंत ही उसके छाती पर किस कर ली उसने तुरंत ही मेरे दोनों बूब्स को पकड़ कर मसलने लगा। 

 दोनों के होंठ एक दूसरे में समा गए लिप लॉक हो गया।   वह मेरे होंठ को चूस रहा था मैं उसके होंठ को चूस रही थी।  जब आपको कोई नया माल मिलता है तो अंदर से वासना और भी ज्यादा भड़क जाते हैं।  ऐसा ही मेरे साथ हुआ तुरंत ही मैं कामुक हो गई ज्यादा देर भी नहीं लगा।  हम दोनों बेड पर आ गए मैं लेट गई।  सतीश ने व्हिस्की मेरी चूत  में डाल दिया और फिर वह चाटने लगा।  व्हिस्की और चूत  का कंबीनेशन ही गजब होता है दोस्तों कभी आप भी ट्राई करके देखना। 

 जब वह चाट रहा था मैं पागल हो रही थी सिसकारियां ले रही थी अंगड़ाइयां दे रही थी।  फिर मैं उसके लंड  को हाथ में लेकर खेलने लगी मोटा लंड  था लंबा था मेरे पति से ज्यादा बढ़ा था मैं खुश थे कि आज मोटे लंड   का मजा लूंगी।  मैं चाटने लगी मैं चूसने लगी  मैंने अपने दोनों पैर फैला कर लेट गई सतीश अपना मोटा लंड  पहले मेरी चूचियों के बीच में रखा और अंदर बाहर करने लगा वह उसका लंड  मेरे चुचियों पर जब रगड़ खा रहा था।  तो मेरे तन बदन में चिंगारियां  उठने लगे।  सेक्सी हो गई पूरे शरीर में सिहरन होने लगी है। 

 उसके बाद वह अपने लंड  को मेरे चौथ के ऊपर लगाया और जोर से पेल दिया।  सतीश का लंड  अंदर चला गया मैं  कराहने लगी। ओह्ह्ह्हह ओह्ह्ह्हह ओह्ह्ह्ह आए अअअअअ ऊऊओ आअह्ह्ह्हह अह्हह्ह्ह्ह अऔच उफ्फ्फ्फ़ करने लगी। वो अब मुझे पहले लगा वह जोर-जोर से मुझे चोदने लगा।  वह जोर जोर से धक्के देने लगा उसका आनंद इतना लंबा था कि मेरे बच्चे दानी तक जा रहा था पहली बार मुझे महसूस हो रहा था कि पेट के बीचो-बीच उसका लंड  पहुंच रहा था। 

 मुझे ऐसा ही चुदाई चाहिए था।  आज मुझे नसीब हुआ मेरा पूरा शरीर हिल जाता था हर एक झटके पर मेरे मुंह से आह निकल जाता था।  जब वो दोनों हाथों से मेरे चुचियों को मसल था तो ऐसा लगता कि मैं जन्नत में आ गई हूं।  मेरे होंठ सूखने लगे थे मेरी चूत  से बार-बार पानी निकल रहा था।  मेरी धड़कनें बढ़ गई थी और वह जोर-जोर से पेले जा रहा था।  ऐसी चुदाई आज तक कभी नहीं हुई थी।  ऐसा नसीब भी सबको नहीं होता है।  अलग अलग तरीके से अलग-अलग स्टाइल में कभी ऊपर से कभी नीचे से कभी बैठकर अभी साइड से कभी घोड़ी बनाकर कभी कुत्तिया बनाकर।  वह मजा आ गया दोस्तों।  रात को 3:00 बजे तक वह मुझे पेलते रहा।  और मैं मजे लेते रही। 

कामुक और हॉट सेक्स कहानी  ट्रेन में मिलिट्री के जवान से हुई चूत में ठुकाई

 आखिरकार मैं दो-तीन बार झड़ गई थी पर वह बंदा हार नहीं माना।  1 घंटे बाद वह फिर से चालू हो गया तब तक मैं उसके बाजू में सोई हुई थी।  यह रात मुझे हमेशा याद रहेगा जिंदगी भर।  सुबह 6:00 बजे उठकर फिर से मुझे चोदा।  दूसरा दिन सैटरडे का दिन था छुट्टी का दिन था मेरे पति का फोन आया कि रात में 9:00 बजे तक हम पहुंच जाएंगे।  तुम लोग रिसॉर्ट में ही रहना।  पर  उनका प्लान फिर से चेंज हो गया बोला कि मैं संडे सुबह आ पाऊंगा तो तुम लोग रात वहीं पर रुकना संडे को हम लोग फिर से इंजॉय करें। 

 तो दोस्तों सैटरडे हम लोग के लिए फिर बेहतरीन होने वाला था सैटरडे को दिन में करीब 2 से 3 बार उसने मुझे जन्नत दिखाए।  और रात में फिर हम दोनों व्हिस्की पी पी कर एक दूसरे को खुश करते रहे।  अब मैं उम्मीद करती हूं कि आने वाला दिन मेरा बहुत अच्छा रहेगा मैं ऐसे ही मजे लेते रहो मैं यही चाहती हूं।  दूसरी कहानी भी मैं जल्द ही नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर लिखने वाली हूं तो आपसे मैं अनुरोध करूंगा कि आप रोजाना आकर यहां पर कहानियां बड़े एक से एक बेहतरीन सेक्स कहानी सिर्फ इसी वेबसाइट पर होता है बाकी सब लोग तो बेकार की बातें  करते रहते हैं।  उम्मीद करती हूं कि आपको मेरे लिए सच्ची कहानी यानी कि सच्ची सेक्स कहानी चुदाई की कहानी अच्छी लगी होगी आपका बहुत बहुत धन्यवाद थैंक यू वेरी मच।